पूरे उत्तराखण्ड का एक मात्र विद्यायक जिन्होंने सुझाव दिया विद्यायक जी असली चैपियन आप ही हो !

444

भाजपा के बद्रीनाथ विधानसभा के विधायक महेंद्र भट्ट आज पूरे दिन सोशल मीडिया मे छाये रहे ।ओर इस कदर छाए कि फिर कही मिडिया चैनलों ने उनकी फेसबुक पोस्ट का पोस्मार्टम कर डाला था।


जिसके बाद खुद भाजपा विद्यायक को अपने द्वारा की गई फेसबुक पोस्ट को हटाना पड़ा वही
आपको बता दे कि उत्तराखंड के बद्रीनाथ विधान सभा के विद्यायक ने मीडिया को बताया कि उन्होने खानपुर के विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के अंदर गुणात्मक सुधार लाने के लिए जो सुझाव सोशल मीडिया के माध्यम से दिया, वह सही किया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने जो भी लिखा या कहा वो वह सब कुछ समझाने व सुधार लाने की नियति से कहा है। बदरीनाथ के विधायक महेंद्र भट्ट ने खानपुर के विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन को भाजपा से छह साल के लिए निकाले जाने के बाद सोशल मीडिया पर की गई टिप्पणी पर अपना बयान दिया उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति के गलत व्यवहार पर उसे गलत शब्‍द कहना आसान है, लेकिन क्या उसके अंदर गुणात्मक सुधार के लिए सुझाव देना अपराध तो नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा से विधायक को निकाले जाने के पार्टी के निर्णय का मैं समर्थन करता हूं। क्योंकि विधायक ने पार्टी व प्रदेश के बारे मे गलत शब्दों का इस्तेमाल किया था। उन्होंने यह भी कहा कि विधायक ने जब से सब बातें की तब वे कांग्रेस में थे। जो भी वीडियो या फोटो इन दिनों मीडिया में छाए है, वे खानपुर के विधायक साफ कर चुके है कि कांग्रेस में रहने के दौरान के हैं। इसलिए मैंने सुझाव दिया कि भाजपा से छह साल के लिए निष्कासित होने के बाद कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन भाजपा के साहित्य को पढ़े, विचारों को समझे तथा अपने पर गुणात्मक सुधार लाए। यही मेरा सुझाव था। सुझाव देना मैंने अपना कर्त्तव्य समझा। वे चार बार से विधायक हैं। व्यक्ति में विकृति आती है, तो गलत शब्‍द कहना बहुत आसान है। परंतु उसे सुधरने का मार्ग दर्शन कर सुझाव दिया जान भी जरूरी है। राज्य में शायद में पहला व्यक्त्ति हूं, जिसने विधायक चैंपियन को सुधार लाने के लिए सुझाव दिया।
ये कहना भाजपा के विद्यायक महेंद्र भट्ट का है।
बहराल भले ही विद्यायक जी अपनी इंसानियत के नज़रिए से ठीक हो, मित्र की नज़र से भी , और सदन मैं साथ बैठते है इसलिए उनको बुरा भी लगा हो। पर विद्यायक जी आजकल आपके दुश्मनों की भी कमी नही ओर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के दुश्मनों की भी नही, इसलिए हम तो यही कहेंगे कि सीधे साधे विद्यायक महेंद्र भट्ट जी की इस समय आप समय की नजाकत को   समझतेे होंगे।

जब उत्तराखण्ड मैं मोदी लहर देखने को  मिली विधानसभा चुनाव ओर अब लोकसभा चुनाव मैं  ओर सब जीत गए भले ही सामने वाले कुछ अच्छे  व्यक्ति रहे होंगे  लेकिन मोदी की आधी में सब उड़ गए।ठीक उसी प्रकार आप भले  ही अच्छे व्यक्ति हो पर इस समय पूरे उत्तराखण्ड में  पार्टी से निकाले गए विद्यायक के लिए गुसा है ठीक उसी प्रकार है जैसे मोदी लहर थी  अब आप खुद समझदार है कि होना क्या था या क्या है। भोले भाले विद्यायक जी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here