इस पिकनिक ने ले ली एक नोजवान की जान परिवार पर टूटा दुखो का पहाड़!

बोलता उत्तराखंड़ के लिए कोटद्वार से संजीव नेगी की रिपोर्ट।                                                                कहते है जब किसी की मौत आनी होती है तो ये खुद रास्ते निकला लेती है और दे जाती है परिवार वालो को गहरा दर्द ये दर्द और दुःखद घटना पहाड़ से आई आज पूरा कोटद्वार का बाज़र अतिक्रमण के खिलाफ बंद था मानो उनके लिए अवकाश का दिन हो और हुवा भी यही एक व्यापारी का पुत्र अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए (सिद्बबली )खोह नदी में लालपुल के पास गया तो वहां उसके पानी में डूबने से संदिग्ध मौत की जानकारी मिली ये दुःखद घटना शुक्रवार को सांय लगभग 4 बजे की है       आपको बता दे कि स्थानीय व्यापारी रविन्द्र फूल का 26 वर्षीय पुत्र अम्बर फूल अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए खोह नदी में लालपुर के पास गये। पर उसे क्या मालूम था कि ये उसकी ज़िन्दगी की आखरी पिकनिक होगी आस पास के लोगो ने घटना के बारे में चर्चा के दौरान बताया कि वे नदी में बैठे हुये थे।।                           इसी दौरान नदी का जल स्तर अचानक से बढ़ गया। जिसमें से उसके तीन दोस्तों ने भागकर जान बचाई, किन्तु अम्बर का पैर फंस जाने के कारण वह भाग नहीं पाया और पानी के तेज बहाव में बह गया। इस घटना की जानकारी पुलिस को मिली ग्रास्टनगंज के ग्रामीणों ने सूचना दी कि नदी के किनारे किसी युवक का शव पड़ा हुआ है।                 पुलिस ने मौके पर पहुंचकर परिजनों से शव की शिनाख्त कराई जो लालपुल से बहे अम्बर का निकला। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया है। कोतवाली में तैनात उपनिरीक्षक अशोक सिरसवाल ने बताया कि अम्बर के शव का पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम के लिए राजकीय बेस चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवा दिया है। शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जायेगा। उधर घटना की सूचना मिलते ही शहर के सारे व्यापारी ने चिकित्सालय पहुंचकर मृतक के परिजनों को सांत्वना दी। वही मृतक के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।।          बोलता उत्तराखंड आप सबको सावधान करता है कि कोई भी इस मौसम मे या कभी भी पानी के बीचों बीच ना बेठे पहाड़ो की नदियों का जल स्तर कभी भी बढ़ जाता है क्योकि बरसात लगातार हो रही है इसलिए आप सावधानी बरतें यही हमारी आप सब से अपील है और आप सब लोगो को भी जागरूक करे क्योकि हस्ता खेलता परिवार मे कब मातम का साया पढ़ जाए कोई नही जानता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here