खास खबर:- आखिर कौन है वो नौजवान नेता जिसको नैनीताल सीट से चुनाव लड़वाना चाहते हैं कोश्यारी ?

त्रिवेन्द्र सरकार के कामकाज पर ऐसा क्या कहा कोश्यारी ने जो मीडिया ने साध ली चुप्पी ?

नैनीताल। उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीटों को लेकर सियासत गर्माई हुई है। खासतौर से सत्ताधारी दल भाजपा के अंदर। 2014 में लोकसभा की पांचों सीटों पर काबिज होने वाली भाजपा 2019 में भी इतिहास दोहराना चाहती है। लेकिन इस बार समीकरण कुछ बदले हुए हैं। पौड़ी सीट से सांसद भुवन चन्द्र खंडूडी की स्वास्थ्य कारणों से चुनाव लड़ने की संभावना न के बराबर है। हरिद्वार सीट से सांसद रमेश पोखरियाल निशंक को पार्टी दुबारा मौका दे सकती है। लेकिन टिहरी सीट पर माला राजलक्ष्मी को टिकट देने पर उफावोह की स्थिति है। चर्चाएं गर्म हैं कि विजय बहुगुणा पर पार्टी दांव खेल सकती है कुछ दिनों पर बहुगुणा द्वारा दी गई दावत में भी यही मुद्दा छाया रहा। वहीं अल्मोड़ा सीट को लेकर भी स्थितियां साफ नहीं हो पा रही हैं वहां राज्य मंत्री रेखा आर्य ने भी दावेदारी जताई हुई है, वहीं वर्तमान संासद अजय टम्टा खुलकर कुछ भी कहने से बच रहे हैं। यही स्थिति नैनीताल सीट को लेकर भी बनी हुई है। इस सीट से भगत सिंह कोश्यारी सांसद हैं। पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी ने 2019 के संसदीय चुनाव में फिर से नैनीताल-ऊधमसिंह नगर सीट से उतरने को लेकर गोलमोल जवाब देते हुए फैसला पार्टी हाईकमान पर छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक जीवन की शुरुआत से अब तक उनकी कोशिश रही है कि चुनाव लडने के बजाय लड़ाया जाए। दूसरों को आगे बढ़ाया जाए। इस बार भी उनकी कोशिश होगी कि नौजवानों को आगे किया जाए।

पूर्व सीएम कोश्यारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए प्रदेश सरकार के कामकाज की खुलकर सराहना करने से परहेज किया। हालांकि कहा कि सरकार के कामकाज से मीडिया खुश है, इसलिए उनका खुश होना स्वाभाविक है। कोश्यारी ने कहा कि 2019 में फिर से पीएम नरेंद्र मोदी को देश की कमान जरूरी है। बोले, एनडीए की वाजपेयी सरकार ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत हर गांव को 2012 तक सड़क तथा हर घर तक बिजली का लक्ष्य तय किया था, मगर यूपीए की गलत नीतियों की वजह से यह लक्ष्य 2019 में मोदी के राज में पूरा हो रहा है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here