आपको बता दे कि प्रदेश के 84 निकायों में अब दो दिसंबर यानी रविवार को शपथ ग्रहण समारोह होगा। इसी दिन गठन के साथ ही निकायों के बोर्ड की पहली बैठक होगी। ओर इस बैठक के आरंभ होने से पूर्व निकायों में मेयर, अध्यक्ष, पार्षद और सभासद पदों पर निर्वाचित 1148 जनप्रतिनिधि अपने पद एवं गोपनीयता की शपथ लेेंगे।
अपर सचिव (शहरी विकास) भूपाल सिंह मनराल द्वारा जारी शासनादेश में बोर्ड की बैठक और शपथग्रहण कराए जाने की सूचना गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के आयुक्तों और जिलाधिकारियों को भेज दी गई है। उन्हें नगर निकायों के नगर आयुक्तों और अधिशासी अधिकारियों को निर्धारित तिथि एवं समय पर शपथ ग्रहण कार्यक्रम संपन्न कराने को निर्देश देने को कहा गया है। आपको बता दे कि 20 नवंबर को मतगणना के बाद ही परिणाम घोषित हुए थे।
ओर तब से सभी नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों की शपथ का इंतजार हो रहा था। इससे पूर्व सोमवार को राज्य चुनाव आयोग की अधिसूचना के बाद शहरी विकास विभाग ने भी निकायों में बोर्ड का गठन कराए जाने की स्वीकृति की अधिसूचना जारी कर दी थी। मंगलवार को उत्तराखंड की सभी नगर पालिका परिषदों, नगर पंचायतों के बोर्ड के विधिवत गठन की स्वीकृति की अधिसूचना जारी की गई।
आपको एक बार फिर बता दे कि
18 नवंबर को नगर निकाय के चुनाव के लिए मतदान हुआ था
20 नवंबर को मतगणना के बाद चुनाव परिणाम घोषित हुए जिसमे से
34 निकायों के मेयर और अध्यक्ष पद पर भाजपा को जीत मिली जबकि
25 निकायों में मेयर और अध्यक्ष पद पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की ।ओर
24 निकायों के और अध्यक्ष पद पर निर्दलियों का कब्जा रहा।वही
1064 पार्षद और सभासद पदों के लिए भी मतदान हुआ था जिसमे
551 पाषर्द और सभासद पदों पर निर्दलियों ने कब्जा जमाकर अपनी ताकत का एहसास कराया वही
323 पार्षद और सभासद पद पर भाजपा ने जीत दर्ज की
182 पार्षद और सभासद पद पर कांग्रेस विजयी रही
08 पदों पर बसपा 4, आप  2 यूकेडी व एसपी  1-1पद पर जीती दर्ज की थी बहराल इन सभी के इंतज़ार की घड़ियां खत्म हो चुकी है क्योकि आगमी 2 दिसबर से सपथ लेने के साथ ही अब इनके आगे आगामी 5 साल तक जनता की नज़र में खरा उतरने की चुनोतियाँ होगी।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here