224 कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित होने पर हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी पर मुकदमा

इस समय की बडी खबर हरिद्वार से है जहा हरिद्वार में सिडकुल की हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी में कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित होने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बता दे कि कल तक यह संख्या 220 थी ओर आज सुबह तक चार कर्मचारियों की रिपोर्ट ओर पॉजिटिव आई हैओर अब यह आंकड़ा 224 पहुंच गया है।
वही इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने हिंदुस्तान लीवर कंपनी प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। जिसमें कर्मचारियों को इकट्ठा कर लोगों की जान खतरे में डालने का आरोप लगाया गया है। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने इसकी पुष्टि की है।

वही सिडकुल स्थित हिंदुस्तान यूनिलीवर में कोरोना के 224 केस सामने आने से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई है। प्रशासन ने कंपनी में उत्पादन बंद करा दिया है। कंपनी में अब तक 224 कर्मचारियों में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 496 सैंपलों की रिपोर्ट आनी बाकी है।
तो एक ही दिन में रिकॉर्ड सबसे अधिक मरीज सामने आने के बाद प्रशासन भी एक्शन मोड में आ गया है। डीएम ने जिले के सभी उद्योगों में दस फीसदी कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट कराने के आदेश जारी किए हैं। साथ ही संक्रमण रोकने के लिए 30 नई टीमों का गठन किया गया है। बता दे कि
रविवार को हरिद्वार जनपद में 171 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इनमें सिडकुल स्थित हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी के 153 मरीज शामिल रहे। कंपनी में 1400 कर्मचारियों के सैंपलों की जांच में अब तक 224 कर्मचारी पॉजिटिव मिले हैं, जबकि 1800 के सैंपल लिए जा चुके हैं। कंपनी में कुल 2500 कर्मचारी कार्यरत हैं।
वही हिंदुस्तान यूनिलीवर में बड़ी संख्या में कोरोना के मामले सामने आने पर डीएम सी रविशंकर ने आदेश जारी किए हैं कि सभी निजी कंपनियां और उद्योग अपने यहां दस फीसदी कर्मचारियों की कोरोना जांच खुद के खर्चे से निजी लैब से कराएंगे। जांच के लिए कंपनी खुद कर्मचारियों का चयन करेंगी।
अगर इनमें से कोई पॉजिटिव मिलता है तो सभी कर्मचारियों की जांच होगी। साथ ही कोरोना के मरीजों के संपर्क में आने वालों को चिह्नित करने के लिए गांवों और शहरी क्षेत्रों में विलेज व सिटी रिस्पांस के लिए 30 नई टीमों का गठन किया गया है। जिले में अब संक्रमण रोकने के लिए कुल 58 टीमें काम करेंगी, जिनमें 158 कर्मचारी होंगे। डीएम ने बताया कि अभी तक आए मरीजों में 99 प्रतिशत में कोरोना के प्राथमिक लक्षण सामने नहीं आ रहे हैं। 
ख़बर है कि अकेले सिडकुल में ही करानी होंगी 20 हजार जांचें 
बताया जा रहा है कि सिडकुल क्षेत्र की कंपनियों में करीब दो लाख कर्मचारी हैं। इनमें से दस प्रतिशत के हिसाब से 20 हजार की जांच करनी होगी।
डीएम सी रविशंकर के आदेश पर अब दस प्रतिशत कर्मचारियों के सैंपलों की जांच होगी। यह आदेश आज से लागू करा दिया गया है। एक जांच की कीमत 2400 रुपये है। सीएमओ ने बताया कि सैंपलिंग के लिए तैयारियां शुरू करा दी गई हैं।

अब हरिद्वार में 321 एक्टिव केस 

175 नए मरीज सामने आने के बाद अब हरिद्वार जनपद में 325 एक्टिव केस हो गए हैं। सीएमओ डॉ. शंभू कुमार झा ने बताया कि शनिवार को 1507 के सैंपल लिए गए। 1420 की रिपोर्ट आई। जनपद में अब तक 18233 के सैंपल लिए जा चुके हैं।

इनमें से 15117 की रिपोर्ट आ चुकी है और अब 2344 की रिपोर्ट आनी बाकी है। अब तक 656 मरीज सामने आ चुके हैं। कोरोना से बचाव और जागरूकता अभियान लगातार जारी है। जनपद में 150 से अधिक क्षेत्र पाबंद क्षेत्र हो गए हैं। लगातार पाबंद क्षेत्रों के बढ़ने से लोगों केे काम भी बाधित हो रहे हैं।
रविवार को हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी में एक साथ 153 कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव आने आने के बाद कई सवाल खड़े होने लगे हैं। लोगों का कहना है कि समय रहते अगर कंपनी प्रबंधन और प्रशासन ने ठोस निर्णय लिए होते तो यह नौबत नहीं आती।
जानकारी के अनुसार, सीतापुर निवासी एक कर्मचारी दिल्ली गया था, जहां वह अपने भाई से मिला। वहां से लौटने के बाद वह काम पर आ गया। बाद में पता चला कि दिल्ली में रहने वाले उसके भाई को कोरोना हुआ है। इसके बाद कर्मचारी के भी सैंपल लिए गए और उसमें कोरोना की पुष्टि हुई।
इसके बाद भी कंपनी में कामकाज होता रहा। कुछ दिन बाद प्रशासन ने एक यूनिट में उत्पादन बंद कराया, जबकि बाकी जगह काम होता रहा। खास बात यह है कि कंपनी के कर्मचारी जिले के कई इलाकों में किराये पर या अपने घरों में रहते हैं। इस दौरान वह बाहर भी कई लोगों के संपर्क में आते रहे। अब आशंका जताई जा रही है कि उनके संपर्क में आए लोग भी संक्रमित हो सकते हैं।
 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here