आपको बता दे कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि साल 2019 तक हर गांव तक इंटरनेट पहुंचाया जाएगा। ओर इसके लिए टेलीकॉम कंपनियों से बात की जा चुकी है। मेडिकल क्षेत्र में भी सुधार के लिए इंटरनेट सेवा बेहतर होना जरूरी है।
सीएम ने कहा कि हम अस्पतालों और कॉलेजों को फ्री वाईफाई देंगे। ऐसे में जांच रिपोर्ट चंद घंटे में आ जाया करेगी। इसके साथ ही दूरस्थ पहाड़ी क्षेत्रों तक बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के लिए हमने विशेषज्ञ डॉक्टरों से बात की है।
सीएम ने कहा कि उनकी सरकार का प्रयास है कि स्पेशलिस्ट डॉक्टर दूरस्थ क्षेत्रों में जाकर सीजर करें। इसके लिए हम उन्हें एयर एंबुलेंस और हवाई सेवा उपलब्ध करवाएंगे। दूरदराज के पहाड़ी क्षेत्रों में डॉक्टरों को हवाई सेवा से पहुंचाया जाएगा। सीएम ने कहा कि इसके लिए जिला अस्पतालों में आईसीयू की जरूरत है, जिन्हें बनवाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार समय से शिकायतों का निस्तारण न करने वाले और भ्रष्ट अधिकारियों पर शिकंजा कसने के लिए राजधानी और जिलों में कॉल सेंटर का संचालन करने जा रही है। कॉल सेंटर पर आने वाली शिकायतों की मॉनीटरिंग वह खुद करेंगे।
वही अब अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। लापरवाही बरतने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। ये सब बातें सोमवार को नैनीताल क्लब में जनमिलन कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कही ।
वही मुख्यमंत्री ने कहा कि 17-18 साल के दौरान राज्य में कुल 37 हजार करोड़ रुपए का निवेश हुआ है जबकि इंवेस्टर समिट के बाद निवेशक राज्य में 34 हजार करोड़ रुपये का निवेश करने को तैयार हो गए हैं। जितना निवेश 18 साल में आया है उतना सिर्फ एक समिट के बाद मिलने जा रहा है
बहराल त्रिवेन्द्र रावत अपनी सरकार के अब तक के कामो को जनता को बता रहे । और जो कुछ सीएम कह रहे है उसके धरातल पर उतरने के बाद पहाड़ को राहत जरूर मिलेगी बस देखना ये है कि योजनाओं को अमली जामा पहनाकर धरालतल पर उत्तराने मे समय कितना लगता है ।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here