घायल धाविका गरिमा जोशी की मदद लिए आगे आएं समाजसेवी पहाड़ पुत्र माताश्री मंगला जी एवं पहाड़ पुत्र श्रीभोले महाराज

स्वास्थ्य-शिक्षा के साथ-साथ देश के 27 राज्यों में अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति के बेहतर जीवन परिवेश एवं देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बसे गांव में विकास की अलख जगाने के लिए कार्य कर रहे समाज सेवी पहाड़ पुत्री माता मंगला जी एवं पहाड़ पुत्र श्री भोले जी महाराज जी घायल ऐथलीट गरिमा जोशी की मदद के लिए आगे आएं है।

आपको बता दें कि उत्तराखंड अल्मोड़ा के चिलियानौला गांव की धाविका गरीमा जोशी को बंगलूरू में अभ्यास के दौरान 31 मई 2018 को एक अज्ञात वाहन ने टक्कर मारकर घायल कर दिया था। जिसके कारण गरिमा की रीढ़ की हड्डी बुरी तरह फ्रैक्चर हो गई थी और पैरों ने काम करना बंद कर दिया था। पहले उसका उपचार कर्नाटक मणिपाल अस्पताल में चला। इसके बाद वह दिल्ली स्पाइनल इंजरी सेंटर में उपचार करा रही है।

जिसके बाद घायल धाविका गरिमा जोशी के उपचार में मदद के लिए कई लोगों ने सहयोग किया। इस कड़ी में पहाड़ पुत्री माताश्री मंगला जी एवं पहाड़ पुत्र श्री भोले जी महाराज जी गरीमा जोशी की मदद के लिए आगे आएं है। माता मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज ने गरीमा के उपचार के लिए साढ़े पांच लाख रुपये की धनराशि अस्पताल के खाते में जमा करा दी है। माता मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी ने गरीमा जोशी के जल्द स्वस्थ होने की कामन के साथ अपने संदेश में कहा हैं कि यह बच्ची हमारे खेल रत्नों में से एक हैं,और जिन संघर्षों के साथ यह बच्ची यहां तक पहुंची है। हम प्रभु से प्रार्थी हैं कि गरीम जल्द से जल्द से स्वस्थ होकर खेल मैदान में लौटे और हमारे देश और प्रदेश का नाम दुनिया में रोशन करें।

इस मौके पर गरीमा जोशी के पिता जी पूरन चंद्र जोशी ने अपनी पुत्री एथलीट गरिमा जोशी को हंस फाउंडेशन की ओर से मिले सहयोग के लिए माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी मराहाज का आभार प्रकट हुए कहा कि हमारी बेटी को माता मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज का आशीर्वाद मिला है। अब हमें उम्मीद हैं कि हमारी बच्ची जल्दी ठीक होकर एक बार फिर से खेल के मैदान में लौटेगी। गरीमा के पिताजी ने बताया कि गरिमा की मां का फेफड़े के कैंसर की वजह से निधन हो चुका है। परिवार पर टूटी इस आपदा के बीच मेरी नौकरी भी चली गई है। लेकिन आज मेरी बेटी के इलाज के लिए इतने लोगों हमारे साथ खड़े है.इस लिए हम अब परेशान नहीं है। हम पहाड़ पुत्री माताश्री मंगला जी एवं श्रीभोलेजी महाराज जी का कोटी-कोटी आभार प्रकट करते हैं।

धाविका गरीमा जोशी ने कहा अपने इलाज के लिए सहयोग करने के लिए माताश्री मंगला जी एवं श्रीभोलेजी महाराज जी का धन्यवाद करते हुए। हादसे को याद करते हुए बताया कि 2018 मई में जब मुझे 10 किलोमीटर की राष्ट्रीय स्तर की रेस में भाग लेने बेंगलुरु जाना था तब राज्य सरकार ने प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए 25 हजार रुपये की धनराशि दी थी। उस दौड़ में मैं छठे स्थान पर रही, लेकिन वहां मेरा ऐक्सिडेंट हो गया और दोनों पैर खराब हो गए। जो कुछ मेरे साथ हुआ मैं सोच भी नहीं सकती कि यह सब क्यों और किस लिए हुआ। लेकिन आज समाज सेवी माता मंगला जी एवं श्रीभोलेजी महाराज जी हमारे साथ खड़े हैं। उम्मीद जगी है कि मैं फिर से अपने देश और प्रदेश के खेल पाऊंगी।

आपको बता दें कि गरिमा का चयन मई 2018 को बंगलूरू में इंटरनेशनल एसोसिएट ऑफ एथलेटिक्स फेडरेशन की ओर से आयोजित होने वाली हाफ मैराथन के लिए हुआ था। प्रतियोगिता में गरिमा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए देशभर के करीब 11 हजार एथलीटों के बीच छठा स्थान हासिल किया। इसके बाद मणिपाल में होने वाली अगली प्रतियोगिता के लिए गरिमा बंगलूरू में रहकर अभ्यास करने लगीं। 31 मई 2018 को अभ्यास से लौटते समय एक कार ने गरिमा को टक्कर मार दी और वह गंभीर घायल हो गईं थी। बहराल पहाड़ पुत्री माता मंगला जी ओर पहाड़ पुत्र भोले जी महाराज को बोलता उत्तराखंड की तरफ से बहुत बहुत धन्यवाद।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here