उत्तराखंड: सूर्यधार झील परियोजना की लागत 14 करोड़ कैसे बढ़ी, होगी जांच

सूर्यधार झील है मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र का ड्रीम प्रोजेक्ट ।

सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने किया निर्माण कार्य कर निरीक्षण
ओर दे दिए ये आदेश।

ख़बर अब तक निर्माण कार्य पर 41 करोड़ की धनराशि हो चुकी है खर्च ।

आपको बता दे कि
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के महत्वपूर्ण ड्रीम प्रोजेक्ट सूर्यधार झील परियोजना की लागत एक ही साल में लगभग 14 करोड़ रुपये बढ़ गई है।
जिस पर इस परियोजना की लागत कैसे बढ़ी इसकी जांच का आदेश हमारे उत्तराखंड के सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने दिया है
ख़बर है कि विभाग के प्रमुख अभियंता राकेश मोहन मामले की जांच करने जा रहे है
बता दे कि कल सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने जाखन नदी पर निर्माणाधीन सूर्यधार झील के बैराज कार्यों का निरीक्षण किया। ओर उन्होंने परियोजना की लागत बढ़ाने पर नाराजगी जताते हुए जांच करने के आदेश दे डाले


50.24 करोड़ की लागत वाले इस परियोजना की अब लागत बढ़ा कर 64.12 करोड़ की गई है।
ओर अब तक निर्माण कार्य पर 41 करोड़ की धनराशि खर्च हो चुकी है। महाराज ने कहा कि परियोजना की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) और प्लानिंग सही ढंग से नहीं बनाई गई।(तो सवाल खड़ा होता है कि ( अब तक मंत्री जी और सरकार क्या कर रहे थे )


ख़बर आई है कि निर्माण कार्य शुरू होने के बाद बैराज की लंबाई और चौथाई बढ़ाने की बात की जा रही है। जिससे जाहिर है कि डीपीआर बनाने में अधिकारियों की लापरवाही रही है। ( सवाल फिर वही जब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के महत्वपूर्ण ड्रीम प्रोजेक्ट सूर्यधार झील परियोजना की बात हो तो इससे पहले सब कहा सो रखे थे ?


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here