देहरादून: कोरोना का असर बच्चों की पढाई पर भी पड़ा है। उत्तराखंड के कई स्कूलों में छात्र से शिक्षक भी इस वायरस की चपेट में आ रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार, इसी के चलते इस शैक्षिक सत्र में होम एग्जाम नहीं कराए जाएंगे। पांचवीं से नौवीं और 11वीं के छात्रों को बिना परीक्षा लिए अगली कक्षा में प्रोन्नत कर दिया जाएगा।

हालाँकि प्राइवेट स्कूलों को परीक्षा लेने की छूट दी जाएगी। ये परीक्षायें ऑनलाइन-ऑफलाइन दोनों मोड में हो सकती है। इस साल केवल बोर्ड की परीक्षाएं ही कराई जाएंगी।

वहीं हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों में इस साल सर्दियों की छुट्टीयां भी मुश्किल हैं। आमतौर पर मैदानी इलाकों में एक से 13 जनवरी तक अवकाश रहता है। उच्च पर्वतीय  क्षेत्रों में 26 दिसंबर से 31 जनवरी तक छुट्टियां रहती हैं। इस साल कोरोना महामारी की वजह से आठ महीने से ज्यादा वक्त तक स्कूल बंद रहे। सर्दियों की छुट्टियों से माध्यमिक स्कूलों को मुक्त रखे जाने पर विचार किया जा रहा है। बाकी स्कूल फिलहाल बंद ही हैं।

छात्रों ने कोरोना काल में चुनौतियों का सामना किया है, जानकारी के अनुसार, ऐसे में शिक्षा महकमा उन पर परीक्षा लादना नहीं चाहता। माना जा रहा है कि, नौवीं और 11वीं के छात्र बोर्ड परीक्षा को लेकर स्वयं गंभीर रहते हैं। इसलिए उन्हें अगली कक्षा में सीधा प्रोन्नत किया जाएगा। फिलहाल इसका प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। अनुमोदन के बाद इसके आदेश जारी कर दिए जाएंगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here