तारीख 29 अक्टूबर

जब ये सन्देश सोशल मीडिया पर भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख व उत्तराखंड के राज्य राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने अपने फेसबुक पेज पर डाला था जिसमें कहा था और
उन्होंने लिखा था कि
मित्रों, मैं आपके साथ एक निजी जानकारी साझा करना चाहता हूँ। मेरी नियमित स्वास्थ्य जांच में अस्वस्थता पायी गयी थी जिसका मैं गत माह से उपचार करा रहा हूँ। चिकित्सकों की राय है कि मुझे कुछ और समय उपचार कराना होगा, तब तक मैं अनुपलब्ध रहूंगा।

ईश्वर की कृपा और आप सभी की शुभकामनाओं से पुनः देश, अपनी मातृभूमि उत्तराखंड और अपनी पार्टी की सेवा में पूर्ण स्वस्थ होकर लौटूंगा।
नमस्कार।

पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी के इस संदेश के बाद उत्तराखंड के राजनीतिक गलियारों से लेकर उनके शुभचिंतकों तक इस बात की जानकारी पहुंची थी कि अनिल बलूनी जी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और वे इलाज करा रहे हैं । तो दूसरी तरफ इससे कुछ दिन पहले अनिल बलूनी के कुछ राजनीतिक विरोधियों ने अनिल बलूनी के लगभग 20 से अधिक दिनों से उनके सक्रिय ना होने पर चुटकी लेते नज़र आये
तो कुछ सोशल मीडिया पर बलूनी के खिलाफ गलत प्रचार भी जारी कर डाला था।

खेर जब उनको बलूनी के अस्वस्थ होने और अस्प्ताल मैं इलाज़ कराने की जानकारी मिली तो उनके लिखे शब्दों , ओर राजनीतिक विरोधियों के खुद ही मुँह पर तमाचा पढ़ चुका था।

तो दूसरी तरफ पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी के अस्वस्थ होने की जानकारी मिलने के बाद उनके सुभचिन्तक ,पार्टी के युवा कार्यकर्ता , पहाड़ की जनता , उनके गाँव के लोग , नाते रिश्तेदार , विचलित हो गए थे


ओर इस दौरान फिर पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए मंदिर , गुरुद्वारा , देवी देवताओ , चारो धाम तक जगह जगह माथा टके कर दर्शन कर उनके सुभचिन्तक अनिल बलूनी के जल्द स्वस्थ होने की दुवाये माग रहें थे।


तो उधर अस्पताल मैं उन दिनों अनिल बलूनी ने गम्भीर बीमारी से जंग लड़ी और इस दौरान डॉक्टरों की पूरी टीम उनके बेहतर इलाज मे जुटी रही।


प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत , भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, ,शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय , पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत, सांसद अजय टम्टा, महराष्ट्र के राज्यपाल भगतसिंह कोस्यारी जी
ने अनिल बलूनी जी के जल्द स्वस्थ होने की कामना की

फिर इसी बीच 4 नवम्बर को ख़बर आई कि उत्तराखंड के राज्यसभा सांसद और भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी का किया हुवा वादा पूर होगा
ओर आठ नवंबर को अनिल बलूनी के पैतृक गांव में उनके मित्र संबित पात्रा इगास मनाने आ रहे है। उत्तराखंड  की परंपराओं को जिंदा रखने और घर-बार छोड़ चुके लोगों को जड़ों की ओर लौटने का आह्वान करने वाले अनिल बलूनी उस दौरान अधिक अस्वस्थ रहे ओर डॉक्टर ने उन्हें अधिक स्वास्थ्य लाभ लेने की सलाह दे रखी थी है जो अभी भी है
अनिल बलूनी ने वादा किया था कि इस बार इगास पर्व वे अपने पैतृक गांव में मनाएंगे। उन्होंने लोगों से भी गांवों में जाकर इगास पर्व मनाने का आह्वान किया था। लेकिन उस समय अधिक अस्वस्थ होने के कारण अनिल बलूनी अपने पैतृक गांव नहीं जा पाये थे ।
फिर अनिल बलूनी के करीबी मित्र संबित पात्रा जो भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं, उन्होंने एक वीडियो जारी किया था जिसमें वे इगास मनाने बलूनी के पैतृक गांव नकोट, कंडवालस्यु जाने की बात कही गई थी ।
ओर वादे के अनुसार संबित पात्रा व

अनिल बलूनी के इस समय पल पल के साया बने भाजपा नेता सतीश लखेड़ा
बलूनी जी के गाँव पहुचे


ओर इस मुहीम मैं उस दिन साथ दिया उत्तराखंड के विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चन्द्र अग्रवाल जी ने
वे भी अनिल बलूनी के
गाँव पहुँचे ।


