शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत की आंखे हुई नम

उत्तराखण्ड के शहीद सैनिकों के परिजनों को मुख्यमंत्री ने की 25-25 लाख रूपए देने की घोषणा

शहीदों के आश्रितों को उनकी योग्यता के अनुसार सरकारी नौकरी

दुःख की इस घड़ी में हम सब शहीदों के परिजनों के साथ है- मुख्यमंत्री

 मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पुलवामा में आतंकियों द्वारा सी.आर.पी.एफ. काफिले पर किए हमले में शहीद उत्तराखण्ड के सैनिकों के परिजनों को 25 लाख रूपए दिए जाने की घोषणा की है। उन्होंने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इस कायराना हरकत का करारा जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि दुःख की इस घड़ी में हमस ब शहीदों के परिजनों के साथ है। इस घटना की जितनी निंदा की जाए, उतनी कम है। पूरा देश इन शहीदों की शहादत के प्रति नतमस्तक है और अपनी सेना, अपने अर्धसैन्य बलों व पुलिस के साथ पूरी तरह खड़ा है।

उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाईं जारी रहेगी। पुलवामा की घटना का हमारे वीर जवान करारा जवाब देंगे। मुख्यमंत्री ने फिर से दोहराया है कि देश में जब भी कोई संकट आता है ऐसे समय में हम सब एक रहते हैं। हम सबकी भावना भी एक ही रहती है। शहीदों के सम्मान में राज्य सरकार द्वारा सैन्य व अर्द्धसैनिक बलों के आश्रितों को उनकी योग्यता के अनुसार सेवा योजित करने का निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने शहीद परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि हमें अपने वीर जवानों पर गर्व है। हमारी सेना सशक्त व मजबूत है। हमारी सेना हमारा गौरव है। देश पर आने वाले किसी भी संकट का मुकाबला करने के लिए हमारे सैन्य बल समर्थ है। उन्होंने कहा कि हमारे युवाओं में जोश साहस तथा देश प्रेम का जज्बा है। इधर मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त सूचना के अनुसार मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने अपने शनिवार के पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया है।मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने अपने शनिवार के पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया है।

शुक्रवार को उत्तराखण्ड विधान सभा में पुलवामा में गुरूवार को हुई आतंकवादी घटना में शहीद हुए सी0आर0पी0एफ0 जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। तथा घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। सभी विधायकों ने शहीदों के परिवार को एक माह का वेतन देने की घोषणा की, शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद सदन सोमवार पूर्वाह्न 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। 

सदन में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि देश में जब भी कोई संकट आता है ऐसे समय में हम सब एक रहते हैं। हम सबकी भावना भी एक ही रहती है। शहीदों के सम्मान में राज्य सरकार द्वारा सैन्य व अर्द्धसैनिक बलों के आश्रितों को उनकी योग्यता के अनुसार सेवा योजित करने का निर्णय लिया गया है। शहीदों के सम्मान में एक वृहद शौर्य स्मारक के निर्माण का भी निर्णय लिया जा चूका है। इससे हमारे युवाओं में देश प्रेम की भावना का भी संचार होगा। 

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने शहीद परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि हमें अपने वीर जवानों पर गर्व है। हमारी सेना सशक्त व मजबूत है। हमारी सेना  हमारा गौरव है। देश पर आने वाले किसी भी संकट का मुकाबला करने के लिए हमारे सैन्य बल समर्थ है। उन्होंने कहा कि हमारे युवाओं में जोश साहस तथा देश प्रेम का जज्बा है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार विधान सभा में मीडिया से अनौपचारिक वार्ता के दौरान कहा कि शहीदों के परिवारों के दुःख में सम्मिलित होते हुए, आज जो बजट सदन के पटल पर रखा जाना था, शहीदों के सम्मान में उसे  सोमवार तक के लिए स्थगित किया गया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सैनिक, अर्द्धसैनिक सभी के साथ खड़ी है। सरकार द्वारा पूर्व में ही निर्णय लिया जा चुका है कि शहीदों के आश्रितों को उनकी योग्यता के अनुसार सरकारी सेवा में रखा जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन ने यह भी निर्णय लिया है कि सभी विधायकों द्वारा उनके एक माह का वेतन शहीदों के परिवारों के लिए दिया जाए। देहरादून के एक शिक्षण संस्थान के छात्र द्वारा गुरूवार को हुई आतंकी घटना की सोशल मीडिया पर देश विरोधी टिप्पणी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस सम्बन्ध मंे सुरक्षा एजेंसियां जांच करेगी तथा उसके बाद आवश्यक  कार्यवाही की जायेगी। 

 

 





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here