टूट गया 19 सालों का रिकॉर्ड , सावधान 48 घंटों में भारी बारिश का अलर्ट,मानसून आ चुका है।

ख़बर है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून सोमवार को उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में पहुंच चुका है और अभी से अगले 48 घंटों के दौरान राज्य के ज्यादातर क्षेत्रों में ये मानसून पहुंच जाएगा ।
जिसके चलते राज्य के अधिकांश क्षेत्रों में अधिक बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।
बता दे कि दक्षिण पश्चिम मानसून के सक्रिय होते ही बारिश ने हल्द्वानी में एक ही दिन में 19 वर्षों पुराना रिकार्ड तोड़ दिया है
हल्द्वानी में साढ़े आठ घंटों में ही 180 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। वहीं, अधिकतम तापमान ने भी नया रिकॉर्ड बनाया है। 11 साल बाद अधिकतम तापमान 24 जून को सबसे कम 26.4 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से नौ डिग्री सेल्सियस कम रहा जबकि न्यूनतम तापमान 24.5 डिग्री सेल्सियस रहा।
वही राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र ने सभी जिलाधिकारियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश हैं। सोमवार को मानसून ने कुमाऊं के मुक्तेश्वर क्षेत्र में दस्तक दी। इसके बाद मानसून तेजी से आगे बढ़ रहा है।
वही मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में परिस्थितियां अनुकूल होने के चलते अगले 48 घंटों में मानसून ज्यादातर हिस्सों में पहुंच सकता है। इसके चलते ऊधमसिंह नगर, नैनीताल और चंपावत के कुछ इलाकों में बहुत भारी बारिश हो सकती है। वहीं, पिथौरागढ़, चमोली, रुद्रप्रयाग, टिहरी और देहरादून में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है।
वही इस बारिश ने काश्तकारों के चेहरे पर मुस्कान लौटा दी है। सबसे बड़ी राहत धान की रोपाई वाले क्षेत्रों के किसानों को मिली है। काश्तकारों का मानना है कि कद्दू, लौकी के अलावा धान, मडुवा, झिंगोरा के लिए बारिश काफी फायदेमंद है।
बहराल
बारिश से जहा फायदा भी है तो आंधी तूफान से अधिक नुकसान भी उत्तराखंड के कही जिलो मैं हुवा है। अल्मोड़ा जिले में गोविंदपुर दौलाघट में पेयजल की चार लाइनों को नुकसान हुआ है। अल्मोड़ा-कोसी मार्ग पर स्यालीधार के पास चीड़ का पेड़ गिरने से जाम लग गया। पेड़ के साथ बिजली का तार भी टूटकर नीचे गिर गया।
इसलिए अनुमान है कि अब से 48 घण्टो के अंदर भारी बरसात हो सकती है इसलिए आप रहे सावधान , मकसद सिर्फ ख़बर बताना नही आपको जागरूक भी करना है।

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here