महिला दिवस पर वे सब बोले हरीश रावत शर्म करो , ओर क्यो उत्तराखंड मे बोला जा रहा है अनिल बलूनी जिंदाबाद , पूरी ख़बर आपके सरोकार की ,

709

हमारे उत्तराखंड के पहाड़ पुत्र , देवभूमि के देवदूत ओर उत्तराखंड से राज्यसभा सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने आज उत्तराखंड मैं पर्वतों की रानी मसूरी को 124 करोड़ की पेयजल योजना की सौगात दी है। अब मसूरी के नागरिकों और होटल व्यवसायियों को टैंकर राज से मुक्ति मिलेगी। इस बात की जानकारी मिलते ही मसूरी वासियो ओर व्यापारियों ने अनिल बलूनी जिंदाबाद के खूब नारे लगाए। उत्तराखंड के लोकप्रिय अनिल बलूनी को लेकर पहाड़ो की रानी मसूरी की मातृशक्ति भी आज महिला दिवस पर बोली कि हमारे पहाड़ पुत्र ने महिला दिवस पर हम्हे सबसे बड़ी सौगात दे डाली तुम जुग जुग जियो बलूनी।
जी हां पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने कहा कि उन्होंने गत वर्ष मसूरी के प्रबुद्धों के साथ बैठक में वचन दिया था कि वह मसूरी के पेयजल संकट हेतु ठोस समाधान करेंगे, मसूरी विधायक गणेश जोशी ने हाल में मसूरी की जनता का अनुरोध पत्र भी उन्हें सौंपा था।
पहाड़ पुत्र बलूनी ने कहा की नैनीताल की पेयजल योजना की स्वीकृति भी मसूरी पेयजल योजना के साथ होनी थी। प्रारंभिक तौर पर नैनीताल पेयजल योजना की लागत 169 करोड़ थी किंतु विशेषज्ञों की रिपोर्ट में नैनीताल के पेयजल समाधान हेतु खैरना में एक बैराज की आवश्यकता बताई गयी। उसके लिए झील निर्माण हेतु 200 करोड़ का आकलन अतिरिक्त प्रस्तुत किया गया। अब इस योजना का सकल आकार साढ़े तीन सौ करोड़ से अधिक हो गया है।ओर योजना की स्वीकृति अंतिम चरण में है।
हमारे पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने कहा कि मसूरी और नैनीताल विख्यात पर्यटन केंद्र हैं जिससे राज्य की आर्थिकी की और पर्यटन की पहचान जुड़ी हुई है। प्रधानमंत्री मोदी जी का उत्तराखंड के प्रति स्नेह निरंतर समय-समय पर प्राप्त होता रहा है और उत्तराखंड को उत्कृष्ट राज्य बनाने के लिए वह निरंतर प्रयासरत है।
पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी के लगातार प्रयास के ही नतीजे है कि आज उत्तराखंड को ये मालूम चल रहा है कि एक राज्य सभा सांसद क्या नही कर सकते अगर वो चाहे तो ओर क्या कुछ नही कर सकते वो लोकसभा सांसद अगर चाहे तो ।क्या गढ़वाल क्या कुमाऊ सबने एक साथ बोला है कि हमारे बेटे बलूनी ने नेताओ को बता दिया है कि काम कैसे किया जाता है। यही नही पहाड़ की महिलाएं तो ये तक बोल पड़ी की हमने ना राजबब्बर के काम को देखा ना प्रदीप टम्टा के ।लिहाज शर्म हरीश रावत को आनी चाइये ओर पूरी कांग्रेस को क्योकि उन्होंने ही राजबब्बर ओर प्रदीप टम्टा जैसे नेताओं को उत्तराखंड से राज्य सभा सांसद बनाया पर क्या किया इन दोनों ने आज तक उत्तराखंड के लिए ? अपनो सासंद नीधि तक ये अभी तक ठीक से विकास के लिए खर्च नही कर रहे है। क्या इन्होंने जिलाधिकारीयो को ये बोला है कि जो कमीशन दे उसको ही काम देना नही तो चुप रहो। नही करेंगे सांसद नीधि ठीक से खर्च
अब ये बात बन्द कमरे मै कुछ कांग्रेस के ही चाहने वाले बोलने लगे है तो भाजपा के सभी नेता ये भी बोल रहे है कि देखो हमारे बलूनी जी है ना अब फर्क समझो। ओर राज्य सभा सांसदों मै । वही
विकास के लिए कुमाऊँ से लेकर पहाड़ की जनता बोल रही है की अब बलूनी जी है सो फिक्र की बात नही ।और फिर हमारा सांसद कैसा हो बलूनी बेटा जैसा हो ये मातृशक्ति कहने लगी है।
ओर गलत भी क्या है पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी अपने काम को जानते है कि उन्हें क्या करना है।और कैसे करना है।और ऊपर क्या तर्क रखने है जिससे जनहित के कार्य हो सके। पर दुःख इस बात का है कि पहाड़ के लोग हरीश रावत ही नही पूरी कांग्रेस को कोसते है कि इनके बनाये राज्यसभा सांसद क्या कर रहे है और क्या इन्होने किया। बहराल उत्तराखंड के लोगो के लिए पहाड़ पुत्र बलूनी जिस तरह काम कर रहे है उससे जनता बहुत खुश है। जो बाकी सांसदों के गाल पर तमाचा है वो भी डंके की चोट पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here