उपचार के लिए नहीं जाना पड़ेगा राज्य से बाहर: बलूनी

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख और राज्यसभा सांसद पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी ने राज्य आंदोलन के अमर शहीदों को नमन करते हुए प्रदेशवासियों को 19वें स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी । इस अवसर उन्होंने अटल जी का भी स्मरण किया जिन्होंने राज्य की आन्दोलित जनता की मांग का सम्मान करके पृथक राज्य की मांग को स्वीकार किया था।
आपको बता दे कि स्वास्थ्य के विषय पर निरंतर कार्य कर रहे सांसद बलूनी ने बताया कि वह एक ऐसी कार्ययोजना पर कार्य कर रहे हैं कि आगामी पांच- छः वर्षों में राज्य के नागरिकों को उपचार के लिए उत्तराखंड से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उनका उच्च कोटि का उपचार राज्य के भीतर ही संभव हो सकेगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में यह कार्य उत्तराखंड के लिए मील का पत्थर साबित होगा। शीघ्र ही इस कार्ययोजना से विस्तार से अवगत कराया जाएगा।

अनिल बलूनी ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सबसे बड़ी समस्या है । वे इसके निदान हेतु निरंतर इस दिशा ने प्रयासरत है। इसी क्रम में वे अपनी सांसद निधि से प्रतिवर्ष 3 से 4 अस्पतालों को आईसीयू,वेंटीलेटर सुविधा युक्त बनाने का संकल्प किया है। सेना और अर्ध सेना के अस्पतालों के माध्यम से भी प्रयास किया है कि वे सामान्य नागरिकों के लिए कुछ घंटे की ओपीडी सेवा प्रदान करें। ताकि प्राथमिक उपचार का लाभ आम जनता को मिले। 

सांसद बलूनी ने कहा अपने संसदीय कार्यकाल में उक्त कार्ययोजना को धरातल पर लाने का प्रयास करेंगे ताकि राज्य की जनता को उपचार के लिए राज्य से बाहर दिल्ली, चंडीगढ़, बरेली इत्यादि शहरों को ना जाना पड़े और अपने ही राज्य में उच्च कोटि का समुचित उपचार मिल सके।
बहराल पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी का विजन है एक न्यू उतराखंड का ओर इसी विज़न अपने मिशन पर अनिल बलूनी लगातार काम कर रहे है वो भी नीतिगत ओर कार्ययोजना बनाकर जिसमे समय तो लगना स्वाभाविक है पर नामुकिन नही। ओर जब बलूनी किसी काम को हाथ में लेते है तो वो काम धरातल पर जरूर दिखाई देता है ।जिसका उदहारण बलूनी के कम समय मे किये गए कार्य है
पहाड़ पुत्र अनिल बलूनी को सुभकामनाये की वो राज्य हित में लगातार वो कार्य करेगे जिन को लेकर अभी तक के नेताओ ने सिर्फ भाषण ही दिया वादे ही किये पर धरातल पर कुछ नही किया ।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here