नमामि गंगे मिशन पर कहा, “चार धाम की पवित्रता समेटे है उत्तराखंड की देवभूमि” · केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा, “प्रधानमंत्री जी को देवभूमि से है गहरा लगाव”

प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड में 521 करोड़ की 6 परियोजनाओं का किया लोकार्पण

नमामि गंगे मिशन पर कहा, “चार धाम की पवित्रता समेटे है उत्तराखंड की देवभूमि”
· केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा, “प्रधानमंत्री जी को देवभूमि से है गहरा लगाव”

हरिद्वार, 29 सितंबर 2020:

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘नमामि गंगे’ मिशन के तहत उत्तराखंड में 521 करोड़ की 6 परियोजनाओं का लोकार्पण किया. इस अवसर पर केंद्र सरकार में जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत , केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक , उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत , एवं अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे.

मोदी  ने गंगा को समर्पित एक म्यूजियम ‘गंगा अवलोकन’, चंडीघाट में गंगा संरक्षण एवं जैव विविधता के लिए एक गंगा संग्रहालय, 230 करोड़ की लागत से बनने वाला हरिद्वार के जगजीपुर में 68 एमएलडी क्षमता वाले सीवेरज ट्रीटमेंट प्लांट, ऋषिकेश के लक्कड़ घाट पर 158 करोड़ की लागत से बनने वाले 26 एमएलडी क्षमता के सीवेरज ट्रीटमेंट प्लांट, मुनि की रैली वीरपानी में बनने वाले 39 करोड़ की लागत वाले सीवेरज ट्रीटमेंट प्लांट का लोकार्पण किया. इसके अलावा उन्होनें हरिद्वार के सराय में 13 करोड़ की लागत वाले सीवेरज ट्रीटमेंट प्लांट को अपग्रेड किये जाने को हरी झंडी दी.

 प्रधानमंत्री ने चार धाम की पवित्रता को अपने में समेटे देवभूमि उत्तराखंड की धरा को आदर पूर्वक नमन करते हुए कहा, ” यह गर्व का विषय है कि राज्य में गंगा को प्रदूषण से मुक्ति दिलाने वाले सभी 30 प्रोजेक्ट्स अब पूरे हो चुके हैं. इन परियोजनाओं की शुरुआत ‘नमामि गंगे’ मिशन के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी.”

माननीय मोदी ने कहा की सरकार गंगा में गंदे पानी को गिरने से रोकने के लिए पूरी तरह से कृत संकल्प्ति है और इसके पानी को निर्मल करने के लिए सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का जाल बिछाया जाएगा.

निर्मल गंगा की ओर से उत्तराखंड में प्रतिदिन 15.2 करोड़ लीटर दूषित जल अब गंगा में नहीं बहेगा, इसे गंगा सफाई अभियान से भी जोड़कर देखा जा रहा है.

इस मौके पर   प्रधानमंत्री ने कृषि कानूनों का विरोध करने वालों को आड़े हाथों लिया और कहा, “जो लोग कृषि सुधार कानूनों का विरोध कर रहे हैं वे नहीं चाहते कि किसानों को खुले बाजार में अपनी उपज बेचने की स्वतंत्रता मिले.
कृषि कानूनों का विरोध कर रहे लोग किसानों के खिलाफ हैं, वे चाहते हैं कि बिचौलिये पनपते रहे और किसान परेशान रहे.”
केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने केंद्र सरकार के उत्तराखंड में किये गए कामों के बारे में बताते हुए कहा, “उत्तराखंड में सड़कों के लिए केंद्र सरकार ने हजारों करोड़ रुपये की स्वीकृति दी है.
हरिद्वार से देहरादून, रुड़की से भगवानपुर जैसे कई शहरों के लिए सड़क बनाने के लिए स्वीकृति दी गई है.”

वही हरिद्वार से सांसद एवं केंद्रीय मंत्री डॉ निशंक ने यह भी बताया कि हर की पौड़ी के सौंदर्यीकरण का काम भी शुरू हो गया है जिसकी लागत 34 करोड़ रुपये है और साथ ही कुंभ के लिए हरिद्वार एवं ऋषिकेश में दर्जनों घाटों का निर्माण कार्य प्रगति पर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here