देहरादून में 800 करोड़ की लागत से बना ये हाइवे 80 दिन में ही हो गया खराब, प्रोजेक्ट पर उठे सवाल

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

देहरादून: भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण यानि एनएचएआई द्वारा हरिद्वार से देहरादून तक बनाए गए 800 करोड़ की लागत के नेशनल हाईवे को शुरू हुए अभी कुछ महीने भी नहीं हुए कि इस पर सवाल खड़े होने लगे हैं. एक तरफ जहां डोईवाला बाईपास पर नये फ्लाई ओवर पर एक बार फिर से मरम्मत के काम पर सवाल उठ रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने हरिद्वार-देहरादून हाइवे पर दो बार टोल प्लाजा रखने का विरोध किया है.

तीन महीने में ही सड़क में हुआ गड्ढा

उत्तराखंड में केंद्रीय निर्माण एजेंसियों को लेकर लगातार सवाल उठते आये हैं. इसकी शुरुआत पिछले कई सालों से हरिद्वार-देहरादून हाईवे को लेकर ठंडे बस्ते में पड़ा निर्माण कार्य था. हालांकि पिछले कुछ समय में तस्वीर बहुत तेजी से बदली है. आज हाईटेक हरिद्वार-देहरादून नेशनल हाईवे पर गाड़ियां पूरी रफ्तार से फर्राटा भरने लगी हैं. लेकिन मात्र तीन महीनों में डोईवाला बाईपास फ्लाईओवर पर एक बार फिर से मरम्मत का काम शुरू होने से इस पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

दरअसल डोईवाल बाईपास हाईवे पर प्लाईओवर के बाद सड़क का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त होने लगा था. इससे इस फ्लाईओवर के निर्माण कार्य पर सवाल उठने लगे थे. वहीं इसके अलावा ऋषिकेश विधायक और विधानसभा अध्यक्ष ने हरिद्वार-देहरादून हाईवे पर 20 किलोमीटर के अंदर दो टोल प्लाजा होने पर अपनी नाराजगी जताई है. उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों से इतनी कम दूरी पर दो बार टोल टैक्स लिया जाना बेहद अन्यायपूर्ण है. इनको लेकर उन्होंने अधिकारियों से भी बात भी की है.

विभाग ने रखा अपना पक्ष

इस पूरे प्रकरण पर विभागीय पक्ष की बात करें तो प्रोजेक्ट डायरेक्टर पंकज मौर्य ने ईटीवी भारत से बातचीत करते हुए बताया कि डोईवाला बाईपास निर्माण के बाद कुछ दिनों पहले पहली दफा बारिश के पानी के संपर्क में आया है. पानी से सड़क के निचले हिस्से में मिट्टी के धंसाव से सड़क बैठी है. उन्होने कहा कि अभी यह निर्माण ठेकेदार से विभाग को नहीं सौंपा गया है.

ठेकेदार द्वारा तत्काल प्रभाव से सड़क के प्रभावित हिस्सों की मरम्मत की जा रही है. उन्होंने कहा कि जब नया निर्माण पहली दफा उपयोग में लाया जाता है तो इस तरह की कुछ कमियां सामने आती हैं. क्योंकि इन कमियों का पहले पता लगाना संभव नहीं है.

दो टोल प्लाजा पर प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने दी सफाई

दो टोल प्लाजा को लेकर प्रोजेक्ट डायरेक्टर पंकज मौर्य ने कहा कि एक सड़क में किसी भी स्थिति में दो बार टोल नहीं लिया जा सकता है. अगर बात हरिद्वार-देहरादून हाईवे की करें तो इस पर एक ट्रैफिक ऋषिकेश और देहरादून से आता और जाता है, जोकि लच्छीवाला टोल प्लाजा द्वारा कवर किया जाता है.

लेकिन हरिद्वार से जौलीग्रांट एयरपोर्ट जाने वाला एक ट्रैफिक ऐसा भी है जोकि टोल से बच जाता है. इसी ट्रैफिक के लिए रायवाला पर टोल प्लाजा बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में दो बार टोल नहीं लिया जाएगा. यानी दोनों जगहों में से एक ही जगह टोल भरना अनिवार्य होगा.

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here