उत्तराखंड कांग्रेस ने जीरो टालरेंस वाले सीएम रावत पर सस्ती जमीन खरीदने का लगाया आरोप, भाजपा की तरफ से हुवा पलट वार विद्यायक मुना चौहान बोले कांग्रेस पर हमला ।


सुनो उत्तराखंड लोकसभा चुनाव के नतीजे जल्द आपके सामने होंगे पर उससे ठीक पहले उत्तराखंड कांग्रेस ने उत्तराखंड के जीरो टालरेंस वाले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी उत्तराखंड मै औने-पौने दामों पर जमीन खरीदने का आरोप लगाया है। उत्तराखंड विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष करन माहरा ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह समेत कई कांग्रेस नेताओं के सामने देहरादून के कांग्रेस कार्यलय में जीरो टालरेश वाले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का पार्टनर संजय गुप्ता को बताया और फिर जमकर हमले बोले। वही कांग्रेस ने पूरे मामले की हाईकोर्ट के सिटिंग जज से जांच कराने और मुख्यमंत्री से इस्तीफा देने की मांग की। प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि इस मामले में लोकसभा चुनाव की आचार संहिता खत्म होने के बाद कांग्रेस आंदोलन करेगी। वहीं, भाजपा ने भी इस पूरे मामले को लेकर कांंग्रेस पर पलटवार करने में देर नहीं की।
आपको बता दे कि प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में मंगलवार दोपहर मीडिया से बातचीत में विधायक करन माहरा ने आरोप लगाया कि जीरो टालरेंस वाले ईमानदार मुख्यमंत्री का पार्टनर संजय गुप्ता को बताया और कहा कि दोनों ने मिलकर नवंबर, 2016 से 31 जुलाई, 2017 तक चामासारी क्षेत्र में लगभग 16 बीघा जमीन सस्ते में खरीदी। उन्होंने कहा कि नदी किनारे जमीन खरीदने के बाद जमीन से लगती नदी पर करोड़ो की लागत से सूर्याधार झील बनाने की घोषणा की। जमीन खरीदने के छह महीने बाद 25 दिसंबर, 2017 को मुख्यमंत्री ने संजय गुप्ता के साथ झील निर्माण का शिलान्यास और भूमि पूजन भी किया।
उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री की पत्नी और संजय गुप्ता की पत्नी के नाम पर चामासारी स्थित संयुक्त जमीन की रजिस्ट्री 27 जुलाई, 2012 को की गई। इसके बाद 20 नवंबर, 2012 को फिर संयुक्त नामों से जमीन की रजिस्ट्री की गई। इसके बाद संजय गुप्ता ने आठ नवंबर, 2016 को वहीं जमीन खरीदी। आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री के झील बनाने की घोषणा से करीब छह महीने पहले संजय गुप्ता ने जमीन खरीदी। करन माहरा ने संजय गुप्ता के स्टिंग की ऑडियो-वीडियो क्लिपिंग भी जारी की।
आपको बता दे कि स्टिंग को लेकर आयुष गौड़ का नाम पहले भी उछल चुका है। उधर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह और उपनेता प्रतिपक्ष करन माहरा ने दावा किया कि उक्त भूमि खरीद से मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की पोल खुल गई है। हरिद्वार-बरेली एनएच-74 मुआवजा घपले में भी सरकार ने आज तक सीबीआइ जांच नहीं कराई। लोकायुक्त का गठन आज तक नहीं किया गया।
तो उधर भाजपा के विधायक मुना सिंह चौहान ने कांग्रेस पर पलट वार करते हुए कहा कि सूर्यधार में मुख्यमंत्री और परिजनों की नहीं एक इंच भी जमीन
