श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय, देहरादून

श्री गुरु राम विष्वविद्यालय की पाॅचवी अकादमिक काउसिल की मीटिंग का आयोजन किया गया जिसमें विष्वविद्यालय के 50 शिक्षक डीन तथा अधिकारी सम्मिलित हुये।
इस अवसर पर आनलाईन सदस्य विजय राय, मैनेजिंग डायरेक्टर, ए0पी0ई0एम0 एवं प्रो0 रष्मि गौर, डिपार्टमेन्ट आफ हुयुमिनिटिष एण्ड सोषल साईंस आई0आई0टी0 रुड़की विषेशज्ञों के रुप में  शमिल  हुये।
एकेडमिक काउंसिल की अध्यक्षता  गुरु राम राय विष्वविद्यालय के कुलपति डा0 यू0एस0 रावत जी द्वारा की गई।
एकेडमिक काउंसिल द्वारा गहन विचार विमर्ष के उपरान्त निम्नलिखित निर्णय लिये गयेः-
1. विश्वविद्यालय में स्कूल आफ इन्जीनियरिंग की स्थापना की जायेगी जिसके अन्तर्गत एग्रीकलचर इन्जीनियरिंग, सिविल इन्जीनियरिंग एवं कम्प्युटर साईंस इन्जीनियरिंग खोले जायेंग।
2. इस साल  से रोजगार परक शार्ट   ट्रम कोर्स के रुप में ओ0टी0 टेक्नीशियन , स्पा थेरेपी, इलेक्ट्रीषियन, पलम्बर, कारपेन्टर, सर्टिफिकेट कोर्स इन कम्प्युटर भी खोले जायेंगे।


3. इस साल  से श्री गुरु राम राय विष्वविद्यालय में स्कूल आफ हुम्युनिटिष आफ सोसल साईंस के अन्र्तगत स्नातक स्तर पर  ग्रह विज्ञान, ड्राईंग एण्ड पेन्टिंग, म्युजिक नये विशय खोल जा रहे हैं इसके अतिरिक्त स्नातकोत्तर स्तर पर गृह विज्ञान, ड्राईंग एण्ड पेन्टिंग, म्युजिक नये विशय खोल जा रहे हैं। उत्तराखण्ड में पहली बार अपनी संस्कृति को बढ़ावा एवं पहचान देने के उद्देष्य से स्नातक व परास्नातक स्तर पर गढ़वाली भाशा तथा संस्कृति विशय का आरम्भ किया जा रहा है।
4. विष्वविद्यालय में स्थापित स्कूल आफ एग्रीकलचर के अन्तर्गत स्नातकोत्तर स्तर पर एम0एस0सी0(हाॅर्टिकल्चर), एम0एस0सी0(सीड साईंस एण्ड टेक्नोलोजी), एम0एस0सी0(प्लान्ट पेथोलोजी), एम0एस0सी0(सोयल साईंस), एम0एस0सी0(ईन्टोमोलोजी) के विशय भी खोले जायेंगे।
मशरुम खेती को बढ़ावा देने के उद्देष्य से वैज्ञानिक तकनीकों का उपयोग किया जायेगा।  खेती  को बढ़ावा देने के उद्देष्य से जैविक खेती की विधियों का भरपूर उपयोग किया जायेगा, जिसके लिये बायो-फर्टिलाईजेषन को बढ़ावा दिया जायेगा। खेती  की विभिन्न क्षेत्रों मे षोध को बढ़ावा देने के उद्देष्य से विष्वविद्यालय ने फलोरा फोना र्साइंस फाउन्डेषन के साथ एम0ओ0यू0 साईन किया गया।

5. विष्वविद्यालय द्वारा इस सत्र् में एन0सी0सी0 को भी खोला जायेगा।

अकादमिक काउंसिल की कार्यवाही विष्वविद्यालय की समन्वयक प्रो0(डा0) मालविका काण्डपाल द्वारा की गई तथा धन्यवाद ज्ञापन कुल सचिव डा0 दीपक साहनी द्वारा दिया गया।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here