बोलता उत्तराखंड विकास की शहादत को सलाम करता है

उत्तराखंड का एक ओर लाल भारत माता की सेवा करते शहीद हो गया बोलता उत्तराखंड की पूरी टीम की तरफ से इस शहादत को सलाम जी हा देश की सेवा करते हुए उत्तराखंड देवभूमि का एक और लाल शनिवार को शहीद हो गया। जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से हुए सीजफायर के दौरान जवाबी कार्रवाई में मुंहतोड़ जवाब देते हुए जांबाज विकास गुरुंग ने भारत मां की रक्षा करते करते शहीद हो गया आपको बता दे कि जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में ईद के दिन भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। आतंकियों के साथ हुर्इ मुठभेड़ के दौरान ऋषिकेश के श्यामपुर निवासी ओर सेना का जवान विकास गुरुंग शहीद हो गए। विकास गोरखा राइफल में सिपाही के पद पर तैनात थे। विकास के सीमा पर शहीद के सूचना घर पहुंचते ही घर और आस-पास का पूरा माहौल गमगीन हो हो रखा है शहीद के घर सांत्वना देने वालों का तांता लगा हुआ है।तो पूरे परिवार का रो-रो कर बुरा हाल है।
आपको बता दे कि
सिपाही विकास गुरूंग के जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद होने की सूचना पिता रमेश गुरुंग को सेना के अधिकारियों ने फोन पर दी। सूचना मिलते ही घर में मातम छा गया। धीरे-धीरे खबर पूरे शहर में फैल गई जिसके बाद शहीद के घर में लोगों का तांता लग गया।                                       विधानसभा अध्यक्ष एवं ऋषिकेश विधायक प्रेमचंद अग्रवाल भी शहीद के घर परिजनों को सावंत्ना देने पहुंचे।
शहीद विकास गुरुंग 2015 में सेना में भर्ती हुए थे। पिता रमेश गुरुंग भी सेना से ही रिटायर्ड है। साथ ही उनका छोटा भाई निरंजन गुरुंग भी अभी सेना में तैनात है।
आपको बता दें कि शहीद विकास गुरुंग एक महीने पहले ही अपने घर आया था। विकास की छोटी बहन पूनम भी भी रो-रो कर अपने भाई की यादों को याद कर रो रही है जबकि उनकी मां सदमे से उबर नहीं पा रही है। रविवार को जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में शहीद हुए ऋषिकेश निवासी विकास गुरुंग का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंच गया है। तिरंगे में लिपटे भारत मां के सपूत को श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी इससे पहले जॉलीग्रांट एयरपोर्ट पर सेना और वहां मौजूद लोगों ने शहीद जवान को श्रद्धांजलि दी।
रविवार को जवान का शव उनके घर पहुंचा। तिरंगे में लिपटा भारत माता के सपूत को श्रद्धांजलि देने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग शहीद के घर पहुंचे। सेना के वाहन से शहीद के पार्थिव शरीर को जब घर में उतारा गया तो लोगों ने भारत माता की जय, विकास तेरा यह बलिदान नहीं भूलेगा हिंदुस्तान के नारे लगाने शुरू कर दिए।                                  
बेटे के शव को देखकर विकास गुरुंग की मां, पिता और बहन उनसे लिपट गए। यहां मौजूद कोई भी शख्स अपनी आंखों से आंसुओं के सैलाब को नहीं रोक पाया। लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।
इससे पूर्व गुमानीवाला के शहीद अमित मार्ग पर जहां जहां भी से होकर शहीद विकास के पार्थिव शरीर को लेकर सेना का वाहन गुजरा। वहां सड़क के दोनों ओर शहीद की झलक पाने को लोगों की भारी भीड़ खड़ी रही।
आपको बता दें कि ईद के दिन जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में तैनात गोरखा राइफल की 2/3 प्लाटून की सैन्य टुकड़ी, जिसमें विकास भी शामिल था, सुबह सीमा पर पेट्रोलिंग कर रही थी। करीब साढ़े आठ बजे सीमा पार से दुश्मन ने अचानक सैन्य टुकड़ी पर फायरिंग खोल दी। सेना ने मोर्चा संभालते हुए जवाबी फायरिंग की। मगर, तभी एक मोर्टार विकास गुरुंग को लग गया, जिससे वह वीरगति को प्राप्त हो गए

Leave a Reply