भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल की चिट्ठी से संकट में सरकार ?

विधायक के सुगलते सवालों का क्या जवाब देगी त्रिवेन्द्र सरकार ?

देहरादून। हरिद्वार की झबरेड़ा विधानसभा से भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल के मीडिया को जारी किये बयान से राज्य में सियासत गर्मा गई है। कर्णवाल ने अपने प्रेस नोट में जहरीली शराब की घटना पर दुख व्यक्त करते हुए लिखा है कि मंै प्रभावित परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हॅू मेरे द्वारा संयुक्त चिकित्सालय रूड़की तथा कई ग्रामों का दौरा करते हुए स्थिति का जायजा लिया और पीडित परिवारों को सात्वना दी। मैने आज ही मा0 मुख्यमंत्री जी के समक्ष इस घटना को सविस्तार रखा तथा कच्ची शराब के कारोबार से जुडे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की तथा प्रभावित परिवारों को आर्थिक मदद दिलाये जाने का अनुरोध भी किया गया तथा प्रदेश के मुख्य सचिव, आबकारी आयुक्त, जिलाधिकारी हरिद्वार, वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक को भी पत्र लिखकर इस घटना की कड़ी कार्यवाही हेतु पत्र लिखा गया।
प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी की मांग
मैं पूर्व में भी विधान सभा में मांग कर चुका हूॅ कि प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी लागू हो तथा हरिद्वार जनपद में विषेशकर पूर्ण रूप से बंद होनी चाहिए। 1977 से 1980 के मध्य हरिद्वार में शराब बंदी रह भी चुकी है। जनपद में हरिद्वार का अत्यन्त महत्व है कलियर में विश्व प्रसिद्व दरगाह है। रूडकी में आई0आई0टी0 विश्व प्रशिक्षण संस्थान है तथा पूरे जनपद का वातावरण आध्यात्मिक है ऐसी स्थिति में यहाँ पूर्ण नशाबंदी होनी ही चाहिए लेकिन ऐसा ना होकर जनपद में नशा के कारोबारी सक्रिय हंै।
मेडिकल स्टोरों में चल रहा नशे का कारोबार
एक ओर जहाॅ शराब माफिया अपनी मनमर्जी चला रहे हैं वहीं मेडिकल स्टोरों की आड़ में ग्रामीण अंचलों में नशे का कारोबार चलता है। युवाओं को नशे का आदी बनाया जा रहा है यह अत्यन्त चिन्तनीय विषय है। चुनाव जीतने की चाह रखने वाले नेता शराबखोरी और नशे की आदत को बढावा दे रहे हैं मुफ्त की शराब पिलाकर वोट हासिल करने वाले नेता समाज को बरबाद कर रहे हैं। मैने नशा विरोधी मंच बनाकर शराब के विरूद्व आंदोलन चलाया है।
निरस्त हो उम्मदारी
कभी मैने चुनाव में शराब पिलाई है और न ही पिलाऊँगा। मैं भारत के निर्वाचन आयोग से मांग करता हॅू कि किसी भी स्तर के चुनाव में पूर्ण शराब बन्दी की जाय। चुनाव आंचार संहिता लागू होने के साथ ही शराब की बिक्री बंद की जाय और चुनाव अभियान के दौरान शराब पिलाने वाले उम्मीदारों की उम्मीदारी निरस्त की जाय।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here