उत्तराखंड: अलग-अलग हादसों में तीन युवकों की मौत 

 

उत्तराखंड: एक ही रात कई घरों के ‘सूरज अस्त’, अलग-अलग हादसों में तीन युवकों की मौत

आपको बता दे कि तीन परिवारों के लिए बीती रात सितम बनकर टूटी। रात में हुए तीन अलग-अलग हादसों में तीन युवकों की मौत हो गई। रुद्रपुर में दोस्त के साथ बाइक से बिलासपुर लौट रहे युवक की अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत हो गई। इसके अलावा काशीपुर में एक शादी में शामिल होने गए नौजवान को भी अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। वहीं मेलाघाट खटीमा में सड़क पर खड़ी बस से टकराकर बाइक सवार युवक घायल हो गया, अस्पताल में चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

आपको बता दे कि मूलरूप से नगरियाखुर्द लालपुर बिलासपुर यूपी का रहने वाला अनादि हलदार (30) पुत्र जीवन हलदार काशीपुर रोड स्थित एक आटो पार्ट्स बनाने वाली कंपनी में काम करता था। बृहस्पतिवार रात अनादी अपने दोस्त सुनील के साथ बाइक से घर की ओर जा रहा था। यूपी बार्डर के पास स्थित चड्ढा पेपर मिल पर सामने से आ रहा अज्ञात वाहन बाइक को टक्कर मारकर फरार हो गया। लोगों ने दोनों घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने अनादि को मृत घोषित कर दिया। सुनील का अस्पताल में उपचार चल रहा है। मृतक के परिजनों के अनुसार अनादि का विवाह छह साल पहले अशोक नगर मानपुर ओझा बिलासपुर यूपी निवासी माला से हुआ था। उसके दो बच्चे अभिजीत और अभय हैं।

विवाह में शिरकत करने आए होटलकर्मी को अज्ञात वाहन ने रौंदा
हरियावाला निवासी रोहित कुमार (20) पुत्र चिम्मनलाल कुंडा थाने के ग्राम बसई निवासी उमेश की बारात में माता मंदिर रोड स्थित पंजाबी सभा आया था। बृहस्पतिवार रात करीब दो बजे रोहित और उसका साथी हरजीत दुल्हन को विदा कराने के लिए कार लेने हरियावाला गए थे। वहां से हरजीत कार लेकर वापस पंजाबी सभा लौट रहा था। उसके पीछे बाइक से रोहित आ रहा था। ढेला पुल के पास अज्ञात वाहन ने बाइक को टक्कर मार दी। हरजीत कुछ लोगों की मदद से उसे राजकीय चिकित्सालय ले गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। रोहित चार बहन और दो भाइयों में सबसे छोटा था। उसके पिता मजदूरी करते हैं। रोहित चार महीने पहले ही हल्द्वानी से होटल मैनेजमेंट का कोर्स पूरा करके रामनगर रोड स्थित एक होटल में नौकरी कर रहा था।

जागरण से लौट रहे व्यापारी की सड़क हादसे में मौत
एक बाइक से टकरा गई। हादसे में घायल सर्वजीत को परिजनों ने तत्काल अस्पताल पहुंचाया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो हादसे के समय व्यापारी ने हेलमेट नहीं पहना था। मृतक के चाचा धर्मेंद्र ओर हरेंद्र ने बताया कि सर्वजीत दो भाइयों में बड़ा था और चाउमीन बेचकर परिवार का भरण-पोषण करता था। वह अपने पीछे पत्नी कलिंदा और एक वर्षीय पुत्र नमन को छोड़ गया है। इधर, कस्बे में प्राइवेट बसों को रात में सड़क पर लाइन से खड़ा होने से हादसों की आशंका बनी रहती है। कुछ बसों को पार करने के बाद एक बस के हिस्से से बाइक टकरा गई। झनकईया थाना प्रभारी प्रभात कुमार ने बताया कि बस को कब्जे में लेकर थाने में खड़ी करा दी है। समाचार लिखे जाने तक पुलिस को तहरीर नहीं सौंपी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here