जहा गाँव के लोगो ने उनका भव्य स्वागत किया ओर भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा और उत्तराखंड के विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चन्द्र अग्रवाल सहित भाजपा नेता सतीश लखेड़ा , पौड़ी विधायक मुकेश कोली ने ग्रामीणों के साथ दीपावली के 11 दिन बाद पड़ने वाला पर्व इगास(बूढी दीपावली) धूम धाम से मनाया। इस अवसर पर उन्होंने कहा था कि परंपराओं को बढ़ावा देकर ही पहाड़ों में रिवर्स पलायन की कल्पना को साकार किया जा सकता है। आपका बेट नकोट का लाल हमारे राज्य सभा सदस्य , मित्र , अनिल बलूनी जी जल्द स्वस्थ होकर आपके बीच मे होंगे वे तो अभी आना चाहते थे पर हमने मना किया , वे आज भी अस्प्ताल के बिस्तर मैं होने के बावजूद भी आपके विकास के लिए सोचते रहते है।

,उत्तराखंड के विकास के लिए इस हालत मैं भी पल पल सोच रहे है ।
हम (संबित पात्रा और विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, सतीश लखेड़ा , अनिल बलूनी के प्रतिनिधि के तौर पर इगास मानने नकोट पहुंचे है ।
ये दोनों नेता ओर अन्य उस दिन लगभग दोपहर लगभग 12 बजे गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने उनका परंपरागत तरीके से भव्य स्वागत किया था सांसद बलूनी के घर पर दोनों नेताओं ने उनकी चाची सुलोचना देवी से मुलाकात भी की थी इसके बाद गो पूजा की गई और चंद्रबदनी मंदिर में भी पूजा-अर्चना की गई थी ओर पारंपरिक नृत्य देख दोनों नेता अभिभूत हो गए थे और बोले थे कि अगली बार अनिल बलूनी जी के साथ फिर आयेगे। ओर आप सब ने उत्तराखंड ने जो अनिल जी के लिए दुआएं माँगी है वो उनको लग रही है और वे जल्द ठीक होकर पहले से अधिक तेजी के साथ फिर से न्यू उत्तराखंड के मिशन पर जुट जायेगे।


इस दौरान हर बूढ़ी आंखों मैं आंसू थे और दिल से दुवा थी कि उनका लाल भगवान डांडा नागराजा के आशीष से जल्द ठीक हो जायेगा। ।


समय आगे बढ़ रहा था
ओर अनिल बलूनी जी का ईलाज तेज़ी के साथ डॉक्टरों की टीम लगातार कर रही थी जो आज भी जारी है।
वही इस बीच सोशल मीडिया पर ख़बर भी तेजी से फैली की उत्तराखंड के भाजपा के नेताओं ने इतने बड़े कुनबे ने मानो उत्तराखंड के राज्य सभा सांसद और भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता तथा मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी को भूला ही दिया हो।

सिर्फ
महाराष्ट्र के राज्य पाल भगत सिंह कोस्यारी , पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत, अल्मोड़ा सांसद अजय टम्टा , को छोड़
उत्तराखंड के राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी जी का हाल-चाल पूछने के लिए मुंबई तक जाने के लिए उत्तराखंड के भाजपा कुनबे के दिग्गज नेताओं को समय नही
जबकि इस बीच भाजपा पार्टी के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा खुद अनिल बलूनी जी से अस्पताल में दो बार मिल चुके हैं।
सुनने मैं उत्तराखंड आया कि भाजपा का दिल्ली हाईकमान ओर कही केंद्रीय मंत्री स्वयं अनिल बलूनी जी का हाल चाल जानने अस्पताल पहुचे है ।
उनके गंभीर रोग से ग्रस्त होने की जानकारी मिलने पर दिल्ली और अन्य प्रमुख राज्यों के बीजेपी नेता उनसे अभी भी मिलने लगातार मुंबई पहुँच रहे है जिनमे केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी शामिल हैं।
लगातार बलूनी जी के सुभचिन्तक से मालूम चला है कि उनका ईलाज विशेषज्ञ चिकित्सकों का दल कर रहा है। उन पर लगातार निगाह रखी जा रही है। ओर उनके ईलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। केंद्र सरकार और पार्टी हाई कमान भी उनके स्वास्थ्य के बारे में नियमित रिपोर्ट ले रहे हैं।
कुछ लोगो ने ये भी कहा कि ऐसी परिस्थितियों में भी उत्तराखंड के नेताओं और मंत्रियों का उनसे मुलाक़ात करने मुंबई न जाना काफी ताज्जुब की बात रही ।
ठीक इसी दौरान ये खबर भी आई कि बलूनी खुद के गंभीर रूप से रोग ग्रस्त होने के बावजूद उत्तराखंड के ईमानदार पीसीएस अफसर हरक सिंह रावत की मदद के लिए आगे आए।


