सीएम ने कहीं यह बड़ी बातें…..

  • इस वर्ष प्रदेश के सभी गांवों को जोड दिया जायेगा सड़क मार्ग से।
  • 26 जनवरी से किसानों को उपलब्ध कराये जायेंगे शून्य दर पर कृषि ऋण।
  • जुलाई, 2019 तक प्रदेश के सभी गांवों को जोडा जायेगा इण्टरनेट से।
  • उत्तराखण्ड पहला राज्य जहां शहीद परिवार के आश्रितो को प्रदान की जा रही है सरकारी नौकरी।
  • प्रदेश में एअर एम्बुलेंस सेवा होगी 26 जनवरी, से आरम्भ।
  • चीड के उत्पादों के लिये तकनीकि जानकारी प्राप्त करने के लिये 10 विशेषज्ञों का दल भेजा जायेगा इंडोनेशिया।
देहरादून । मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को 134 वर्षों से आयोजित हो रहे पौराणिक डाडामंडी गेंद मेले में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि 2019 तक प्रदेश के 250 तक की आबादी वाले गांवों को सडक मार्ग से जोड दिया जायेगा। चीड को अभिशाप के बजाय वरदान में बदलने के लिये इसके उत्पादों के तकनीकि सहयोग के लिये इंडोनेशिया से वार्ता की गयी है। शीघ्र ही 10 विशेषज्ञ लोगों को इस दिशा में तकनीकि प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिये इंडोनेशिया भेजा जायेगा। इससे 143 प्रकार के विभिन्न उत्पाद तैयार किये जा सकते हैं। यह हमारी आर्थिकी का गेम चेंजर बन सकता है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सीमित वित्तीय संसाधनों के बावजूत हमें किसानों व कास्तकारों के व्यापक हित में शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण उपलब्ध कराने का निर्णय किया है यह योजना 26 जनवरी से आरम्भ की जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जुलाई 2019 तक प्रदेश के सभी गांवों को इण्टरनेट से जोडने का हमारा प्रयास है। इससे सुदूरवर्ती क्षेत्रों तक टेलीमेडिशन व टेलीरेडियोलाॅजी की सुविधा इन क्षेत्रों के अस्पतालों से उपलब्ध होने लगेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुशासन एवं भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन प्रदान करना उनका उद्देश्य है सचिवालय एवं मुख्यमंत्री कार्यालय को दलालो से मुक्त किया गया है। सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लायी गई है। देहरादून में बन रहे फ्लाई ओवर व टनल आदि का निर्माण समय से पूर्व निर्मित कराने से करोडों की बचत हुई है। उन्होंने कहा कि बीस महीनों के उनके नेतृत्व ने राज्य को बहतरीन दशा और दिशा देने के लिए कई नीतिगत निर्णय लिये हैं जो कि आगे चलकर मील का पत्थर साबित होंगी। जिसमें निवेशक सम्मेलन मुख्य है। इसके तहत राज्य में एक लाख 25 हजार करोड़ के एमओयू साइन किये गये। जबकि अभी तक 34 हजार करोड के निवेश के प्रस्ताव आये हैं। उन्होंने भ्रष्टाचार मुक्त सरकार के अपने संकल्प को दोहराया। कहा कि बीस महीनों में जीरो टाॅलरेंस के तहत 60 से अधिक भ्रष्टाचारी आज जेल की हवा खा रहे हैं।
राज्य में वर्ष 2012 के बेस लाइन सर्वें के आधार पर राज्य में 5 लाख से अधिक परिवारांे के शौचालय बनाये जा चुके हैं। फलस्वरूप राज्य खुले में शौच की प्रथा से मुक्त (ओडीएफ) हुआ। इसके अलावा राज्य के सरकारी कर्मचारियों को एसीपी और एचआरए का सर्वाधिक लाभ देने पर उत्तराखंड देश के ऐसे अग्रणी राज्य बन गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमारे दक्ष युवा स्वरोजगार के क्षेत्र में आगे आकर प्रदेश के विकास में भागीदारी निभा रहे है। वे रोजगार प्राप्त करने वालों के बजाय रोजगार देने वाले बन रहे है। युवाओं का यही दृष्टिकोण राज्य को स्वावलम्बी बनाने में मददगार होंगे।
इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने गेंद मेले को राजकीय मेला घोषित करने, डाडामंडी मैदान के सुधारीकरण के लिये 38 लाख की धनराशि तथा मटियाला खोह नदी झील निर्माण के लिये 29 लाख की धनराशि प्रदान करने के साथ ही मटियाल इण्टर काॅलेज का नामकरण स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व0 सोहन सिंह रावत के नाम पर किये जाने की घोषणा की। उन्होंने डाडामंडी इण्टर काॅलेज भवन की मरम्मत के लिये भी आवश्यक धनराशि प्रदान करने के साथ ही क्षेत्र के विकास से सम्बन्धित स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल, सड़क व विद्युत सम्बन्धित विभिन्न योजनाओं के लिए आवश्यक धनराशि को उपलब्ध कराने की भी घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने पौड़ी- टिहरी जिलों को जोडने वाले सिंताली पुल को आॅल वेदर रोड से जोड़ने तथा एशियन बैंक के तहत निर्माण कराये जाने की बात कही। विकास खंड यमकेश्वर में नालीखाल-वंचूली मार्ग, नौगांव-चोपड़ा-खटोलगांव -सुनारगांव मोटर मार्ग, द्वारीखाल में गिरमोली खाल-सुराड़ी मोटर मार्ग, सिमल्या डांडा और धारकोट चिल्मा अमोला मोटर मार्गों का निर्माण एससीपी के तहत बनाये जाएंगे। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने क्षेत्र की कंदरासू, कोटामल्ला, रणचुला, फल्दाकोट, परिंदागांव पेयजल योजना निर्माण तथा गंगा भोगपुर में मिनीनलकूप निर्माण की मांग को शीघ्र पूरा करने की बात कही। द्वारीखाल ब्लाक के अस्पताल में पैथोलॅाजी लैब की सेवा आदि को टैलीमेडिसिन सेवा से जोड़ने तथा आगामी जुलाई-अगस्त माह तक राज्य के सभी गांवों तथा दूरस्थ क्षेत्रों को इनटरनेट सेवा से अच्छादित किये जाने की भी बात कही।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उन्होंने पर्वतीय क्षेत्रों की भौगोलिक स्थितियों को करीब से देखा है। हमारे पहाड़ों में कई बार लोगों को इलाज के लिए भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। हम नहीं चाहते कि कोई गरीब व्यक्ति पैसों की कमी के कारण बेहतर इलाज के लिए तरसता रह जाए। इसके लिये अटल उत्तराखण्ड आयुषमान योजना शुरू की गई है। आज यूनिवर्सल हेल्थ कवर स्कीम शुरू करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य है।
इस अवसर पर यमेश्वर विधायक ऋतु भूषण खंडूड़ी ने केंद्र द्वारा राज्य में संचालित विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बेहतर संचालन के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने अपने क्षेत्र की विभिन्न मांगे मुख्यमंत्री के समक्ष रखी। इस मौके पर मेला आयोजकों और राजेंद्र ंिसह रावत, संरक्षक शशि देव डोबरियाल समेत विभिन्न विभागांें के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here