हड़ताल ओर भ्रष्टाचार बर्दाश्त नही – सीएम त्रिवेन्द्र रावत

पूरे भारत मे आज आजादी की 71वीं वर्षगांठ धूमधाम से मनाई गई। देवभूमि मे भी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने ऐतिहासिक परेड ग्राउंड में ध्वजारोहण किया।
आपको बता दे कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने
राज्य की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने राज्य को एक नई दिशा दी है, ओर राज्य सरकार राज्य को इतनी तेजी से आगे बढ़ा रही है जिसकी कल्पना राज्य बनने के बाद की गई थी।
मुख्यमन्त्री ने शहीदों को भी याद किया


राज्य की जनता को स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि उन्हें गर्व होता है कि वह ऐसे राज्य के मुख्यमंत्री हैं, जहां पर हर एक घर से एक फौजी पैदा होता है। उत्तराखंड के शहीद जवानों को याद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने शहीदों के लिए और उनके परिवारों के लिए नए-नए कदम उठाए हैं जिसके बाद युवा पीढ़ी को सेना के प्रति और जागरुक किया जा सकेगा। सीएम ने कहा कि आज देश में जहां भी सीमा की सुरक्षा में जवान तैनात हैं उन जवानों में से उत्तराखंड के भी जवान मां भारत की रक्षा में लगे हैं। यही नही मुख्यमंत्री ने एनएच 74 को लेकर अधिकारियों पर कटाक्ष भी किया 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य का विकास मौजूदा सरकार कर रही है। सरकार में आने के बाद भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया है और इसका उदाहरण है एनएच 74 घोटाले में कई अधिकारी जेल में बंद हैं। मुख्यमंत्री रावत ने अधिकारियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और जो लोग भी इस भ्रष्टाचार में मौजूद हैं उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। 

इसके बाद
मुख्यमंत्री ने जहां अपने कर्मचारियों की तारीफ की, वहीं उन्हें नसीहत भी दी। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि आज प्रदेश में काम करने का तरीका बदल रहा है और कर्मचारी पहले से बेहतर काम करने लगे हैं। वहीं कर्मचारियों को नसीहत देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने साफ कह दिया कि कर्मचारियों की हड़ताल को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब तक वह मुख्यमंत्री हैं तबतक इस राज्य को हड़ताली प्रदेश बनने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि राज्य के लिए गौरव की बात है कि राज्य की जीडीपी में पिछले दिनों बढ़ोत्तरी हुई है और राज्य में प्रति व्यक्ति की आय में भी बढ़ोत्तरी हुई है।  
तो दुसरी तरफ
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने राज्य में शिक्षा की बदहाली पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि बहुत दुख होता है कि राज्य में शिक्षा का स्तर बहुत खराब है, लेकिन उनकी सरकार आने के बाद से लगातार सरकार प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में घटती छात्रों की संख्या बेहद चिंताजनक है। लिहाजा राज्य सरकार को कुछ कड़े और बड़े कदम उठाने की जरूरत है जो आने वाले समय में राज्य में शिक्षा की बेहतर व्यवस्था के लिए जरूरी और सफल साबित होंगे। 
सीएम ने अपने भाषण में कहा कि केंद्र की मदद से लगातार राज्य सरकार किसानों की आय दोगुनी करने के प्रयास में लगी है और इसमें सरकार 2 प्रतिशत ब्याज दिया जा रहा है, जिससे किसान अच्छी तरीके से अपने रोजगार को आगे बढ़ा सकता है। सीएम ने पलायन आयोग पर बात करते हुए कहा कि हमने राज्य से पलायन रोकने के लिए अलग से आयोग का गठन किया, जिसकी रिपोर्ट में जो खुलासे हुए वह बेहद चिंताजनक हैं, लिहाजा हम पलायन रोकने के लिए भी लगातार प्रयास कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि उनकी सरकार आने के बाद से प्रदेश में पर्यटकों की संख्या में इजाफा हुआ है और इसका जीता जागता उदाहरण है इस साल चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़। उन्होंने कहा कि राज्य में 13 नए डेस्टिनेशन 13 जिलों में बनाए जा रहे हैं जो राज्य के पर्यटन को एक नई दिशा और दशा देंगे।
सीएम ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी सरकार अच्छा काम कर रही है। राज्य में 75 प्रतिशत डॉक्टर हैं। ओर 27 लाख परिवारों की आयुष्मान भारत की योजना से जोड़ा जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here