ख़बर उत्तराखंड से
महत्वपूर्ण चार धाम परियोजना

 

चंबा शहर के नीचे फर्स्ट क्लास सुरंग बनकर तैयार
केंद्रीय मंत्री गडकरी ने किया था कल ऑनलाइन निरीक्षण।
अक्टूबर से चंबा शहर के नीचे से  दौड़ेंगे वाहन

 

चंबा में ऑलवेदर रोड की सुरंग का काम पूरा हो गया है। इसके तहत सुरंग के उत्तर और दक्षिण पोर्टल्स को मिलाया गया है।
अब सुरंग में कंकरीट बिछाने के साथ ही अन्य निर्माण कार्य अक्टूबर से पहले पूरे कर लिए जाएंगे।
आपको बता दें कि घनी आबादी वाले क्षेत्र में सुरंग का निर्माण कार्य चुनौतीपूर्ण था।

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत ने केंद्रीय मंत्री गडकरी का आभार जताया और बीआरओ सहित भारत कंस्ट्रक्शन, के निदेशक को बधाई दी।    

जी हां सीमा सड़क संगठन ने प्रतिष्ठित चारधाम परियोजना के लिए ऋषिकेश-धरासू
हाईवे(एनएच-94) पर घनी आबादी वाले चंबा शहर के नीचे एक सुरंग के निर्माण में एक बड़ा मील का पत्थर हासिल किया है।


बता दे कि इस सुरंग के उत्तर और दक्षिण पोर्टल्स से मिलाने का कार्य कोरोना वायरस संक्रमण की चुनौतियों और लॉकडाउन के बीच पूरा किया गया।
भूमि अधिग्रहण, कमजोर भूविज्ञान, निरंतर जल निकासी और सुरंग के ऊपर घना निर्मित क्षेत्र होने के कारण नीचे बैठने की संभावना के मद्देनजर सुरंग का निर्माण चुनौतीपूर्ण कार्य था। 

जानकरीं अनुसार
सीमा सड़क संगठन ने जनवरी 2019 में सुरंग के उत्तर पोर्टल पर काम शुरू किया था, लेकिन दक्षिण पोर्टल पर काम राज्य सरकार के सक्रिय समर्थन से सभी हितधारकों की संतुष्टि के लिए सुरंग के ऊपर भूमि मुआवजा और मकानों की सुरक्षा के मुद्दों का समाधान करने के बाद ही अक्टूबर 2019 के बाद शुरू हो सका।
बता दे कि महत्वपूर्ण योगदान मैसर्स भारत कंस्ट्रक्शन, देहरादून द्वारा प्रदान की गई आधुनिक तकनीक और मशीनों के उपयोग से ये सब कुछ सम्भव हो पाया
वही सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कल कहा था कि प्रतिष्ठित चारधाम परियोजना में सीमा सड़क संगठन एक महत्वपूर्ण हितधारक है और इस सुरंग की सफलता से यातायात को गति देने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी बताया कि चंबा सुरंग के निर्माण में नवीनतम ऑस्ट्रियाई तकनीक का उपयोग किया है। सुरंग जनवरी 2021 में पूरी होने की निर्धारित तिथि से लगभग तीन महीने पहले अक्टूबर 2020 तक यातायात के लिए तैयार होगी।
4.2 किमी सड़क और 440 मीटर सुरंग का निर्माण 87 करोड़ की लागत से किया जा रहा है। 

आपको बता दें कि लगभग 12,000 करोड़ रुपये की लागत वाली प्रतिष्ठित चारधाम परियोजना के तहत सीमा सड़क संगठन 249 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कर रहा है, जो गंगोत्री और बदरीनाथ के पवित्र मंदिरों की ओर जाता है। अधिकांश कार्य डेडलाइन से आगे प्रगतिशील हैं और अक्टूबर 2020 तक पूरा करने के लिए पांच परियोजनाएं हैं।

नितिन गडकरी ने सीमा सड़क संगठन के महानिदेशक ले. जनरल हरपाल सिंह, चीफ इंजीनियर आशु सिंह राठौर और उनकी टीम को पिछले दो सालों में राष्ट्रीय महत्व की महत्वपूर्ण परियोजनाओं को पूरा करने के लिए  उनको ओर भारत  कंस्ट्रक्शन, को भी अपनी बधाई दी।

वहीं, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी का आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने बॉर्डर रोड ऑर्गनाईजेशन के अधिकारियों, इंजीनियरों और कर्मचारियों ओर
मैसर्स भारत कंस्ट्रक्शन, के निदेशक मालिक रणवीर पवार व राजीव गर्ग को भी बधाई दी है। सीएम ने कहा सुरंग से न केवल चम्बा कस्बे में जाम से मुक्ति मिलेगी, बल्कि गंगोत्री और यमुनोत्री का सफर भी आसान होगा। इससे क्षेत्र को लोगों को बड़ी राहत मिलगी और वहां आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि होगी। 

आपको बता दे कि इससे पहले भारत कन्स्ट्रक्शन के निदेशक रणवीर पवार ओर राजीव गर्ग व उनकी टीम में देहरादून की डांट काली सुरँग का निमार्ण कार्य किया था वो भी तय समय से बहुत पहले,जिसके लिए तब  भी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने
बेहतरीन ,व गुडवत्ता के  साथ समय से पहले कार्य करने पर भारत कन्स्ट्रक्शन के निदेशक रणवीर पवार ओर राजीव गर्ग को अपनी बधाई दी थी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here