केदारनाथ में दो लोगो की मौत, टूट गए टेंट , जारी हैं बर्फबारी ,व्यवस्था पर उठे सवाल, हरीश रावत भी फसे केदारनाथ -मनोज रावत

बोलता उत्तराखण्ड आपको बता रहा हैं कि इस वक़्त केदारनाथ में भारी बारिश और बर्फबारी चल रही हैं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ओर केदारनाथ के m.l.a मनोज रावत सहित राज्य सभा सासंद भी केदारनाथ धाम में फंस गए है|  इस खराब मौसम के कारण ना हेलीकाप्टर उड़ान भर पा रहा है और ना ही वापसी का पैदल मार्ग सुरक्षित है| फिलहाल मौसम के साफ होने का इंतजार किया जा रहा है|  केदारनाथ में पूर्व सीएम हरीश रावत के साथ सांसद प्रदीप टम्टा और विधायक मनोज रावत भी फंस गए हैं। मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ जाने वाले यात्रियों को सोनप्रयाग व गौरीकुंड में रोक दिया है।
केदारनाथ में लगातार बारिश और बर्फबारी के चलते तीन ईंच से अधिक बर्फ जम गई है। सोमवार को केदारनाथ में पूरे दिन ही मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा। सुबह 10 बजे के बाद शुरू हुई बारिश और बर्फबारी करीब साढ़े पांच घंटे तक जारी रही।  मौसम खराब होने बावजूद बाबा केदार के भक्तों के उत्साह में कमी नहीं आई। श्रद्धालु बरसाती ओढ़कर अपनी बारी का इंतजार करते रहे। वहीं खराब मौसम के चलते केदारनाथ के लिए संचालित हेलीकॉप्टर सेवा भी साढ़े पांच घंटे प्रभावित रही। प्रात: छह बजे से गुप्तकाशी, फाटा व शेरसी हेलीपैड से सात हेली कंपनियों के हेलीकॉप्टर धाम के लिए उड़ान भरने लग गए थे, लेकिन 10 से दोपहर बाद 3.30 बजे तक खराब मौसम के कारण हेली सेवा बंद रही। 
आप को बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री माननीय हरीश रावत ने कल शाम पैदल मार्ग से केदारनाथ धाम पहुंच बाबा केदारनाथ के दर्शन किए| वही केदारनाथ के .m.l.A मनोज रावत से बात चीत के आधार पर खबर मिली हैं कि दो लोगो की मौत भी केदारनाथ में हो गयी हैं अभी ये पता नही चल पाया है कि जिनकी मौत हो गयी वो कहा के निवासी हैं मनोज रावत ने राज्य सरकार पर आरोप लगया की केदारनाथ में किये गए इंतज़ाम पूरे नही हैं और हर किसी भक्त को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है   वही लगभग g.m.v.n के 170 टेंट टुट  गए हैैं    हरीश रावत ने दर्शन से पूर्व केदारनाथ धाम के पंडा समाज एवं व्यापारियों से  चर्चा की  केदारनाथ धाम के व्यापारी और जो पांडा समाज ने उन्होंने लेजर शो में केदारनाथ मंदिर को पर्दे के रूप में उपयोग कर मोदी सरकार का प्रचार करने पर सरकार की निंदा की तथा केदारनाथ धाम में गुजरात सरकार के पोस्टर लगे होने पर पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा अचंभा व्यक्त किया गया| केदारनाथ मंदिर को जाने वाला पैदल मार्ग को चौड़ीकरण कर वहां से स्थानीय व्यापारियों की दुकानें हटाई गई उससे भी वहां के व्यापारियों की नाराजगी है|
वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि बड़ी संख्या में पहुंच रहे तीर्थ यात्रियों के लिए शौचालय की व्यवस्था नहीं है जिस कारण केदारनाथ धाम में गंदगी का अंबार लगा हुआ है और ना ही घोड़े खच्चर वालों के लिए कोई खास व्यवस्था की गई है| साथ ही जानकारी मिल रही हैं की काग्रेस अब जल्द ही राज्य सरकार के खिलाफ केदारघाटी के लोगो के साथ मिलकर पुरोहितो की वज़ बनकर एक बड़ा आंदोलन करने जा रही हैं

Leave a Reply