*dehradun:OLX मे गाड़ी, मोबाईल आदि बेचने के नाम पर धोखाधड़ी में अभियुक्त गिरफ्तार*

बढ़ते साईबर अपराधों के परिप्रेक्ष्य में साईबर अपराधी आम जनता की गढ़ी कमाई हेतु अपराध के नये- नये तरीके अपनाकर धोखाधड़ी कर रहे हैं। वर्तमान में साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन पर साईबर अपराधियों द्वारा स्वयं को भारतीय सेना में कार्यरत होने का झांसा देकर आम जनता को *OLX* मे गाड़ी, मोबाईल आदि बेचने के नाम पर धोखाधड़ी किये जाने की काफी शिकायतें आ रही है। जिसकी रोकथाम व अनावरण हेतु साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन पर टीम का गठन किया गया है।
इसी प्रकार के कई मामले विगत दिनों देहरादून स्थित साईबर थाने में प्राप्त हुये हैं, जिसमें एक प्रकरण में *OLX* में स्विफ्ट डिजायर कार बेचने के नाम पर अपराधियों द्वारा विभिन्न बैंक खातों में धोखाधड़ी कर लगभग 1,72,000/- जमा करवाये गये थे, जिसके सम्बन्ध में वादी द्वारा की गई शिकायत के आधार पर मुकदमा अपराध संख्या 01/19 पंजीकृत किया गया । श्रीमती रिधिम अग्रवाल, पुलिस उपमहानिरीक्षक, एस0टी0एफ0 के विशेष निर्देशन मे श्री स्वतन्त्र कुमार अपर पुलिस अधीक्षक एसटीएफ एवं श्री कैलाश पंवार, पुलिस उपाधीक्षक एसटीएफ के निकट पर्यवेक्षण मे इस प्रकरण को थाना साईबर क्राईम को सौंपते हुये अपराध का अनावरण कर अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु उपरोक्त कार्य को आवंटिंत किया गया था। उक्त मामले में पंजीकृत मुकदमें में साईबर थाने में नियुक्त निरीक्षक श्री अमर चन्द शर्मा द्वारा विवेचना की जा रही थी।
विवेचना के दौरान बैंक खातो के स्टेटमेन्ट एवं आधुनिक तकनीको के माध्यम से अभियुक्तो का पता लगाया गया। जिसमे जानकारी मिली की उक्त प्रकार के साईबर अपराध राजस्थान के विभिन्न जनपदो से संचालित किये जा रहे है। प्रकरण में निरीक्षक श्री अमर चन्द शर्मा के नेतृत्व में एक पुलिस टीम को अभियुक्तो की सुरागरसी, पतारसी एव गिरफ्तारी हेतु राजस्थान भेजी गयी। पुलिस टीम द्वारा उक्त अभियोग में संलिप्त अभियुक्तो को चिन्हित कर दिनांक 29-04-2019 को अभियुक्त अजहर मौहम्मद उर्फ अजहर खान पुत्र वंशी खान निवासी पलान खेडा तहसील व थाना गोविन्द गढ, जिला अलवर, राजस्थान को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में यह जानकारी प्राप्त हुयी कि गिरफ्तार अभियुक्त शातिर किस्म के अपराधी है जिनके द्वारा भारतवर्ष में कई व्यक्तियो को इसी प्रकार लालच देकर ठगी का शिकार बनाया है। *अभियुक्त की प्रारम्भिक पूछताछ में करीब 30 लाख का लेनदेन होने का पता चला है । जिसकी जाँच की जा रही है ।* गिरफ्तार अभियुक्त को माननीय न्यायालय के समक्ष रिमाण्ड हेतु भेजा जा रहा है ।
*अपराध विधि-* अभियुक्त भारतीय सेना के नाम व फोटोग्राफ सहित ओएलएक्स मे वाहन विक्रय का विज्ञापन देकर लोगों को तरह-तरह का झांसा देकर मोटी रकम वसूल करते है एवं फर्जी आईडी एवं पेटीएम के जरिये   सीधेसाधे लोगो से फ्रॉड करते है अभियुक्तो के पूछताछ मे उत्तर प्रदेश ,उत्तराखण्ड, हिमाचल प्रदेश, उडीसा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ, महाराष्ट्र, गुजरात भारत वर्ष के अन्य स्थानो पर भी घटना का प्रयास एंव घटना को अंजाम देना प्रकाश मे आ रहा है जिसको सम्बन्धित स्थानो से तस्दीक कर अग्रिम विवेचनात्मक कार्यवाही की जायेगी । अभियुक्त शातिर किस्म एंव मेवाती (मेऊ) जाति का अपराधी है एंव एक संगठित गिरोह को संचालित कर रहा है जिसके सम्बन्ध मे अग्रेत्तर कार्यवाही की जा रही है ।*गिरफ्तारी टीमः-*
01- निरीक्षक श्री अमर चन्द शर्मा (साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन )
02- मुख्य आरक्षी सुनील भट्ट (साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन )
05- आरक्षी मनोज बेनीवाल (साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन )
06- आरक्षी चालक सलमान

*बरामद माल का विवरण-* अपराध मे प्रयुक्त 03 अदद मोबाईल फोन कई सिम फर्जी आईडी एंव वाहनो के नम्बरों के ब्योरे के अतिरिक्त कई लाख का लेनदेन का डाटा की जानकारी ।

*गिरफ्तार अभियुक्तः-*
अजहर मौहम्मद उर्फ अजहर खान पुत्र वंशी खान निवासी पलान खेडा तहसील व थाना गोविन्द गढ, जिला अलवर, राजस्थान ।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here