बल भाई जी गढ़वाली विरोधी हो गई कांग्रेस अब !

 

श्री प्रीतम सिंह जी
प्रिय अध्यक्ष
प्रदेश कांग्रेस कमेटी
उत्तराखण्ड

*विषय:- प्रवक्ता पद से इस्तीफा, गढ़वाली विरोधी कांग्रेस, EVM पर अब हम न बोल पाएंगे, कांग्रेस के उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं!*

प्रिय अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह जी बड़ा दुखद है कि देहरादून के मेयर पद पर भी वही किया जो आपके कार्यकाल में लगातार चलता आ रहा है –
1. महानगर अध्यक्ष से गढ़वाली को हटाया
2. परवादून अध्यक्ष पद से गढ़वाली को हटाया
3. पछवादून अध्यक्ष पद से मुस्लिम को हटाया
(अब तीनों पर पर एक विशेष जाती के लोग)

4. सेवादल प्रदेश अध्यक्ष पद से गढ़वाली को हटाया

पूर्व में नगर निगम देहरादून के तीन चुनाव हुवे और दोनों राष्ट्रीय पार्टीयों ने सिर्फ गढ़वाली व्यक्ति को ही टिकट दिया
2003 – बीजेपी विनोद उनियाल, कांग्रेस मनोरमा शर्मा डोबरियाल (दोनों गढ़वाली)
2008 – बीजेपी विनोद चमोली, कांग्रेस सूरत सिंह नेगी (दोनों गढ़वाली)
2013 – बीजेपी विनोद चमोली, कांग्रेस सूर्य कांत धस्माना (दोनों गढ़वाली)
2018 – बीजेपी सुनील उनियाल गामा, कांग्रेस दिनेश अग्रवाल.. क्यों?
(अभी भी वक्त है हीरा सिंह बिष्ट जी को तैयार कीजिये)
सोशल इंजीनियरिंग का ख्याल राजनीतिक फैसलों में न होना किस तरह से परिपक्वता कहि जाएगी।

प्रिय अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह जी हम EVM के ऊपर आरोप लगाते हैं और इस बार उत्तराखण्ड निकाय चुनाव EVM नहीं मतपत्र(बेलेट पेपर) से हो रहे हैं। अगर हम गलत नीतियों, गलत प्रत्याशी चयन के कारण हार गए तो पूरे देश में EVM – मतपत्र की बात पर हम फिर कुछ न बोल पाएंगे। इस लिए आपसे करबद्ध निवेदन है कि प्रत्याशी सही चुने जो कम से कम अपने कार्यकर्ताओं को अपशब्द, गाली न देता हो। मेरी जितने भी लोगों, कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवियों से बात हुई सभी हीरा सिंह बिष्ट जी को सही उम्मीदवार मानते हैं।

दूसरी बात हारे हुवे विधायक प्रत्याशियों के द्वारा पार्षद प्रत्याशी चयन भी गलत है, जो खुद ही हार गए वो सही प्रत्याशी चुनेंगे ये तो उचित प्रतीत नहीं होता। जब संसदीय बोर्ड ने आपको प्रत्याशी चयन के लिए अधिकृत किया तो ये हारे हुवे विधायक प्रत्याशी कैसे पार्षद प्रत्याशी चयन कर रहे।

मान्यवर महानगर अध्यक्ष श्री लाल चंद शर्मा जी द्वारा प्रेस को यह कहना कि कांग्रेस के पास देहरादून मेयर के लिए 5-6 ही आवेदन हैं, सरासर झूठ है। जबकि कांग्रेस में भी 20 आवेदन हुवे थे। दूसरी और बीजेपी 20 आवेदन बता कर हमसे बड़त ले रही थी। इस पर महानगर अध्यक्ष पर अनुशासनात्मक कार्यवाही होनी चाहिए।

प्रिय अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह जी जब मेयर/अध्यक्ष के टिकट पूर्व मंत्री जी, पूर्व मंत्री की पत्नी जी, पूर्व मंत्री के बेटे जी को ही होना है, तो कार्यकर्ता क्या करेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राहुल गांघी जी की युवा सोच का क्या होगा।

ऐसे में प्रदेश प्रवक्ता के रूप में टीवी चैनलों पर जा कर पार्टी का पक्ष रखना मेरे लिए सम्भव न होगा। अतः मुझे इस पद से मुक्ति प्रदान करें।

अंत में बस इतना ही कहूंगा कि अपने फैसले पर पुनर्विचार अवश्य करें। साथ ही प्रदेश प्रवक्ता के पद से मेरा इस्तीफा स्वीकार कर कृतज्ञ करें।

प्रतिलिपि-
1) राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राहुल गांधी
2) राष्ट्रीय महासचिव श्री हरीश रावत
3) पूर्व अध्यक्ष श्री किशोर उपाध्यय
4) अध्यक्ष अनुशासन समिति श्री प्रमोद कुमार सिंह

धन्यवाद

आपका
संजय भट्ट
प्रवक्ता
उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी
9897914034

 

बहराल देहरादून में मेयर पद पर जबरदस्त घमासान देखने को मिलेगा । और इस राजनीतिक जंग में  सुनील गामा ओर दिनेश अग्रवाल के बीच काटे की टक्कर देखने को मिलेगी , ओर इस बीच रजनी रावत को जनता की वही वोट दे पाएगी जो इससे पहले रजनी को मिला है  अगर   ये हुवा तो रजनी  रावत बीजेपी हो या कांग्रेस दोनों के पसीने निकाल देगी । आगे देखो फिर कोन से पत्र और किसका इस्तीफा कहा से   आता है और क्या  आरोप लगता है । पर संजय भट्ट ने ये  खुला पत्र लिखकर गामा की हिमत्त ओर बढ़ा दी है और बीजेपी को मौका दे दिया एक नई धार का

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here