2021 का झण्डा आरोहण मातावाला बाग में करवाने का विचार:- श्री झण्डा मेला आयोजन समिति के पदाधिकारियों, सदस्यों व संगतों ने एक बैठक कर यह रायशुमारी की कि संगतों की बढ़ती संख्या व सुरक्षा कारणों के मद्देनज़र श्री झण्डा जी परिसर के आसपास का क्षेत्र कम पड़ता दिखाई दे रहा है।

सुरक्षा व जन सामान्य की सुविधा को देखते हुए क्यों न वर्ष 2021 का श्री झण्डा जी आरोहण के आयोजन का कार्यक्रम मातावाला बाग में कराया जाए। यद्धपि अभी इस बारे में एकमत राय नहीं बन पाई है। श्री झण्डा जी आरोहण के धार्मिक व आधात्मिक पक्ष का पूर्णं अध्ययन एवम् अवलोकन करने के बाद ध्वजारोहण के स्थल के बदलाव में कोई निर्णय लिया जा सकता है।
काबिलेगौर है कि प्रतिवर्ष श्री झण्डे जी मेले में शामिल होने वाली संगतें व श्रद्धालओं की संख्या बढ़ रही है। सभी श्रद्धालु श्री झण्डे जी आरोहण के दिव्य दृश्य को देखना चाहते हैं, लेकिन कम जगह, संकरी रोड और आसपास जीर्ण शीर्ण प्राचीन भवन और कमजोर छतों के यह सम्भव नहीं हो पाता है। साथ ही सुरक्षा के दृष्टिकोण से यह उचित भी नहीं लग रहा है।

इस बार के झण्डारोहण में पुलिस, प्रशासन व संगतों की सूझबूझ व मजबूत इरादों व सराहनीय प्रयासों से भगदड़ व अनहोनी होने से बच गई। मातावाला बाग में पर्याप्त समतल, सीधा मैदान उपलब्ध है। इसमें लाखों श्रद्धालु श्री झण्डे जी आरोहण का नयनविराम दृश्य देख सकते हैं। सुरक्षा के दृष्टिकोण से भी यह स्थान काफी सुरक्षित है।


87 वर्षीय सरदार श्री जगतार सिंह ने बताया कि पिछले 58 सालों से वह श्री झण्डा जी आरोहण प्रक्रिया के सक्रिय सेवादार रहे हैं। मौसम चक्र परिवर्तन व लागातार हो रही बारिश के कारण ध्वज दण्ड को सूखने का समय ही नहीं मिल सका, इससे ध्वज दण्ड में लचक आ गई। प्रकृति की बदलती हुई फिजा से अब हमें ध्वज दण्ड के नये विकल्पों जैसे अष्टधातु के ध्वजदण्ड के बारे में सोचना चाहिए। वही
संगतों व श्री दरबार साहिब प्रबन्ध समिति में अष्टधातु के ध्वजदण्ड के बारे में सहमति बनती जा रही है।

