हरदा बोले- नाच न आए आंगन टेढ़ा, जानिए क्यों…

15वें वित्त आयोग की टीम कल से दौरे पर, हरदा बोले- नाच न आए आंगन टेढ़ा, जानिए क्यों…

प्रदेश में 15वें वित्त आयोग की टीम सोमवार को दौरे पर आ रही है. इस दौरान टीम राजधानी दून में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करेगी. इसके अलावा टीम नैनीताल में भी राज्य के जनप्रतिनिधियों के आलावा स्टेक होल्डर से भी मुलाकात करेगी. साथ ही दूरस्थ इलाकों का हवाई सर्वे भी किया जाएगा.

वित्त मंत्री प्रकाश पंत का कहना है, कि वित्त आयोग हर 5 साल में बैठ करता है. वित्त आयोग की टीम राज्य से मेमोरेंडम लेती है और उसके बाद संतुतियां केंद्र को प्रेषित की जाती है. 14वें वित्त आयोग ने जो संतुतियां प्रेषित की थीं उसकी वजह से राज्य को काफी परेशानियों को सामना करना पड़ा. उनके जो प्रोजेक्शन थे वह सत्य से काफी परे थे. जिसकी वजह से राज्य को उतना पैसा नहीं मिला पाया जितना मिलना चाहिए था.
प्रकाश पंत ने कहा कि, डेब्यूलेशन के लिए 42 पर्सेंट टैक्सेशन को डिसवर्ष करने का फॉर्मूला बनाया था. उसमें जो मानक निर्धारित किए गए थे उनके आधार पर लगभग .5 परसेंट का नुकसान हुआ. इसके अलावा तीसरी दिक्कत ये हुई कि राज्य को केंद्र से जो अतिरिक्त सहायता मिलती थी वो भी मिलनी बंद हो गई.

वर्तमान वित्त में 15वें वित्त आयोग की संतुति आनी शुरू हो गई हैं. उसके लिए टीम भ्रमण कर रही है. सरकार उनके समक्ष अपने विषयों को रखेगी. मेमोरेंडम पहले ही टीम के समक्ष रख दिया गया है. 70 प्रतिशत वन क्षेत्र होने के कारण राज्य के संसाधन काफी सीमित हैं हम केवल 30 प्रतिशत ही भूमि पर कार्य कर सकते हैं.

राज्य वित्त आयोग टीम के सामने ये बात रखी जाएगी कि उत्तराखंड को इको सर्विसेज का पैसा मिले. हिमालयन राज्यों को अतिरिक्त डेब्यूलेशन का प्रावधान किया जाए, जिससे पहले जो विसंगितियां आई हैं उनका समाधान निकल सके. रेवेन्यू डेफिसिट ग्रांट जो पिछली बार जीरो कर दी गई थी उसके लिए भी अतिरिक्त सहायत की जरूरत पड़ेगी.

उन्होंने बताया कि रेवेन्यू डेफिसिट ग्रांट हिमाचल को 42 हजार करोड़ मिली थी, जो काफी हद तक मददगार साबित हुआ है. इसी तर्ज पर आयोग की टीम से डिमांड की जाएगी कि उन्हें भी सहायता मिले. वित्त मंत्री ने बताया कि राज्य को हर साल दो से ढाई हजार करोड़ का रेवेन्यू डेफिसिट रहता है जिसे बढ़ाया जाए.

वहीं, वित्त आयोग की टीम के दौरे को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने त्रिवेंद्र सरकार पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि, जो टीम आ रही है उससे वह खजाना भरवा लें. अगर कांग्रेस ने खजाना खाली कर दिया तो इतने दिन ये चला कैसे. राज्य सरकार पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने.   कहा     कि नाच न आए आंगन टेढ़ा. सरकार को कांग्रेस की तरफ से सहयोग भी दिया जाएगा.
GST से राज्य को जो नुकसान हुआ उसकी भरपाई टीम को करनी चाहिए, क्योंकि 14वें वित्त आयोग से नुकसान हुआ है उसकी भरपाई 15वें वित्त आयोग को करनी चाहिए. ।


वही अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय महामंत्री एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री माननीय हरीश रावत के द्वारा उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में दर्शन लाल चौक स्थित पंचायती मंदिर में नवरात्रि के उपलक्ष में मां भगवती की दुर्गा पूजा एवं प्रसाद वितरण का कार्यक्रम किया गया जिसमें हरीश रावत ने पंचायती मंदिर में पहुंचकर मां दुर्गा की पूजा अर्चना की तत्पश्चात ही वहां आयोजित मां भगवती के भजन कीर्तन में लीन होकर 3:00 बजे से लेकर 5:00 बजे तक मां का गुणगान किया कीर्तन समाप्त होने के बाद हरीश रावत के द्वारा सभी भक्तजनों को एवं आम जनता को प्रसाद वितरण किया गया

इस अवसर पर मुख्य रूप से कार्यक्रम संयोजक एवं उत्तराखंड सरकार के पूर्व राज्य मंत्री सुशील राठी एवं हरिद्वार जिले से भगवानपुर की विधायक श्रीमती ममता राकेश एवं प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट एवं प्रदेश कांग्रेस की महामंत्री श्रीमती गोदावरी थाली एवं प्रदेश प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी एवं श्रीमती गरिमा दसोनी एवं आशा डोबरियाल शर्मा एवं राजीव जैन एवं मनोज नौटियाल एवं मनीष नागपाल एवं कमल रावत एवं कमलेश रमन एवं शांति रावत एवं डॉ सलमान गॉड एवं मनमोहन शर्मा एवं जसवीर रावत एवं विरेंद्र रावत एवं राव अफाक एवं धर्मेंद्र प्रधान एवं मनोज नौटियाल एवं हेमा पुरोहित एवं सुशील कुमार एवं शशि कुमार एवं विजय शैली एवं मालती देवी एवं नगर निगम देहरादून के पूर्व पार्षद विकास चौहान सहित सैकड़ों लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here