गोवंश की सुरक्षा पर सवाल

*गोरक्षा वाहिनी ने उत्तराखण्ड में गोवंश की सुरक्षा पर उठाए सवाल*

देहरादून। डेरी की आड़ में गोकशी करने वाला गिरोह पकड़े जाने पर राष्ट्रीय गोरक्षा वाहिनी के उत्तराखण्ड प्रभारी सादाब अली ने उत्तराखण्ड में गोवंश की सुरक्षा पर सवाल खड़े किए है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में गोवंश की सुरक्षा के लिए वे लगातार आवाज उठाते आ रहे है। किन्तु उनकी किसी भी स्तर पर कोई सुनवाई नही हो रही है।
सादाब अली ने कहा कि उन्होने शासन प्रशासन को लगातार अवगत कराया कि उत्तराखण्ड में शासन प्रशासन की उपेक्षा के चलते गोवंश की बेकद्री हो रही है। अब खेतों से बैलों का काम लगभग खत्म हो गया है तो पैदा होने के बाद अधिकांश लोग बछड़ों को या तो बेच रहे है या फिर उन्हे आवारा छोड़ रहे है। यह समस्या दिन प्रतिदिन गंभीर रूप ले रही है। ऐसे में सरकार को गोवंश की सुरक्षा के लिए नए सिरे से नीति बनानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिसमें गोरक्षकों को भी शामिल किया जाना चाहिए। सादाब अली ने कहा कि उत्तराखण्ड की राजधानी से डेरी की आड़ में गोकशी जैसी घटनाओं को सरकार व प्रशासन को गंभीरता से लेना चाहिए। तभी गोवंश सुरक्षा अधिनियम प्रभावी रूप से काम कर सकेगा।

Leave a Reply