ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा कब, इसी सत्र में या 9 नवम्बर को ?

गैरसैंण- भराड़ीसैंण में विधानसभा बजट सत्र की शुरूआत का आज पहला दिन था, जो सिर्फ हंगामें और हंगामे की भेंट चढ़ा। गैरसैण को स्थाई राजधानी बनाने की मांग को लेकर उत्तराखंड क्रांति दल के सैकड़ों लोगों ने स्थाई राजधानी बनाने की मांग को लेकर भराड़ीसैण की विधानसभा कूच किया था। जिनको भारी पुलिस बल ने विधानसभा तक नहीं पहुंचने दिया। पुलिस के साथ धक्कामुक्की और नोकझोंक उन सभी लोगों की हुई जो मांग कर रहे थे की गैरसैण को स्थाई राजधानी बनाया जाए।

उधर बजट सत्र की शुरूआत महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण से हुई। इस बीच भी विपक्ष अभिभाषण के दौरान हंगामा करता रहा। विपक्ष कह रहा था की सरकार बताये स्थाई राजधानी कहां ?  गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने की मांग को लेकर कांग्रेस ने हंगामा भी जमकर काटा। हंगामे के दौरान ही राज्यपाल डॉ कृष्ण कान्त पाल ने अभिभाषण पढ़ा। अभिभाषण के बाद कांग्रेस के हंगामे के चलते स्पीकर ने सदन को तीन बजे तक स्थगित कर दिया।

आपको बता दें आगामी वित्तीय वर्ष का बजट वित्त मंत्री प्रकाश पंत 22 मार्च को सदन में पेश करेंगे।

राज्यपाल के अभिभाषण के मुख्य बिंदु ये रहे-

अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों के संचालन में छात्र छात्राओं को निशुल्क बीमा योजना का लाभ।

क्षेत्रीय भाषाओं को प्रोत्साहित करने का सरकार कार्य कर रही है काम।

जीएसटी लागू करने में उत्तराखंड ने निभाई अग्रणी भूमिका।

उर्दू अकादमी एवं पंजाबी अकादमी द्वारा उत्कृष्ट पुरस्कार योजना सरकार कर रही है संचालित।

विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लगभग 11 सौ हेक्टेयर क्षेत्रफल में फलदार वृक्षों का वृक्षारोपण छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत अल्पसंख्यक समुदाय के ऐसे सभी छात्र छात्राओं को छात्रवृत्ति देने की व्यवस्था।

अवस्थापना सुविधाओं का सृजन एवं खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए सरकार कर रही है कई योजनाओं का संचालन।

सांस्कृतिक धरोहर एवं संरक्षण संवर्धन तथा सर्वांगीण विकास के लिए नृत्य नाटक एवं लोक संगीत आदि का विकास और उनका प्रचार-प्रसार राज्य के परियोजनाओं कार्यों के अनुश्रवण के लिए मुख्यमंत्री डैशबोर्ड के तहत समस्याओं का त्वरित निस्तारण।

औद्योगिक विकास के क्षेत्र में उच्च विकास दर पाने वाले सर्वोच्च राज्यों में से एक राज्य बना है उत्तराखंड।

वन एवं वन्य जीवों के संरक्षण की दिशा में सरकार ने कई उपलब्धियां पाई।

प्रदेशवासियों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता।

 

विपक्ष के हंगामे के बाद तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया था, फिर जब सदन की कार्रवाई शुरू हुई तो विपक्ष ने फिर सदन में जमकर हंगामा काटा और इसी हंगामें के बीच विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने बजट सत्र की कार्रवाई को कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया है। अब बुधवार को दोबारा सत्र की कार्रवाई 11 बजे से शुरू होगी।

जो सवाल आज गैरसैण में उठ रहे थे, वो सवाल ये थे की क्या सरकार इसी सत्र में गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा करेगी ? या सरकार 9 नवम्बर राज्य स्थापना दिवस के दिन गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा करेगी। क्योंकि अब सवाल उठना लाज़मी है। आपको बता दें की विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के संकल्प पत्र में गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की बात कही गई थी और सूत्र ये बताते हैं की भाजपा हाईकमान ने यहां पर हामी भी भर दी है की गैरसैण ग्रीष्मकालीन राजधानी बनेगी। अब भाजपा सही वक़्त और मौके के इंतज़ार में है की वो गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा कब करती है। सूत्र ये भी बताते हैं की अभी सब कुछ अगर ठीक-ठाक रहा तो राज्य स्थापना दिवस के दिन भारतीय जनता पार्टी गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा कर सकती है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here