ख़बर दुःखद है आपको बता दे कि बेंगलुरू स्थित हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड हवाई अड्डे पर भारतीय वायुसेना का मिराज 2000 प्रशिक्षक विमान शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें दो पायलट की मौत हो गई। ओर उनमे से एक पायलट देहरादून का रहने वाला था ।इस दुःखद घटना के बाद से ही पूरे परिवार में कोहराम मचा हुआ है


मिली जानकारी के अनुसार, दोनों पायलटों ने खुद को बचाने के लिए विमान से निकल जाने की कोशिश भी की लेकिन वह धमाके के बाद विमान में लगी आग की चपेट में आ गए। इस दुर्घटना में एक पायलट का शव पूरी तरह झुलस गया जबकि दूसरे पायलट को सेना के अस्पताल ले जाया गया। अधिकारी ने बताया कि बाद में घायल पायलट की भी मौत हो गई दुःखद


आपको बता दें कि स्क्वाड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी का परिवार देहरादून में ही पंडितवाड़ी में रहता है। उनके पिता बलबीर सिंह नेगी ग्राफिक ऐरा विश्वविद्यालय में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी हैं। उनका एक बेटा सिद्धार्थ नेगी और एक बेटी है।
जानकारी अनुसार सिद्धार्थ की शादी डेढ़ साल पहले ही हुई थी। बेटे के शहीद होने की खबर सुनने के बाद से ही परिवार में मातम छाया हुआ है। हर तरफ मातम का माहौल है तो घर पर सबका रो रो कर बुरा हाल है।

आपको बता दे कि वायु सेना में गोल्डन ब्वॉय के नाम से पहचान रखने वाला दून का बेटा सिद्धार्थ नेगी शुक्रवार को अपने जन्मदिन पर ही शहीद हो गया। बंगलूरू में विमान उड़ाने के दौरान उनका विमान हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड हवाई अड्डे पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ है।
स्क्वाड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी के पड़ोसी सुनील नेगी ने मीडिया को बताया कि कल ही उनका जन्मदिन था। सुबह उनके पिता बलबीर नेगी ने सिद्धार्थ को फोन करके जन्मदिन की बधाई दी थी। ओर उनकी लंबी आयु की कामना की थी। इसके कुछ देर बाद ही कल लगभग 10:30 बजे ये हादसा हो गया और सिद्धार्थ की मौत हो गई। देखते ही देखते जन्मदिन की खुशी, मातम में बदल गईं। सिद्धार्थ के पिता पुलिस विभाग से सेवानिवृत्त हैं। मां का नाम सुचित्रा नेगी है



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here