बीजेपी हाईकमान के लिए खंडूड़ी ज़रूरी है या नही ! सोशल मीडिया मे ख़बर वायरल!

 

जनरल बी सी खंडूड़ी को रक्षा की संसदीय समिति से क्यों हटाया गया आपको बता दे कि जो सोशल मीडिया मे वट्सअप पर वायरल हो रहा है वो ठीक नीचे लिखे गए शब्द है

कुछ कहानियाँ बिना आहट के घट जाती हैं। जनरल बी सी खंडूड़ी रक्षा मामलों की संसदीय समिति के अध्यक्ष थे। पत्रकार अदिति फड़णवीस ने बिज़नेस स्टैंडर्ड में लिखा है कि आज तक किसी को भी संसदीय समिति के चेयरमैनी से नहीं हटाया गया। वे लोकसभा के कार्यकाल समाप्त होने तक चेयरमैन बने रहते हैं जब तक कि वे  ख़ुद इस्तीफ़ा न दे दें। पार्टी से निकाल न दिए जाएँ या मंत्री न बन जाएँ।

इस महीने बीजेपी ने लोकसभा की अध्यक्ष को सूचित किया कि वह बी सी खंडूड़ी की जगह कलराज मिश्र को चेयरमैन बना रही है जिन्हें पिछले दिनों मंत्री पद से हटा दिया था। लोकसभा का कार्यकाल बाक़ी है, खंडूडी साहब अपने आप रिटायर हो जाते। वाजपेयी सरकार में भूतल परिवहन मंत्री के तौर पर सड़कों का जाल बिछाने के लिए उन्हें याद किया जाता है।

अब आते हैं कि क्यों हटाया गया। अदिति फडणविस लिखती हैं कि इस साल मार्च में संसदीय समिति अपनी रिपोर्ट पेश करती है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि रक्षा मंत्रालय को इतना कम पैसा दिया जा रहा है कि वह अनिवार्य ज़रूरतों को मुश्किल से पूरा कर पा रही है। सेना को आधुनिक बनाने के लिए 21,338 करोड़ दिया गया है जो कि बहुत कम है।सेना के जो 125 प्रोजेक्ट चल रहे हैं उन्हीं पर 29,033 करोड़ का ख़र्च होना है। नौ सेना का बजट मात्र 2.84 प्रतिशत बढ़ा है। यह राशि मुद्रा स्फीति के साथ समायोजित करने पर कुछ भी नहीं है। एक तरह से पहले की तुलना में कम हो जाती है।

यह सब बी सी खंडूडी को सपने में नहीं आया था। समिति के सामने सेना के अफ़सरान ने उन्हें बताया है। उनका कहना है कि सेना को जो बजट मिलता है उसका मात्र 14 प्रतिशत आधुनिक बनाने के काम के लिए होता है जबकि यह 22-24 प्रतिशत होना चाहिए। ज़ाहिर है जो ख़ुद भी सेना से आया हो, वह इन तथ्यों के साथ कैसे बेईमानी करता। वित्त और रक्षा मंत्रालय को झकझोरने के लिए खंडूडी साहब ने रिपोर्ट में सारी बातें जस की तस रख दी। बीजेपी को कहाँ तो रिपोर्प  पर एक्शन लेना था लेकिन एक्शन ले लिया खंडूडी के ख़िलाफ़।

शायद डर रहा होगा कि इस रिपोर्ट के आधार पर विपक्ष सरकार को घेरेगा। मीडिया लंबे लंबे लेख लिखेगा। जनता सवाल करेगी कि जब टैक्स और राजस्व वसूली का दावा करते हैं तो फिर सेना का बजट कैसे कम हो गया या अपर्याप्त रह गया। प्रेस कांफ्रेंस में मंत्री गाल फुला फुला कर बोल रहे हैं कि रक्षा से समझौता नहीं करेंगे लेकिन वही एक सच्ची रिपोर्ट लिखने वाले सेना के जनरल को चुपके से हटा दिया जाता है।

आप उस रिपोर्ट के बारे में जानना चाहते हैं तो लोकसभा की साइट पर जाकर पढ़ें। इंटरनेट में सर्च कीजिए कि इस बारे में कितनी ख़बरें छपी हैं। याद रखिए लोकतंत्र में वोटर होने के लिए बहुत मेहनत करनी होती है। पढ़ना पड़ता है। वर्ना फिर कोई आँधी आएगी और खर-पतवार की तरह उड़ा ले जाएगी।  

बहराल  ऊपर लिखी बाते सोशल मीडिया मे तेजी के साथ वायरल हो रही है याबी सच क्या है ये तो जर्नल खंडूड़ी ही जाने ।  पर इस सबके बाद उत्तराखंड कांग्रेस ने भी बीजेपी पर हमला बोलना शूरु कर दिया है ज़िस  काम को कांग्रेस के नेता सूर्यकांत धस्माना निभा रहे है  वे   आये दिन प्रेस मे इस बात को उठा रहे है

तो बहुत से बीजेपी के नेताओ के फोन पर  भी ये वारयल होता दिख रहा है जो इसकी सच्चाई जानने के इछुक है

बहराल उतराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और पौड़ी सासंद जरनल खंडूड़ी राज्य मे लोकप्रिय मुख्य्मंत्री रहे  है इस बात से इनकार नही किया जा सकता इसलिये जनता भी इस बात को जानने के लिए बेताब है ।

तो कुछ ये कह  रहे है कि जरनल खंडूड़ी अब अपने स्वास्थ्य में आई गिरावट के कारण राजनीति से दूर होना चाहते है और इस बार वो पौड़ी से भी चुनावी मैदान में नही उतरेगे  जो उनका खुद का फैसला होगा ये ख़बर भी है।

बहराल बात जो भी  जरनल  खंडूड़ी जी से जब मुलाकात  होगी तो सच जरूर जानेगे की बात है क्या  फिलहाल इस  वारयल होते संदेश से कुछ साफ नही का जा सकता है ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here