आपको बता दे कि हरक सिंह रावत जी की तबियत भी खराब है।ओर उनका ईलाज इस समय मुंबई के टाटा अस्पताल में चल रहा है ।
जब अनिल बलूनी जी को
ईमानदार मेहनती
हमारे पहाड़ के अफसर हरक सिंह जी की तबियत के बारे मे मालूम चला तो अनिल बलूनी जी ने खुद बिस्तर पर होने के बावजूद फोन कर के टाटा अस्पताल प्रबंधन को फोन किया। ओर हरक सिंह के इलाज़ कर रहे चिकित्सकों को रावत के ईलाज में कोई कसर न छोड़ने को कहा। निवेदन किया ।बलूनी की यही सोच उन्हें सबसे अलग बनाती है।
जानकारी अनुसार हरक सिंह रावत का ईलाज पहले दिल्ली के एम्स में चल रहा था। मामला और गंभीर हुआ तो वह टाटा अस्पताल शिफ्ट हो रखे है ।
इस बीच फिर सोशल मीडिया मैं अनिल बलूनी के अधिक तबियत खराब होने की ख़बर छपने लगीं जबकि उनका स्वास्थ्य तेज़ी के साथ ठीक हो रहा है । ओर वे अब भी स्वास्थ्य लाभ ले रहे है डॉक्टरों की पूरी टीम ने कहा है कि उन्हें अभी कुछ दिन ओर उन्हें आराम कि जरूरत है।


ओर फिर कल यानी 25 नवंबर को अचानक शोशल मीडिया पर पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी की बीमारी के बीच पहली तस्वीर उनका वीडियो नज़र आया।
यानी कि ठीक 29 अक्टूबर के बाद 25 नवंबर को अनिल बलूनी जी का संदेश मिला ।


अनिल बलूनी जी ने कहा कि
नमस्कार मित्रों बहुत समय से आपके लोगो के साथ संवाद करना चाहता था मैंने कुछ समय पूर्व आप लोगों से साझा किया था कि मैं लगभग डेढ़ माह से अस्वस्थ चल रहा हूं ओर मेरा इलाज चल रहा है।


अब चिकित्सकों की भी राय हैं कि मेरा उपचार ठीक दिशा मैं चल रहा है और परिणाम भी अच्छे आ रहे है ।
इस बीमारी के दौरान आप सभी की मुझे शुभकामनाएं संदेश मिले हैं व्हाट्सएप, सोशल मीडिया के माध्यम से मिले हैं फोन के माध्यम से मिले हैं। मैं आप सब लोगों का आभारी हूं कि इस बीमारी से लड़ते हुए आप सब ने मेरा मनोबल बढ़ाया मैं वाकई आप सब का तहे दिल से आभारी हूं अभी बहुत सारे दोस्तों ने मुझ से मिलने का आग्रह किया है लेकिन चिकित्सकों की राय है कि शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम है जब सब कुछ ठीक हो जाए तब आप सब लोगों से व्यक्तिगत तोर पर मुलाकात करूंगा ।
इस बीच बलूनी भावुक भी हुए उन्होंने कहा कि
मैंने बचपन से बहुत संघर्ष किया है बहुत छोटी सी उम्र में पिताजी का देहांत हो गया था ।
मुझे पूर्ण विश्वास है कि इस बीमारी से लड़ते हुए मैं जीत कर आऊँगा । और जो संकल्प मैंने उत्तराखंड में विकास के लिए हैं उन सब को पूरा करूंगा ऐसा मेरा विश्वास है। बहुत जल्द स्वस्थ होकर आपके पास लौटूंगा ओर आप सब ने जितनी शुभकामनाएं मुझे दिए उसके लिए आपका आभारी हूं।

उत्तराखंड की जनता, ओर अनिल बलूनी के सुभचिन्तकों के चेहरे पर अब इस वीडियो के बाद ख़ुशी का भाव है उनका कहना है कि हमारे युवा नेता जी तेज़ी से स्वस्थ हो रहे है जो हमारे लिए खुशी की बात है।

साथ ही उत्तखण्ड मैं अब ये बात भी तेजी से फेल रही है कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत जल्द ही अनिल बलूनी से उनका हाल चाल जानने मुंबई रवाना हो रहे हैं


अब  इस बात का जिक्र भी है कि देखो उत्तराखंड भाजपा के इतने बड़े कुनबे ने अनिल बलूनी का हाल चाल जानने की कोशिश भी नही की, उनसे मुुुलाकात तक नही की  जबकि विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत उनको देखने मिलने जायेगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here