तस्वीरों में जिन्हें आप देख रहे हैं ये कोई सन्यासी नही बल्कि उतराखण्ड राज्य की महिला सशक्तीकरण मंत्री रेखा आर्या है जो कल मौनी अमावस्या के मौके पर प्रयागराज कुंभ में मौजूद रही और वहा इन्होंने माँ गंगा में खूब डुबकी भी लगाई जिसके बाद साधु-संतों का आशीर्वाद लिया। आपको बता दे कि शाही स्नान के दौरान साधु संतों ने महामंडलेश्वर की तर्ज पर ही मंत्री रेखा आर्य का सम्मान किया। ओर अखाड़ों के शाही जुलूस यात्रा में मंत्री रथ पर सवार होकर निकलीं। मंत्री जी ने ये तो सोचा ही नही था जो वहां हो गया। आपको बता दे की अपने पति जीएस साहू के साथ मंत्री रेखा आर्या श्री पंच दश नाम जूना अखाड़ा के महंत हरि गिरि जी महाराज जूना अखाड़ा के शिविर में पहुंचीं। ओर ब्रह्म मुहूर्त में अपने गुरु के सानिध्य में मंत्री ने अपने पति के साथ मां गंगा में डुबकी लगाकर पूजा अर्चना की।
वही कल मौनी अमावस्या के अवसर पर प्रयागराज में शाही स्नान में पंच दशनाम जूना अखाड़ा के जुलूस में सभी साधु संतों के साथ महामंडलेश्वर शंकराचार्य अपने-अपने सिंहासन पर विराजमान होकर निकले थे
वही जानकारी है कि जुलूस के सबसे आगे आचार्य वासुदेवानंद सरस्वती का रथ चल रहा था। जूना अखाड़ा के संरक्षक बतौर आचार्य ने मंत्री को मुखमणि महामंडलेश्वर की तरह सिंहासन पर बिठाया।


वही मंत्री रेखा आर्य ने इस मौके पर सभी साधु संतों के साथ ही सभी महामंडलेश्वर और सभी अखाड़ों के अध्यक्षों से वर्ष 2021 में हरिद्वार में आयोजित होने वाले महाकुंभ में पहुंचने का विनम्र निवेदन किया है । आपको बता दे कि इससे पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत भी सभी पूज्नीय संत महात्माओं व अलग अलग आखड़ा के अध्यक्ष जी को साल 2021 में हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ के लिए निमंत्रण दे कर आ चुके है। पर जब रथ पर सवार उतराखण्ड की मंत्री रेख आर्य प्रयाग राज कुंभ मैं मोजूद त थी तो कोई उन्हें इस रूप में पहचान नही पाया कि वो उतराखण्ड राज्य की त्रिवेंद्र सरकार की मंत्री है।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here