पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी को लिखना पढ़ा पत्र , जाने किस के लिए ओर क्यो ,

200

उत्तराखंड से राज्यसभा सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि उन्हें अपनी सांसद निधि को जनहित में जारी करने की अनुमति दी जाए।
आपको बता दे कि पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र लिख कर कहा है कि उत्तराखंड में मतदान 11 अप्रैल को संपन्न हो चुका है लेकिन आदर्श आचार संहिता के कारण लंबे समय से राज्य में सांसद निधि के कार्य लंबित पड़े है।
वही पहाड़ पुत्र हमारे सांसद बलूनी ने कहा कि आचार संहिता के अंतर्गत नए फैसले नहीं लिए जा सकते हैं, जिसके पीछे चुनाव आयोग की भावना रहती है कि नये निर्णय से मतदाता प्रभावित हो सकता है। लेकिन ऐसे निर्णय जो जनता को बड़ी राहत देते हैं, जिनका मतदाता को प्रभावित या देश के शेष स्थानों पर चल रहे चुनाव को प्रभावित करने से संबंध नहीं है, ऐसे विषयों पर चुनाव आयोग को सहमति देनी चाहिए।
वही पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने कहा कि चुनाव अधिसूचना के दौरान विकास से जुड़े जो विषय उनके संज्ञान में आये, उन पर वे अपनी सांसद निधि के माध्यम से शीघ्र मदद करना चाहते हैं। उन्होंने चुनाव आयोग से इस विषय पर जनहित को ध्यान में रखकर निर्णय करने का आग्रह किया है।
सुना आपने ओर देखा इसे कहते है हमारा सांसद , आपका सांसद, उत्तराखंड का सांसद, भारत का सांसद,
है।

भगवान ये सोच उन सबको देना जो अबकी बार 23 मई के बाद संसद पहुचेंगे।
ओर जो अभी राज्य सभा मे है और जो नए राज्य सभा सांसद बनेगे।
बुरा मत मानना मानने वालों। सच है पर कड़वा है। क्योंकि आज तक कि बात करे तो हमारे सांसद अपने  पूरे कार्यकाल के दौरान जनहित के लिए अपनी पूरी सांसद नीधि ही खर्च नही कर पाते अब नाम किस किस का ले। छोड़ो सर जी जाने भी दो बस यही कहता है बोलता उत्तराखंड
बलूनी से सीखो।

काश राज्य का  अब तक का   पिछला  सांसद जन हित के लिए हर पल हर  हर सांस इस तरह ही कार्य करता , कोशिश करता,  तो आज आधा पहाड़ बीमार ना रहता,   खेत बंजर ना होते,   ओर पहाड़ से इस कदर पलायन    ना होता।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here