आपको बता दे कि उत्तराखंड रुड़की भगवानपुर में जहरीली शराब पीने से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है. घटना के बाद से आसपास के पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है.। तो सरकार मे भी हड़कंप मचा हुवा है अभी तक जहरीली शराब पीने से रुड़की में 14 और सहारनपुर में 16 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, इस मामले में अब आबकारी मंत्री प्रकास पन्त ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. 
आबकारी मंत्री प्रकाश पन्त के अनुसार इस प्रकरण की प्रथम दृष्टया जांच मे खुलासा ये हुवा है कि मिथाइल अल्कोहल का सेवन करने के कारण लोगों की मौत हुई है. यह बेहद ही खतरनाक पदार्थ होता है. जिसकी 10ml मात्रा ही शरीर में जाने पर इंसान अंधा हो सकता है और अगर मात्रा इससे ज्यादा भी हुई तो मौत हो सकती है. तो इस पूरी घटना मे नज़र आ रहा है।


मंत्री प्रकाश पंत ने कहा है कि इस मामले में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ भी जांच की जा रही है. दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. पंत ने बताया कि जिन लोगों ने जहरीली शराब परोसी थी उनमें से एक मुख्य आरोपी पहले भी तीन बार अवैध शराब के कारोबार में जेल जा चुका था और उसकी भी मौत हो गई है.


आपको बता दे कि हरिद्वार के भगवानपुर अंतर्गत बालूपुर गांव में एक तेहरवीं कार्यक्रम में देर रात लोगों ने भोजन के साथ शराब पी थी. जब सुबह कुछ लोगों की एक-एक करके मौत होने लगी तो इस मामले का खुलासा हुआ. बताया जा रहा है कि यूपी के सहारनपुर जिले से भी कुछ लोग इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे. जिन्होंने जहरीली शराब का सेवन किया था
वही आबकारी मंत्री प्रकास पन्त जी की तरफ से
प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई है जो इस प्रकार है

देहरादून। आज हरिद्वार जनपद के रुड़की क्षेत्र-2 के अन्तर्गत बालूपुर एवं बिंदु गांव तथा मलभसवां में अवैध शराब पीने से 14 व्यक्तियों की मृत्यु पर मा0 वित्त व आबकारी मंत्री प्रकाश पन्त ने गहरा दुख व्यक्त किया है और विभागीय लापरवाही पर कड़ी कार्यवाही करते हुए आबकारी विभाग के कुल 13 अधिकारियों/कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है। यह निलम्बन कार्यवाही अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही है, इसके साथ ही पूरे राज्य में अवैध शराब, शराब की तस्करी और कच्ची शराब के निर्माण के विरुद्ध विशेष अभियान चलाये जाने का निर्देश दिया है।
हरिद्वार के रुड़की क्षेत्र में अवैध कच्ची शराब पीने से लगभग 14 लोगों की मौत हो गई है और कई अन्य लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। यह अवैध कच्ची शराब गांव में पारिवारिक कार्यक्रम के दौरान लोगों को पिलाई गई थी, जिससे यह दुःखद घटना घटी है, जिस पर मा0 वित्त व आबकारी मंत्री श् प्रकाश पन्त ने गहरा दुख व्यक्त किया है और आबकारी विभाग के क्षेत्र-2 रुड़की एवं जनपदीय प्रवर्तन हरिद्वार में तैनात आबकारी निरीक्षकों एवं अधीनस्थ स्टाॅफ को लापरवाही के चलते प्रथमदृष्टया दोषी पाये जाने पर तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है। इसके साथ ही मंत्री ने पूरे प्रदेश में अवैध शराब, शराब की तस्करी और कच्ची शराब के निर्माण के विरुद्ध विशेष अभियान चलाये जाने का आदेश विभागीय अधिकारियों को दिया है। इसके साथ ही मंत्री द्वारा पूरी घटना की मजिस्ट्रेट जांच के निर्देश दिये हैं। मंत्रीजी ने बताया कि आई0जी0 पुलिस स्वयं घटना स्थल पर मौजूद रह कर निगरानी कर रहे हैं, जिससे मामले में कोई भी लापरवाही न हो। इतना ही नहीं वरन उक्त घटना के क्षेत्रान्तर्गत पुलिस कर्मियों पर भी कार्यवाही की गई है। मंत्री जी ने बताया कि नरेन्द्र सिंह आबकारी निरीक्षक, महेश चन्द्र पन्त प्रधान आबकारी सिपाही, जगमोहन सेठी प्रधान आबकारी सिपाही, अजब सिंह प्रधान आबकारी सिपाही, प्रमिल कुमार आबकारी सिपाही, अनुरानी आबकारी सिपाही, सृष्टि यादव आबकारी सिपाही, दर्शन सिंह आबकारी निरीक्षक, लाखीराम सकलानी, उपआबकारी निरीक्षक, विनोद सिंह प्रधान आबकारी सिपाही, प्रमोद कुमार आबकारी सिपाही, अंजू गिरि आबकारी सिपाही, पूजा गिरि आबकारी सिपाही को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है। इसके साथ ही पूरे राज्य में गहन पड़ताल की जा रही है जिससे राज्य के लोगों को फिर से किसी अवैध व कच्ची शराब के द्वारा नुकसान न झेलना पड़े। मंत्री ने कहा है कि हम सब मृतकों के परिवारों से पूरी सहानुभूति है और दुख की इस घड़ी में सरकार उनके साथ खड़ी है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here