पैर फिसलने से भागीरथी नदी में बहा दंपति, पत्नी का शव बरामद, पति लापता

ख़बर दुःखद है उत्तराखंड में मेरठ से पहुंचे पति-पत्नी बृहस्पतिवार को भागीरथी नदी में बह गए। जहा पत्नी का शव देवप्रयाग से लगभग 18 किमी दूर व्यासघाट के पास गंगा नदी से मिला , जबकि उनके पति का पता नहीं चल सका है। आपको बता दे कि ये दंपति अपने बच्चों को हरिद्वार में किसी रिश्तेदार के यहां छोड़कर अपने मित्रों के साथ यहां घूमने आए थे।
ख़बर विस्तार से

: थानाध्यक्ष विनोद राणा ने बताया कि मूलत: कोटद्वार और हाल में भोला रोड, कृष्ण विहार निकट कलावती पब्लिक स्कूल परतापुर, मेरठ निवासी राहुल व उनकी पत्नी दीपा अपने दो दोस्तों ललित पुत्र राम किशन व अमित पुत्र हरिकृष्ण के साथ देवप्रयाग घूमने आए थे। फिर देवप्रयाग पहुंचने पर अमित व ललित बस स्टेशन पर ही रुक गए, जबकि राहुल और उनकी पत्नी दीपा नहाने के लिए पुराने मोटर पुल के समीप पहुंच गए। वही एसओ राणा ने बताया कि ललित व अमित ने दीपा के भागीरथी में फिसलने पर उन्हें बचाने के लिए उनके पति राहुल को नदी में कूद मारते हुए देखा तो इसकी जानकारी उन्होंने तत्काल पुलिस को दी।


वही मौके पर पहुंची पुलिस ने तुरंत दोनों की तलाश शुरू कर दी। देवप्रयाग से 18 किमी आगे व्यासघाट के निकट गंगा किनारे महिला का शव देखा गया जिसे पुलिस टीम ने रस्सियों के सहारे नदी से बाहर निकाला, जिसकी पहचान ललित व अमित ने दीपा के रूप में की।
वही अमित व ललित ने पुलिस को बताया कि वे लोग दंपति और उनके दो बच्चों के साथ बुधवार दोपहर मेरठ से ऋषिकेश के लिए रवाना हुए थे। इस बीच सबने देवप्रयाग घूमने का निर्णय लिया। राहुल व दीपा ने बेटे अथर्व (10) व बेटी अनन्या (8) को रात हरिद्वार में किसी रिश्तेदार के यहां छोड़ दिया और स्वयं ऋषिकेश आ गए। इसके बाद चारों बृहस्पतिवार को सुबह देवप्रयाग के लिए निकले।
जानकारी है कि राहुल 15 सालो से दिल्ली में चाय की दुकान व टिफिन का कार्य करता था। भागीरथी तट पर जहां ये घटना हुई, वहां केंद्रीय जल आयोग द्वारा नदी का जल स्तर नापा जाता है। इसके लिए केंद्रीय जल आयोग ने सड़क से भागीरथी नदी तक सीढ़ियां बनायी है। इसका उपयोग स्नान के लिए नहीं किया जाता है। अनजाने में ही दंपति वहां नहाने उतर गये थे। ओर ये दुःखद हादसा हो गया।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here