कांग्रेस के आरोप पर भाजपा ने तुरंत पलटवार किया। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने साफ किया कि सूर्यधार में मुख्यमंत्री और उनके परिजनों की एक इंच जमीन भी नहीं है। जिस भूमि की कांग्रेस बात कर रही है, वह सूर्यधार से लगभग 30 किलोमीटर दूर चामासारी में है। मुख्यमंत्री 2017 के विधानसभा चुनाव में इसे सार्वजनिक भी कर चुके हैं। उन्होंने यह भी कहा कि यदि सूर्यधार में यदि मुख्यमंत्री और उनके परिजनों की कोई भूमि निकली तो वह और मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत इस्तीफा दे देंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने लोस चुनाव में अपनी स्थिति की आहट को महसूस कर लिया है। इसीलिए वह जनता को गुमराह कर रही है। इसके लिए कांग्रेस को जनता से माफी मांगनी चाहिए।
भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में भाजपा प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने जिस प्रकार से मनगढ़ंत कहानी बनाकर इसके आधार पर मुख्यमंत्री और उनके परिवार के चरित्रहनन की कोशिश की, वह शर्मनाक व दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कांग्रेस के आरोपों का बिंदुवार जवाब दिया।
चौहान ने कहा कि सूर्यधार परियोजना को 2016 में कांग्रेस सरकार ने स्वीकृति दी। जिन संजय गुप्ता का कांग्रेस नाम ले रही है, उनके द्वारा सूर्यधार में 2016 में भूमि ली गई थी। उन्होंने कहा कि संजय गुप्ता की पत्नी और मुख्यमंत्री की पत्नी के नाम 2017 और 18 में भूमि की जो रजिस्ट्री हुई, वह सूर्यधार से 30 किमी दूर चामासारी में है। इसका सूर्यधार से कोई संबंध नहीं है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में सूर्यधार प्रोजेक्ट की लागत 48 करोड़ थी। 2017 में भाजपा सरकार बनने के बाद इस प्रोजेक्ट के टेंडर निरस्त किए गए। प्रोजेक्ट को 30 करोड़ तक लाया गया। यानी 18 करोड़ की बचत की गई। परियोजना की झील की ऊंचाई भी दो मीटर बढ़ाई गई। इससे साफ है कि किसकी नेक नीयती कैसी है। उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री ने इस परियोजना का शिलान्यास किया, तब उनके द्वारा लोगों से अपील की गई थी कि वे अपनी जमीनें न बेचें। इसका वीडियो भी उन्होंने मीडिया को दिखाया। उन्होंने कहा कि राह चलते लोगों के बयानों के आधार पर चीजें कहना गलत है। यह विरोधियों का षड़यंत्र है। ओर बार बार विधायक चौहान ने जोर देते हुए कहा कि यदि कही से भी जीरो टॉलरेंस वाले मुख्यमंत्री जी की गलती निकलती है। और सूर्यधार मै उनके परिजनों की जमीन निकली तो सीएम त्रिवेन्द्र ओर खुद मुना सिंह चौहान अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।
बहराल अब तक जो भी ख़बर या जानकरी आपको दी गई है ये सब कांग्रेस और भाजपा के बयान पर दी गई है।अगर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत जी का बयान आया तो उसे भी छापा जाएगा।
पर जो सवाल इस बीच खड़े हुए है वो ये है कि क्या मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के खिलाफ फिर से षड़यंत्र आरम्भ हो गया है?
अगर षडयंत्र हो रहा है तो कर कोंन रहा है या करवा कोन रहा है ?
ये संजय गुप्ता नाम का व्यक्ति है क्या ?
क्यो इसके स्टिंग बाहर निकले ?
ये संजय गुप्ता सच बोलने वाला है या झूठा? संजय गुप्ता के किस किस से है सबंध ?
क्या संजय गुप्ता ईमानदार सीएम त्रिवेन्द्र रावत को बदनाम कर रहा है ?
अगर हां या ना तो फिर भाजपा या सरकार संजय गुप्ता के खिलाफ एक्शन कब लेगी या लेगी भी नही ?

सवाल बहुत है और तर्क भी   इसलिए सही बात को जनता के आगे लाया जाएगा चाहे समय लग जाये ।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here