सीएम त्रिवेन्द्र अपने भाई तक का नाम भूल गए!

राज्य का दुर्भाग्य है कि जब जब कोई अच्छा काम राज्य हित मे होता है तब तब सियासत उस काम पर हावी हो जाती है जो नही होनी  चाइए  ख़बर ओर जानकारी अनुसार पूरा गढ़वाल ओर कुमाऊँ की जनंता  नैनी दूंन जनशताब्दी से खुश है   और वो अपने बेटे अनिल बलूनी पर गर्व महससू कर रही है वो कहते है कि   अभी तक्   राज्य की सरकारों के काम और नाम को सुना   पर पहली  बार किसी सांसद का नाम उठकर आया है कि अनिल ने मेहनत की है  तभी रास्ते खुले है पर हमने सुना नही की सीएम ने भी बोला होगा कि अनिल ने कुछ किया होगा हा  पीएम ओर रेल मंन्त्री  का नाम तो सुना है सीएम की जुबानी  हो सकता है सीएम  भूल गए  होंगे अपने छोटे भाई का नाम लेते  हुए भी   ओर उनकी इसमे गलती है भी क्या आज तक किस राज्य सभा सांसद ने राज्य हित के लिये जरा सा भी प्रयास किया पाहड़ के लिए कुछ किया  कुछ नही किया उन्होंने  इसलिए हमारे राज्य के जीरो टालरेश वाले  मुख्यमंत्री  अपने भाई अनिल बलूनी का नाम लेना भी जल्द बाज़ी  मे भूल गए होंगे 

देवभूमि मे आज से नैनी-दून जनशताब्दी का आगज़ हो गया है जिसके लिए बोलता उत्तराखंड सिर्फ और सिर्फ पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी को बहुत बहुत धन्यवाद देता है क्योकि अगर बलूनी बार बार प्रयास ना करते रेल मंत्री से ना मिलते ओर सबसे बडी बात सही और सटीक तर्क रेल मंत्री से लेकर रेलवे के अधिकारीयो के आगे ना रखते तो ये रेल इतनी आसानी से ना दौड़ती जितना आज आपने देखा ! 

राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने नैनी-दून जनशताब्दी ट्रेन पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी व रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल का आभार जताया पर राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी का नाम अपने बयान मे लेना स्याद भूल गए होगे आपको बता दे कि ये गढ़वाल व कुमायूं के बीच लाईफ लाईन बनेगी नैनी-दून जनशताब्दी इस बात को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा ।

मुख्यमंत्री रावत ने नैनी-दून जनशताब्दी एक्सप्रेस शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी व रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल का उत्तराखण्डवासियों की ओर से आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आॅल वेदर रोड़, ऋषिकेश-कर्णपयाग रेल परियोजना के बाद यह रेल सेवा, रक्षाबंधन से एक दिन पूर्व केंद्र सरकार द्वारा उत्तराखण्ड को दी गई एक और बड़ी सौगात है। काठगोदाम व देहरादून के बीच एक और रेल सेवा शुरू करने से उत्तराखण्ड के लोगों की एक बड़ी मुराद पूरी हुई है। यह रेल सेवा, गढ़वाल व कुमायूं के बीच सम्पर्क का विस्तार करते हुए राज्य के लोगों के लिए लाईफ लाईन साबित होगी। इससे पर्यटन के साथ ही व्यावसायिक गतिविधियों में भी विस्तार होगा।  मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र को भी नैनी-दून जनशताब्दी एक्सपे्रस रेल सेवा के शुभारम्भ पर काठगोदाम जाना था परंतु मौसम खराब होने के कारण वे नहीं जा पाए। 

मुख्यमंत्री ने नैनी-दून जनशताब्दी एक्सपे्रस रेल सेवा पर खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि ‘‘अटल जी ने बनाया – मोदी जी संवारेंगे’’ के वादे को पूरा करते हुए प्रधानमंत्री जी ने हमेशा उत्तराखण्ड को प्राथमिकता दी।            आपको बता दे कि नैनी-दून जन शताब्दी एक्सप्रेस का शुभारंभ राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी और लोक सभा सांसद भगत सिंह कोशियारी ने काठगोदाम रेलवे स्टेशन में ट्रेन को हरी झंडी दिखा कर देहरादून के लिए रवाना किया। रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल इस समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये दिल्ली से जुड़े थे। सांसद भगत सिंह कोश्यारी ने पहाड़ मे रेल पहुचाने के लिए स्ट्रगल बहुत किया है हर बार उनको संसद मे बोलते हुए भी देखा है पर आज राज्य सभा संसद अनिल बलूनी ने भगत दा के सपने को अपने द्वारा किये गए प्रयास से सफल बना दिया जिस पर भगत दा ने भी राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी की पीठ थपथपाई होगी ।

