मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र दा के खिलाफ बड़ा षडंयत्र विफल हो गया !

राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के लिए अछी ख़बर नैनीताल से आई है क्योकि उनके खिलाफ चल रहा एक षडयंत्र विफल हो गया है! आपको बता दे कि नैनीताल ढैंचा बीज घोटाला मामले में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। हाई कोर्ट ने  जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी की इस मामले की जांच कराने को लेकर दायर जनहित याचिका को खारिज कर दिया है
आपको बता दे कि भाजपा के नेता रहे और जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने याचिका दायर कर कहा था कि कृषि विभाग द्वारा 2005-06 में खरीफ की फसल का उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानों को ढैंचा बीज वितरण की योजना बनाई गई। 2010 में ढैंचा बीज घोटाला हुआ था। मांग से अधिक बीज खरीदा गया। बीज निर्धारित दरों से 60 फीसद अधिक दाम में खरीदा गया। याचिका में यह भी कहा गया था कि त्रिपाठी आयोग की जांच रिपोर्ट के बाद आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। याचिका में इस घोटाले की सीबीआइ जांच करने व त्रिपाठी आयोग की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की मांग की गई थी।

आपको बता दे कि सरकार की ओर से पेश महाधिवक्ता एसएन बाबुलकर व मुख्य स्थायी अधिवक्ता परेश त्रिपाठी ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता राजनीतिक व्यक्ति हैं। पूर्व में भाजपा नेता रह चुका है और जीएमवीएन के उपाध्यक्ष भी रहे हैं। उनके द्वारा राजनीतिक द्वेष व पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर याचिका दायर की गई है, जो ग्राह्म नहीं है, लिहाजा खारिज किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ यह आदेश पारित कर चुकी है कि जांच आयोग की रिपोर्ट स्वीकार करने के लिए सरकार बाध्य नहीं है।
जिसके बाद कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद याचिका को खारिज कर दिया। आपको बता दे कि ढैंचा बीज घोटाला मामले को लेकर गाजियाबाद के जयप्रकाश डबराल भी जनहित याचिका वापस ले चुके हैं। बहराल त्रिवेन्द्र सरकार जीरो टालरेश के साथ काम कर रही लिहाज़ा मुख्य्मंत्री त्रिवेन्द्र रावत के खिलाफ पिछले 15 महीनों से षडयंत्र जारी है पर वो कहते है ना कि सच कभी ना कभी सामने आ ही जाता है मुखिया से चिढ़े नेता हर कीमत पर त्रिवेन्द्र रावत को मानसिक रूप से परेशान करने का काम करते है पर साच को आंच नही ।ये त्रिवेन्द्र है बस इतना समझ लीजिए जनाब क्योंकि त्रिवेन्द्र के ऊपर त्रिदेव का आशीष है जो जीरो टालरेश के लिए वरदान है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here