देवभूमि का 23 साल का जवान देश के लिए शहीद हो गया , इकलौते घर के चिराग थे राजेन्द्र, शहादत को सलाम

आपको बता दे कि गंगोलीहाट विकासखंड के बडेना (बुंगली) के वीर सैनिक राजेंद्र सिंह बुंगला बृहस्पतिवार को जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। बृहस्पतिवार को राजेंद्र के घायल होने की सूचना मिली थी। शुक्रवार को जिला मुख्यालय से पर्यावरण बटालियन के जवानों ने राजेंद्र के घर पहुंचकर उनकी शहादत की सूचना दी।
आपको बता दे कि राजेंद्र सिंह बुंगला (23) पुत्र चंद्र सिंह जाट रेजीमेंट (टीए) में सिपाही थे। वह वर्ष 2015 में भर्ती हुए थे। राजेंद्र दो माह पहले ही राष्ट्रीय राइफल (आरआर) में तैनात हुए थे। सैन्य सूत्रों के अनुसार बृहस्पतिवार को जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में राजेंद्र गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। राजेंद्र की शहादत की खबर मिलने के बाद उसके घर में कोहराम मचा हुवा है ।
सबसे बडी बात ये है कि घर में इकलौते थे राजेंद्र।
गांव के साथ ही आसपास के गांव के लोग शहीद के घर सांत्वना देने पहुंच रहे हैं। शहीद के पिता चंद्र सिंह माता मोहनी देवी के साथ ही बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है। शहीद का पार्थिव शरीर आज बरेली से सैन्य वाहन से पिथौरागढ़ पहुंच रहा है  
पिथौरागढ़ से पार्थिव शरीर को बडेना गांव ले जाया जाएगा। शहीद राजेंद्र अविवाहित और परिवार के इकलौते पुत्र थे। उनकी बड़ी बहन रेखा देवी का विवाह हो चुका है। छोटी बहन सीमा ने इंटर पास किया है।

ओर उनकी सबसे छोटी बहन पूजा कक्षा 10 में पढ़ती है। राजेंद्र ने जीआईसी चहज से इंटर की पढ़ाई की थी। बता दें कि 8 अगस्त 2017 को सुगड़ी निवासी पवन सुगड़ा आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए थे। 21 वर्षीय पवन भी अविवाहित थे।
जवान की शहादत पर बोलत उत्तराखंड अपनी पूरी टीम की तरफ से श्रदांजलि अर्पित करता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here