कोविड कर्फ्यू से बागेश्वर बाजार में पसरा सन्नाटा, दूध के लिए लोगों को लगानी पड़ी लंबी कतार

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

बागेश्वर: कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए संडे कोविड कर्फ्यू का व्यापक असर दिखाई दिया। नियमों का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस का शिकंजा रहा। इस दौरान पुलिस ने लोगों को कोविड गाइडलाइन की जानकारी दी। कर्फ्यू का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम दिया।

रविवार को कोविड कर्फ्यू के दौरान बाजारों में सन्नाटा ही पसरा रहा। सुबह से ही लोग घर में ही रहे। बरातों का सीजन होने के कारण कुछ बरातों के वाहन शहर में नजर आए। इस दौरान नियम तोड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई भी की गई। पुलिस कर्मियों ने लोगों से मास्क पहनने की अपील कर कोविड गाइड लाइनों की जानकारी दी।

इस दौरान पूरे दिन बाजार में पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहा। पुलिस ने बेवहज बाजार में घूमने वालों पर कार्रवाई भी की। कोतवाल डीआर वर्मा टीम के साथ पूरे दिन भ्रमण करते रहे। जिला मुख्यालय के अलावा गरुड़, कपकोट, भराड़ी, कांडा, कौसानी में भी कर्फ्यू का व्यापक असर देखने को मिला।

दूध के लिए लगी कतार

कोविड कर्फ्यू के दौरान दूध के लिए लोगों को लंबी कतार लगानी पड़ी। बामुश्किल दूध मिलने के बाद लोग सीधे घरों को रवाना हुए। स्थानीय लोगों ने कहा कि छोटे बच्चों के लिए दूध लेना जरूरी है। गर्मी होने के कारण दूध जल्दी खराब हो जाता है। इसलिए उन्हें कोविड कर्फ्यू के दौरान भी घर से बाहर निकलने को मजबूर होना पड़ रहा है।

टैक्सी वाहन भी नहीं चले

कर्फ्यू के दौरान बस स्टेशन, टैक्सी स्टेंडों पर सन्नाटा पसरा रहा। नगर के ताकुला, कांडा, पिंडारी, गरुड़ टैक्सी स्टेंड पर वाहन खड़े रहे। कई लोगों को जरूरी काम के लिए पैदल यात्रा तय करनी पड़ी। नामकरण संस्कार, विवाह आदि कार्यक्रमों में भाग लेने वाले लोग निराश रहे।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here