काश पुलिस समझ जाती, तो नहीं होता छात्रा के साथ गैंगरेप !

राज्य के अंदर मुहीम चली है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की और अस मुहीम में राज्य की सरकार से लेकर राज्य के अधिकारी हो या पुलिस प्रशासन वो भी बढ़-चढ़ कर भाग ले रहा है, लेकिन अगर आज हम आपको ये कहें की मित्र पुलिस की लापरवाही से भी गैंगरेप जैसी वारदातें हो जाती है तो यह कहना ग़लत नहीं होगा। भले ही महिला सुरक्षा के लाख दावे और बातें की जा रही हों लेकिन रुड़की के इमलीखेड़ा गांव की ख़बर ने उत्तराखंड को शर्मशार कर दिया। मामला रुड़की के इमलीखेड़ा गांव का है। जहां तीन वहशी दरिंदों ने शौच के लिए गई छात्रा के साथ रेप की वारदात को अंजाम दिया है। पीड़ित छात्रा ने बताया की तीनों आरोपी  उसके गांव के ही हैं पीड़ित छात्रा का कहना है कि कॉलेज आते जाते समय भी तीनो युवक उसके साथ छेड़छाड़ करते थे। जिसकी शिकायत इमली पुलिस चौकी से कई बार की गई लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाही नही की और तीनों आरोपीयो ने मौका पाकर सुनसान जगह पर छात्रा को हवस का शिकार बना दिया अगर पुलिस सही समय पर आरोपी युवको के खिलाफ कार्रवाही कर देती तो शायद यह घटना नहीं होती। ये कहना है पीड़ित लड़की की बहन का। बहरहाल आरोपी अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है पर लड़की के परिवार वालों के बयान को अगर गम्भीरता से लिया जाए तो कहीं ना कहीं रुड़की पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा होता है। क्योंकि छेड़-छाड़ की शिकायत पीड़ित लड़की चौकी में कई बार कह चुकी थी। पर अफसोस पुलिस एक्शन में नहीं आ पाई। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन करने में जुटी है

 

Leave a Reply