हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

देहरादूनः सुद्धोवाला जेल में कैदियों के ऊपर एक बार फिर कोरोना वायरस का खतरा मंडराने लगा है. गुरुवार शाम जेल से रूटीन कानूनी कार्रवाई में रिहा होने वाला एक कैदी कोरोना पॉजिटिव मिला है. इस घटना के बाद जेल प्रशासन में अफरा-तफरी मच गई. एसिंप्टोमेटिक के चलते आनन-फानन में इस कैदी को 108 एंबुलेंस के जरिए दून अस्पताल लाया गया, जहां से डॉक्टरों की देखरेख में सुद्धोवाला जेल के आइसोलेशन वॉर्ड में भेजने की जानकारी मिली है।

कोर्ट के आदेश के मुताबिक कैदियों की रिहाई से पहले कोरोना टेस्ट अनिवार्य

दरअसल, हाईकोर्ट के आदेश के मुताबिक कैदियों को जेल से रिहा करने से पहले उनका कोरोना टेस्ट करना अनिवार्य है. इसी के मद्देनजर देहरादून सुद्धोवाला जेल से रिहा होने वाले सहसपुर निवासी कैदी का कोरोना टेस्ट कराया गया, जिसकी गुरुवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इसके बाद जेल प्रशासन ने तत्काल कैदी की रिहाई रोकते हुए उसे दून अस्पताल ले जाया गया. दून अस्पताल के ईएमओ डॉ. नरेश के मुताबिक कैदी को जेल आइसोलेशन वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया है.

दून अस्पताल पीएमओ डॉ. नरेश के मुताबिक गुरुवार शाम पुलिस कर्मियों द्वारा संबंधित कैदी को कोरोना पॉजिटिव होने के चलते अस्पताल लाया गया था. एसिंप्टोमेटिक होने के चलते उसकी जांच की गई, हालांकि उसमें कोई खास तरह के लक्षण नहीं पाए गए. लेकिन एहतियातन उसको स्वास्थ्य देखरेख के तहत जेल आइसोलेशन में भेजा गया है.

जेल में बंद कैदियों के कोरोना टेस्टिंग पर सवाल

सुद्धोवाला जेल से रिहा होने वाले कैदी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मचा है. ऐसे में जेल में बंद अन्य कैदियों की स्वास्थ्य सुरक्षा को देखते हुए जेल सैनिटाइजेशन का काम शुरू कराया जा रहा है. जेल प्रशासन के मुताबिक शुक्रवार से जेल कैदियों की कोरोना टेस्टिंग की कार्रवाई में भी तेजी लाई जाएगी. कोरोना वायरस की दूसरी लहर में अब तक जेल में बंद कैदी संक्रमण से बचे होने का दावा जेल विभाग द्वारा किया जा रहा था. लेकिन अब देहरादून जेल से रिहा होने वाले कैदी के कोविड पॉजिटिव आने के बाद इस दावे पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. इसमें सबसे बड़ा सवाल राज्य की जेलों में बंद कैदियों के कोविड टेस्टिंग को लेकर सामने आ रहा है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here