17 साल बाद फिर बड़े आंदोलन की आहट, क्या घबरा रही है सरकार !

एक बार फिर गैरसैण की गूंज उठी है। उत्तराखंड को मिले स्थाई राजधानी के रुप में गैरसैण इसको लेकर सभी जिलों में लोग हरकत में आ गए है. प्रदेश भर में जगह-जगह गैरसैंण को राजधानी बनाने की मांग आग की तरह फैल रही है.

डांग निवासी संजय कुमार घिल्डियाल गैरसैंण को प्रदेश की स्थायी राजधानी बनाने की मांग को लेकर आगामी तीन मार्च से श्रीनगर के गोला पार्क पर आमरण अनशन शुरू करेंगे।

उपजिलाधिकारी श्रीनगर के माध्यम से इसी मुद्दे को लेकर संजय कुमार घिल्डियाल ने मुख्यमंत्री को प्रेषित पत्र में कहा है कि गैरसैंण राजधानी आम जनता की मांग है और इसे अनसुना कर सरकार ने तानाशाह और जनविरोधी होने का परिचय दिया है और जिस तरह से गैरसैण में मातृ शक्ति का अपमान किया गया है आगे से ऐसा नहीं होने देंगे और अब गैरसैण को लेकर ही रहेंगे। सरकार पर आरोप लगाते हुए संजय घिल्डियाल ने कहा कि गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने को लेकर सरकार जनता को गुमराह करती आ रही है। अब उत्तराखंड की जनता में गैरसैण को लेकर आक्रोश है। गैरसैंण राजधानी को लेकर तीन मार्च से श्रीनगर के गोला पार्क में बेमियादी आमरण अनशन शुरू करेंगे। जिसकी सूचना उपजिलाधिकारी श्रीनगर और कोतवाल को भी दे दी गयी है।

जानकारी के मुताबिक़ सरकार जब गैरसैण में बजट सत्र कर रही होगी उस दौरान भी हज़ारों की तादात में स्थानीय लोगों के साथ मिलकर समाजसेवी संगठन राज्य आंदोलनकारी और उत्तराखंड क्रांति दल गैरसैण में सरकार को घेरने का काम करेंगी और मांग होगी की सरकार गैरसैण को स्थाई राजधानी घोषित करे।  बहरहाल जिस तरह से पूरे प्रदेश में एक बार फिर गैरसैण को स्थाई राजधानी बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है उस से सरकार को एहसास हो गया होगा की अब की बार उठ रहे आंदोलन को शांत करना इतना आसान नहीं होगा। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here