पंचमी तिथि के बारे में अफवाह गलत
श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने इस अफवाह का पूरी तरह खण्डन किया कि इस वर्ष श्री झण्डा आरोहण होली के पांचवें दिन के बजाय तीसरे दिन किया गया। उन्होनें कहा कि विद्वान राजपुरोहितों व विशेषज्ञ आचार्यों ने शास्त्रों व पंचांग का गहन अध्ययन करने के बाद ही इस वर्ष के लिए श्री झण्डे जी आरोहण की तिथि (13 मार्च 2020) की तिथि घोषित की थी। काशी विद्वत सभा ने 13 मार्च 2020 शुक्रवार को पंचमी तिथि बताया है। शास्त्रों के अनुसार तिथियां, त्योहार-पर्व आगे पीछे होते रहते हैं। कभी होली चैत्रवदी पंचमी से तीन दिन पहले व कभी चार व पाॅच दिन पहले पड़ती है, अधिकांशतयः पाॅचवें दिन पड़ती है। इसलिए लोगों में श्री गुरु राम राय महाराज जी के जन्मदिवस की तिथि के बारे में भ्रम हुआ। उन्होंने तिथि के बारे में फैली अफवाहों का पूरी तरहं खण्डन करते हुए 13 मार्च की तिथि को शास्त्रों व पांचांग के अनुरूप बिल्कुल सही तिथि बताया।
जाको राके साइंयां मार सके न कोई
श्री झण्डा जी मेला आयोजन समिति ने अरदास की कि हम सभी का जीवन उस परम पिता परमेश्वर के हाथों में सुरक्षित है। जिनकी रक्षा स्वयं भगवान, सदगुरु करते हैं उनका कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता है। श्री झण्डा आरोहण, धार्मिक अनुष्ठान व नगर परिक्रमा सुख शांति पूर्वक सम्पन्न हो गए हैं। अनावश्यक रूप से अफवाहों व इधर उधर की बातों में न उलझें। भविष्य के लिए सबक लेते हुए श्री झण्डा जी मेला आयोजन की व्यवस्था को और मजबूत बनाने के लिए गम्भीर और सार्थक प्रयास किए जाएंगे। श्री गुरु राम राय जी महाराज का आशीर्वाद सभी पर बना रहे।
अन्य राज्यों से आई अधिकांश संगतें वापिस लौटीं
श्री दरबार साहिब में शाम को खुशी का प्रसाद वितरित होने के बाद अन्य राज्यों से आई अधिकांश संगतें बसों, ट्रेनों व निजी वाहनों से अपने ग्रह जनपद लौट गईं। श्री महाराज जी ने कोरोना वायरस के प्रति संदेश में कहा कि लोग भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी एडवाइज़री का अनुपालन करें। सभी अपने स्वास्थ्य का ध्यान करें। सफाई पर ध्यान दें खुद भी जागरूक हों व दूसरों को भी जागरूक बनाएं। यह भी सुखद रहा कि मेला आयोजन के दौरान कोई भी व्यक्ति कोरोना संदिग्ध नहीं पाया गया।

वर्ष 2020 के लिए झण्डा मेला सम्पन्न
श्री झण्डा मेला आयोजन समिति ने प्रशासन के साथ बैठक कर इस वर्ष के झण्डे मेले के समापन की घोषणा कर दी है। श्री दरबार साहिब परिसर के अंदर होने वाले धार्मिक अनुष्ठान, श्री झण्डा आरोहण व नगर परिक्रमा के बाद रविवार शाम को मेला सम्पन्न करने का निर्णय लिया गया है। मेला व्यवस्थापक श्री केसी जुयाल ने बताया कि देश के कोने कोने से संगतें श्री झण्डे जी आरोहण के लिए पहुंचती हैं इसलिए धार्मिक व आस्था से जुड़ी हुई आवश्यक गतिविधियों को पूरा कर मेला सम्पन्न किए जाने की घोषणा कर दी गई है। हमने प्रशासन के साथ मिलकर श्री दरबार साहिब परिसर के बाहर लगने वाली दुकानों व मेले सम्बन्धित सभी आयोजनों को बंद करने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। देश भर मै कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता व बचाव कारणों के मद्देनज़र रविवार शाम को मेला सम्पन्न किए जाने की घोषणा की गई।


गुरु के रंग में रंगी रहीं संगत
लाई-लाई-लाई-लाई-लाई बाबे ने फुलां दी बरखा लाई………….,आज दी घड़ी बाबा जी रोज़-रोज़ आवे…………., मेला खुशियां दां आंदा है हर साल मेला खुशियां दा…………. फुल बरसांदी जांवा राह तेरे फुल बरसांदी जांवा, फड लै मेरियां बांवा दातया फुल बरसांदी जांवा…………., हर इक दी ओ सुणदां, ऐसे दाता मेहर लगाई, जिन्नी करई ओनी थोडी मेरे साहिब दी बढ़याई ऐ-मेरे साहिब दी वढेआई ए …………. जैसे भजनों पर संगतों ने जमकर नृत्य किया। नगर परिक्रमा के दौरान पूरी हर्ष-उल्लास व उमंग के साथ संगत गुरु के रंग मैं रंगी दिखी। नगर परिक्रमा में शामिल होने के लिए संगत में भारी उत्साह देखा गया। ढोल की थाप पर संगतों ने नृत्य किया व श्री गुरु महाराज के सिमरन में भेंटें गाई।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here