अच्छा तो हर दा ओर किशोर मे समझौता हो गया क्योकि ये तस्वीर बोल रही हैं !

देहरादून

उत्तराखंड में कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता किशोर उपाध्याय शनिवार कि सुबह डालनवाला थाने में अपनी गिरफ्तारी देने पहुचे ओर साथ में थे किशोर के पीछे पीछे थाने में भारी मात्रा में कांग्रेस नेता भी पहुँच गए। आपको बता दे कि पुलिस पिछले दिनों उनके घर पर गैर जमानती वारंट लेकर उन्हें गिरफ्तार करने पहुंची थी। जबकि उक्त मामले में उपाध्याय पहले ही जमानत करा चुके थे। साथ आपको ये भी बता दे कि
20 दिसंबर 2009 में विधानसभा कूच के दौरान शांतिभंग के आरोप में उपाध्याय और पार्टी नेताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। इस दौरान पुलिस से मारपीट और पथराव भी हुई थी। पुलिस ने किशोर उपाध्याय समेत दर्जनों कांग्रेस नेताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले में पिछले महीने नेताओं के खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किए थे। 23 अप्रैल को किशोर उपाध्याय समेत पांच अन्य नेताओं ने जमानत करा ली थी पर कुछ दिन पहले पुलिस किशोर के घर उनको गिरफ्तार करने पहुच गयी जिसको किशोर ने बीजेपी की साजिस करार दिया तब आज किशोर खूद अपनी गिरफ्तारी देने गए वे सीओ डालनवाला से आज बात करने के लिए किशोर उपाध्याय अंदर गए। इस दौरान उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ कोई अन्य एनबीडब्ल्यू हैं तो मुझे अरेस्ट कर लें।।               पुलिस के मना करने पर किशोर थाने से बाहर आ गए। ओर फिर किशोर ने कहा कि पुलिस अकेले मेरे घर ही पुलिस क्यों आई। अन्य भाजपा नेताओं के खिलाफ पुलिस ने क्यों कोई स्टेप नहीं उठाया। इसमें साफ तौर पर साजिश नजर आ रही है। वहीं शनिवार को विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल अपनी जमानत करवाने कोर्ट पहुंचे हैं।
गिरफ्तारी देने पहुंचे किशोर उपाधयाय ने कहा की सरकार जानबूझकर उन्हें परेशान कर रही है।उन्होंने पुलिस की इस कार्यवाई को भाजपा से प्रेरित बताया। उन्होंने कहा कि मैं कानून का सम्मान करता हूं और मैने इसलिए समय से जमानत भी कराई थी। उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस उनके घर वारंट लेकर नहीं बल्कि दबिश देने गयी थी। ये पुलिस की प्रक्रिया में होना चाहिए कि किसी ने जमानत कराई है या नहीं फिर उसकी पड़ताल करके ही कार्रवाई करनी चाहिए।               लेकिन इस पूरे मामले में खास बात ये रही कि हरीश रावत के सभी समर्थक आज किशोर जी के साथ देखे गए बोलता उत्तराखण्ड को सुत्रो   से जानकारी मिली हैं कि हरीश रावत ने अपने सभी समर्थकों ओर काग्रेस के कार्यकताओं को संदेश भेजा कि वो सब किशोर जी के साथ रहे मतलब अब ये बात साफ हो गयी हैं कि दोनों नेताओं के बीच जो गलत फहमियां थी उनको राहुल ग़ांधी मिटा चुके हैं और अब हर दा ओर किशोर मिलकर काग्रेसः को मजबूत करने का काम करेगे ओर साथ मैं प्रदेश अध्य्क्ष प्रीतम सिंह तो हैं चलो अच्छा हैं इसी बहाने आपसी शिकायत इन नेताओं की दूर हो गयी जो काग्रेस के लिए आने वाले चुनाव से पहले सुभ संकेत हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here