कांग्रेस के विधायकों का पैदल-मार्च , आंदोलनकारियों ने फूंका राज्यपाल का पुतला

गैरसैंण विधानसभा सत्र के दूसरे दिन की शुरूआत काफी हंगामेदार रही है। आपको बता दें कि स्थाई राजधानी की मांग को लेकर सरकार चौतरफा विरोध झेल रही है। विपक्षी कांग्रेस ने आज स्थाई राजधानी बनाने की मांग को लेकर पैदल मार्च किया। विधानसभा की सीढ़ियों पर बीजेपी के विधायकों से सामना हुआ और दोनों दलों के बीच जमकर नारेबाज़ी हुई है।

तो दूसरी तरफ गैरसैंण स्थाई राजधानी की मांग को लेकर अब राज्य आंदोलनकारियों ने मुख्य तिराहे पर राज्यपाल के के पॉल के खिलाफ ज़ोरदार नारेबाज़ी की। इतना ही नही आंदोलनकारियों ने राज्यपाल का पुतला दहन भी किया।

इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस और आदोनलकारियों के बीच जमकर संघर्ष भी हुआ। अभी भी राज्य आंदोलनकारी राष्ट्रीय राजमार्ग जामकर धरने पर बैठ गए हैं। आपको बता दें कि राज्य के पहाड़ी क्षेत्रों में अब गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाने की मांग ज़ोर पकड़ने लगी है

उनकी माने तो गैरसैण राजधानी मतलब पहाड़ का विकास है गैरसैंण राजधानी मतलब पलायन पर लगाम है। गैरसैण राजधानी मतलब मूलभूत सुविधाओं का इंतज़ाम है। गैरसैंण राजधानी मतलब युवाओं के लिए रोज़गार है और गैरसैण राजधानी मतलब पहाड़ की राजधानी पहाड़ है और त्रिवेंद्र सरकार के लिए सबसे कठिन और चुनौती भरा ये फैसला होगा कि उनकी सरकार और संगठन गैरसैंण पर क्या फैसला करती है। हालांकि बीजेपी पहले ही ये कह चुकी है कि गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाएंगे लेकिन कब बनाएंगे ये अभी तक साफ नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here