ऐसे में कैसे बनेगा पर्यटन प्रदेश, और कैसे होगा उत्तराखंड कैशलेस

धनोल्टी के मौसम और वादियों का लुत्फ़ लेकर हर सैलानी धनोल्टी का दीवाना हो जाता है। यहां की वादियां हर मौसम में सैलानियों को आकर्षित करती हैं। टिहरी जिले के धनोल्टी में घूमने के लिए हर सैलानी यहां अपना वक्त निकालकर ज़रुर आना चाहता है। लेकिन जैसे ही सैलानी धनोल्टी के बाज़ार की तरफ जाते हैं तो वे निराश हो जाते हैं। दरअसल जब उन्हें पता चलता है कि जिस दौर में पीएम मोदी देश को कैशलेस बनाने की बात कर रहे हैं उस वक्त भी लाखों सैलानियों को अपनी ओर खींचने वाली हसीन धनोल्टी में कोई ATM नहीं है। लिहाजा पर्यटकों को धनोल्टी बाजार में खरीददारी में काफी दिक़्कते आती हैं। एक ओर उत्तराखंड को पर्यटन प्रदेश बनाने का सपना साकार करना हैं तो वहीं दूसरी ओऱ सवाल ये उठता है की पिछले सत्रह सालों में किसी भी सरकार के दौर में ATM जैसे मामूली इंतजामात धनोल्टी जैसे ख़ूबसूरत पर्यटक स्थल में क्यों नहीं हो पाये। क्या ऐसे में उत्तराखंड को पर्यटन प्रदेश बनाने का सपना साकार हो पायेगा यह एक बड़ा सवाल है।

Leave a Reply