देहरादून से संचालित होने वाली 18 ट्रेनों के संचालन पर फिलहाल 12 अगस्त तक के लिए रोक लगा दी है इन ट्रैन पर लगी रोक

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

देहरादून से ट्रेनों के संचालित होने पर देश के विभिन्न राज्यों में घर जाने की राह ताक रहे हजारों यात्रियों को रेलवे बोर्ड ने करारा झटका दिया है।

रेलवे बोर्ड ने देहरादून से संचालित होने वाली 18 ट्रेनों के संचालन पर फिलहाल 12 अगस्त तक के लिए रोक लगा दी है।

जबकि इन ट्रेनों को 30 जून से नियमित तौर पर संचालित होना था।

बता दें, कोरोना संकट के चलते रेलवे बोर्ड ने तमाम ट्रेनों के संचालन पर रोक लगाई है। हालांकि केंद्र से ढील के बाद प्रवासियों के लिए विशेष श्रमिक ट्रेनों का संचालन किया गया।
वही पिछले दिनों से देहरादून से नई दिल्ली और देहरादून से काठगोदाम जाने वाली जनशताब्दी ट्रेनों संचालन किया।
रेलवे बोर्ड ने बाकी ट्रेनों को 30 जून से संचालित करने की तैयारी की थी।
इसके लिए उत्तराखंड से मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात समेत कई राज्यों के हजारों यात्रियों ने आरक्षण भी करा लिया था।
बहरहाल वर्तमान में संचालित 200 से अधिक ट्रेनों में यात्रियों की बेहद कम संख्या को देखते हुए देहरादून से संचालित होने वाली 18 ट्रेनों के संचालन पर 12 अगस्त तक के लिए रोक लगा दी गई है।
रेलवे अधिकारियों के अनुसार ट्रेनों का संचालन 13 अगस्त से नए सिरे से शुरू किया जाएगा। 

इन सभी ट्रेनों पर है रोक
रेलवे बोर्ड ने देहरादून-हावड़ा दून एक्सप्रेस, उपासना एक्सप्रेस, देहरादून-दिल्ली मसूरी एक्सप्रेस, देहरादून-इलाहाबाद लिंक एक्सप्रेस, देहरादून-वाराणसी दून एक्सप्रेस, देहरादून-उज्जैन उज्जैनी एक्सप्रेस, देहरादून-इंदौर इंदौर एक्सप्रेस, देहरादून-मुंबई बांद्रा एक्सप्रेस, देहरादून-ओखा उत्तरांचल एक्सप्रेस,  देहरादून-अमृतसर, देहरादून-मुजफ्फरनगर, देहरादून-मदुरई, देहरादून- कोटा नंदा देवी एक्सप्रेस, देहरादून-सहारनपुर पैसेंजर, देहरादून-कोच्चिवैली एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों के संचालन पर रोक लगाई है।

वही जिन ट्रेनों के संचालन पर रोक लगाई गई है। उनके यात्री अपना टिकट रिफंड करा सकते हैं। यात्रियों को जल्द से जल्द फंड दिया जा सके इसके लिए आरक्षण केंद्र में अधिक से अधिक कर्मचारियों की तैनाती भी की जा रही है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here