तो वही रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कहा कि सासंद अनिल बलूनी ने उनसे नैनी-दून जनशताब्दी एक्सप्रेस को शुरू करने के लिये कई बार मुलाकात की। यही नहीं रेल को जल्द शुरू करने के लिए दबाव बनाने के लिए भी कई मर्तबा फोन किया। गोयल ने कहा कि कई बार तो अनिल बलूनी से नोकझोंक भी हुई और उन्होंने अनिल बलूनी की तरफ से लगातार मिल रहे दबाव के कारण कई बार उनका फोन भी नहीं उठाया। गोयल ने कहा कि इसीलिए अनिल को ही इस रेल को शुरू करने का असली श्रेय जाता है।  

रेल मंत्री ने कहा कि चार धाम को रेल लाइन से जोड़ने के लिए तेज़ी के साथ सर्वे हो रहा है। यह ऐतिहासिक कार्य होगा। इसके अलावा उत्तराखंड की सभी ट्रेनों को इलेक्ट्रिक से जोड़ने के लिए काम किया जा रहा है। इससे उत्तराखंड में पर्यावरण सुरक्षित रहेगा। डीजल से चलने वाली गाड़िया खत्म हो जाएंगी। रेल मंत्री ने कहा की रेलवे आगे भी इसी तरह नई ट्रेनें चलाते रहेगा। उन्होंने कहा कि अभी उत्तराखंड में केवल 7 स्टेशनों में वाई-फाई की सुविधा है। आने वाले समय में सभी स्टेशनों को वाईफाई से जोड़ दिया जाएगा। सासद व पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि इस ट्रेन से पर्यटन को लाभ मिलेगा विकास की गति तेजी से बढ़ेगी।

बोलता उत्तराखंड़ से फोन पर बात करते हुए अनिल बलूनी ने कहा कि उनका फोकस लगातार राज्य को अब न्यू उत्तराखंड बनाने पर है और जिस पर वो अपने सीमीत अधिकारों और अपनी क्षमता के अनुसार राज्य की भौगोलिक परिस्थितियों ओर राज्य के जल जंगल ओर जमीन का धरातली अनुभव जो उनका है उसके अनुसार लगातार वे कार्य कर रहे है और ये सब कुछ तब ही संभव होता है जब केंद्र सरकार का पूरा सहयोग राज्य को मिलता है और मुझे खुशी है कि हमारे प्रधानमंत्री जी उत्तराखंड के विकास के लिए राज्य की हर संभव मदद करते है सहयोग करते है और पूरी केंद्र सरकार के सभी मंत्री भी उतराखंड राज्य के विकास के लिए हमारे साथ खड़े है उन्होंने रेल मंन्त्री पीयूष गोयल का धन्यवाद किया और उम्मीद जताई कि आगे भी राज्य मे रेल सेवा के विस्तार के लिए उनका महत्वपूर्ण योगदान राज्य को मिलेगा बात सच है कि अटल जी ने ये राज्य बनाया और पीएम मोदी जी इसको सवारेगे पर हम सबको भी अपनी अपनी जिम्मेदारी से लेकर जवाबदेही को समझना होगा अपने कर्तव्य को समझना होगा तब ही न्यू उत्तराखंड का सपना पीएम मोदी जी का हमारा ओर आपका साकार हो पाएगा ।  

कुल मिलाकर बात ये निकली है कि राजनीतिक लाभ लेने  के  लिए  राज्य के कही   नेताओ ने अनिल बलूनी को सियासी पटखनी देने की कोशिश की पर रेल मंन्त्री ने कह दिया कड़वा सच जिसके बाद  कुमाऊँ से लेकर गढ़वाल तक के लोगो ने बलूनी जी को  धन्यवाद बोला । ओर  हमारे राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत भी अनिल बलूनी को अपना  छोटा भाई मानते है  वो कही बार मीडिया के आगे कहा चुके है कि अनिल बलूनी जी एक नई सोच है  राज्य  के लिए जिसका लाभ राज्य को  मिलेगा  इसलिए वो जानते है कि बलूनी ओर उनके राजनीतिक दुश्मन कोन है   जितना बोलता उत्तराखंड  जानता  है  उतनी बात ये है कि अनिल बलूनी हमेशा कहते  है कि त्रिवेन्द्र रावत जी राज्य के विकास के लिए  अग्रसर है और उनके नेतृत्व मे आपको कही भी पूरे पांच साल तक पांच पैसे का भी  भ्रास्टाचार नही दिखाई देगा ना सुनाई देगा   ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here