त्रिवेंद्र तेरे राज में : उत्तराखंड की आर्थिक स्थिति संभलने के संकेत हर 30 दिन में 700 करोड़ का राजस्व !

उत्तराखंड सरकार के राजस्व से हर 30 दिन में आ रहे है 700
करोड , वही खर्च में भी आई तेजी

अब त्रिवेंद्र सरकार ने भी नई योजनाओं के बारे में सोचना आरम्भ कर दिया है

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ओर उनकी टीम जिस तरह लगातार उत्तराखंड को इस कोरोना आपदा से बाहर निकालने का प्रयास कर रहे है अब उसके रिजल्ट के तौर पर सकेंत मिलने आरम्भ हो गए है
जी हा राज्य की अर्थव्यवस्था के उबरने के संकेत मिलने लगे हैं।
लॉकडाउन की वजह से पटरी से उतरी गाड़ी को पटरी पर चढ़ा दिया गया है जो अब अपना काम करने लग गई है तभी तो उत्तराखंड सरकार की आय में लगभग 700 करोड़ रुपये प्रति माह हो रही है पर खर्च भी बड़ा है।
हम ये नही कह रहे है कि हालात बेहतर हो गए या बहुत बेहतर हो गए है ।
लेकिन इसमें सुधार के संकेत मिले हैं।
ओर अगर स्थिति यही रही तो त्रिवेंद्र सरकार आने वाले समय में नई योजनाएं भी लेकर आ सकती है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र स्वयं इसके सकेंत दे रहे हैं।
ओर मुख्यमत्री सौर ऊर्जा योजना से इसकी शुरुआत भी की जा सकती है।
मीडिया रिपोर्ट कहती है कि

नियोजन विभाग की ओर से 30 जून तक के किए गए आकलन से भी इसकी पुष्टी हो रही है। एक तरफ खर्च बढ़ा है तो दूसरी तरफ जीएसटी, स्टांप आदि से राजस्व में भी इजाफा हुआ है।
क्योकि लॉकडाउन में यह आय ना के बराबर थी। 

30 जून तक नियोजन की समीक्षा के मुताबिक
राज्य सेक्टर
बजट प्रावधान-43662 करोड़
स्वीकृति-14483 करोड़
खर्च-5892 करोड़

केंद्र पोषित योजनाएं
बजट-9621 करोड़
स्वीकृति-2311 करोड़
खर्च -961 करोड़
बाह्य सहायता
बजट-1577 करोड़
स्वीकृति-109 करोड़
खर्च-24 करोड़

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत कह चुके है कि अर्थव्यवस्था के उबरने के संकेत मिल रहे हैं। अगर रुख सकारात्मक रहा तो आने वाले समय में प्रदेश सरकार नई योजनाओं को फ्लोट करने की स्थिति में भी होगी। इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था को और अधिक बल मिलेगा। 
बहराल उम्मीद करते है कि इस कोरोना काल से जल्द से जल्द अपना उत्तराखंड उभरे ।
ओर प्रदेश की तेज़ी के साथ अर्थव्यवस्था सुधरे
प्रचण्ड बहुमत ओर डबल इंजन की सरकार के प्रयास से उत्तराखंड तेज़ी से आगे बढ़ता नजर आए ।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here