खेल मंत्री जी यहा जुगाड़ की सिफारिश नही चलेगी!

 

उत्तराखंड राज्य मे यहा के नोजवानो मे हुनर कूट कूट कर भरा हुवा है फिर वो क्षेत्र कोई सा भी हो और खास कर जब बात क्रिकेट की आये तो अगर ठीक से यहा के युवाओ को मौका दिया जाए ,ईमानदारी से चयन हो तो राज्य के 13 जिलो से ही आपको 13 धोनी निकलर आते दिखेंगे पर दुर्भाग्य है यहा के उन युवाओँ का जिनका कोई गॉडफादर नही होता और बिना जुुुगाड़ की सिफारिश के चलते उनको मौका नही मिल पाता

आजकल क्रिकेट में खिलाड़ियों के चयन को लेकर राज्य में भी विवाद शुरू हो गया है. आपको बता दे कि क्रिकेट खिलाड़ियों के एक संगठन ने प्रदेश में बीसीसीआई द्वारा गठित कमेटी के निर्णय पर सवाल उठाये हैं. उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों का ट्रायल अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी में चल रहा है, जो नियमों के खिलाफ है.

 

आपको बता दे कि एक क्रिकेट एकेडमी के सदस्यों ने अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी में चल रहे ट्रायल के तरीकों पर प्रश्न चिन्ह खड़े किये हैं. एकेडमी के सदस्यों ने बताया कि कमेटी द्वारा उत्तराखंड में बीसीसीआई द्वारा मान्य चार क्रिकेट एसोसिएशन से ट्रायल के लिये 100 नामों का चयन होना था. जिसमें ट्रायल की प्रक्रिया ओपन होनी चाहिये थी, लेकिन ऐसा नहीं किया जा रहा है.
उन्होंने राजस्थान का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि राजस्थान में गठित बीसीसीआई द्वारा टीम राजस्थान ने जैसे चयन प्रकिया अपनाई थी, वहीं यहां भी होना चाहिए. उन्होंने बताया कि राजस्थान में डिस्ट्रिक मैचेस होने के बावजूद पारदर्शिता अपनाने के लिये ओपन ट्रायल आयोजित किये गये. लेकिन उत्तराखंड में इसके विपरीत 100 खिलाड़ियों का चयन बिना किसी आधार के कर दिया गया. ।जिसके चलते कही प्रतिभावान खिलाड़ियों को इसमें जगह नहीं मिल पाई है. जिसके बाद से खिलाड़ियों और क्रिकेट प्रेमियों में नाराजगी के साथ-साथ मायूसी भी है. उनका कहना। है कि यहा बिना जुगाड़ की सिफारिश। के कुछ नही हो सकता अगर आपके पास रुपैया ओर सिफारिश दोनों है तो आपको एंट्री मिल जाएगी बाकी ये क्रिकेट है यहा तो वही टिकेगा जिसमे प्रतिभा होगी  
तो वही उत्तराखंड क्रान्ति दल ने भी बीसीसीआई द्वारा उत्तराखंड प्रदेश की रणजी विजय हजारे दिलीप ट्राफी के लिये प्रदेश की टीम के चयन के लिये हो रहे ट्रायल पर बडे सवाल खडे किये हैं. यूकेडी ने जिलाधिकारी के माध्यम से प्रदेश के राज्यपाल से इस पर दखल देने की मांग की है. यूकेडी का कहना है कि देहरादून मे 100 खिलाडियों का चयन कर ट्रायल कर बीसीसीआई द्वारा प्रदेश की टीम को चुनने का निर्णय लिया है. उत्तरांखड प्रदेश की टीमों में जिन 100 खिलाडियों का चयन होना है उसमे से उत्तराखंड से कितने और अन्य प्रदेशों से कितने है इस पर बढा़ सवाल उठाया है यूकेडी का कहना है कि वो प्रदेश के महामहिम राज्यपाल से इस पूरे प्रकरण मे दखल अंदाजी कर प्रदेश की टीम के लिये किये जा रहे ट्रायलों को कम से कम ब्लाक स्तर नहीं तो जिला स्तर पर करने की मांग कर रहे है जिससे प्रदेश की प्रतिभाओं को भी मौका मिल सके.  
तो दूसरी तरफ बीजेपी नेता जोगेंद्र पुंडीर से जब बोलता उत्तराखंड़ ने फोन पर बात की तो उन्होंने कहा कि राज्य के उन नोजवानो मे जिनमे क्रिकेट कूट कूट कर भरी है अगर उनके साथ खिलवाड़ किया जा रहा है तो ये गलत है खिलाड़ियों के चयन के तरीकों को लेकर मेरे पास भी कही नोजवानो के फोन आये ओर कुछ अभिभावको के भी ,बहुत से लोगो ने कहा है कि यहा नियम की अनदेखी की जा रही मेने पुरी बात को सुना है ओर सरकार तक भी पूरी बात पहुचा दी है अगर कही भी जरा सा भी गलत हम राज्य के नोजवानो के साथ उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ नही होने देंगे  बहराल बोलता है उत्तराखंड  कि   जिनको  आज तक मौका नही मिला जिनके अंदर  क्रिकेट  भरी है  जो हमारे पहाड़ के  नोजवान है उनके  अगर चयन   नही किया जा रहा है  तो इस पूरे मामले को खेल मंत्री को स्वय देखना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here